Monday, December 22, 2008

अमूल्य

जब कुछ
पाने का
देना पड़ता है
बहुत अधिक मूल्य
जैसे पसीना,
ढेरों आँसू,
बहुतायत में आहें
या अपना स्वाभिमान।


तब वह वस्तु
या वह व्यक्ति
अमूल्य बन जाता है,
न भी हो
बहुत कुछ उसमें ऐसा
तो भी हम कुछ यत्न
कुछ कल्पना कर
बना देते हैं उसे अमूल्य ।


न बनाएँ तो
जीवन मिथ्या गंवाया
सा लगने लगेगा ना
अपना इतना सब
यूँ ही
खोने देने की
पीड़ा भी तो
कुछ अधिक होगी ।


सो मानने लगते हैं
कि अमुक वस्तु या व्यक्ति
था और है
और रहेगा अमूल्य
अन्यथा अपने आँसुओं,
पसीने, आहों और
टूटे स्वाभिमान का
हो जाएगा अवमूल्यन ।


घुघूती बासूती

22 comments:

  1. जीवन तो बड़ा ही अमूल्य है |
    शायद इसी लिए कीमत सिर्फ़ भावनाओं की लगती है |
    बहुत सुंदर |

    ReplyDelete
  2. आपकी कविता पर तो मैं यह भी नही कह सकता बहुत खूब क्योंकि मेरा स्तर इतना नही की मैं सूर्य को दिया दिखा पाऊं . हां आपके लेखो से प्रेरणा जरूर लेता हूँ

    ReplyDelete
  3. जी बिल्कुल !

    ReplyDelete
  4. बहुत ही बहुमूल्य विचार!

    ReplyDelete
  5. सुंदर्।

    ReplyDelete
  6. घुघूती जी, नमस्कार.

    ReplyDelete
  7. क्या बात है....
    अन्यथा अपने आँसुओं,
    पसीने, आहों और
    टूटे स्वाभिमान का
    हो जाएगा अवमूल्यन

    वाह !

    ReplyDelete
  8. लाजवाब रचना !

    रामराम !

    ReplyDelete
  9. न बनाएँ तो
    जीवन मिथ्या गंवाया
    सा लगने लगेगा ना
    अपना इतना सब
    यूँ ही
    खोने देने की
    पीड़ा भी तो
    कुछ अधिक होगी ।
    'लाजवाब"
    Regards

    ReplyDelete
  10. अवमूल्यन से मंहगाई ?

    ReplyDelete
  11. न बनाएँ तो
    जीवन मिथ्या गंवाया
    सा लगने लगेगा ना
    अपना इतना सब
    यूँ ही
    खोने देने की
    पीड़ा भी तो
    कुछ अधिक होगी ।

    बहुत सुंदर बात कही आपने इस रचना के माध्यम से .

    ReplyDelete
  12. ओ मां,
    आपने तो ग़ज़ब ढादिया,
    जो कुछ जीवन मे होता है
    आपने अपने मीठे शब्दों मे बयान करदिया

    ReplyDelete
  13. सही है जी - हम भी बहुधा सोचते हैं ऐसा।
    यह तो कॉण्ट्रेरीथिंकिंग की चाहत उल्टा सुचवाती है यदा कदा।

    ReplyDelete
  14. क्या बात है....! प्रशंसा को शब्द ढूँढ़ने पड़ रहे है....! बहुत खूब..! उत्तम...!

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर कविता, सच

    -------------------------
    http://prajapativinay.blogspot.com/

    ReplyDelete
  16. यह शब्‍द आपके अनुभव की कहानी कह रहीं हैं...बहुत खूब

    ReplyDelete
  17. bahut khoob kha...sach hai jisse pyaar ho jata hai...use ham hi amoolya bana dete hai aur phir wo amoolya vyakti khud ko mahanga banaker Dil ko gareeb hone ka ehsaas karwa jata hai

    ReplyDelete
  18. bahut hi bahumuly vichar!

    ReplyDelete
  19. अमूल्य बात कह दी आपने -

    ReplyDelete
  20. badi kamaal ki baat lagi hume to...itni aasani se kuchh sikhaa diya

    hasy-vyang mein ek koshish:
    http://pyasasajal.blogspot.com/2008/12/blog-post_5104.html

    ReplyDelete
  21. prathmikta tay karne ki chhoot to shayad hai!
    aise samvad kyon ubhar rahe hain, jahan samvad ki gunjaish n ho? punarvichar nivedniy.

    ReplyDelete