Thursday, December 18, 2008

निःसारता

एक उम्र गुजर जाती है
उम्र गुजरने का एहसास होने में,
सब कुछ बिखर जाता है
बिखराव का एहसास होने में ।


रेत सा फिसल जाता है जीवन
देर हो जाती है समझ आने में,
हाथ हो जाता है खाली बिल्कुल
निःसारता की समझ आने में ।


घुघूती बासूती

28 comments:

  1. बहुत गहरी बात। ...क्या सचमुच ऐसा होता है?
    एक उम्र गुजर जाती है
    उम्र गुजरने का एहसास होने में।

    ReplyDelete
  2. बहुत गहरी बात कही है आपने

    जिन्दगी का सार शायद यही है

    इसीलिए खाते है की जिदगी सिखाती है कुछ

    ReplyDelete
  3. सच है, जब तक ज़िन्दगी की समझ आती है..
    टाइम इज़ अप का घंटा बजने को होता है !

    ReplyDelete
  4. गिनने लगें उपलब्धियां तो यही होगा
    हाथ आएगी रेत ही
    हम देखें मुहँ बाएं खड़े हैं काम
    तो नजर आने लगेगा जीवन आगे भी
    और पीछे भी।

    ReplyDelete
  5. रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में,
    हाथ हो जाता है खाली बिल्कुल
    निःसारता की समझ आने में ।



    बहुत गहरी बात!!!!!!!!1

    ReplyDelete
  6. रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में,

    सही है अभी तक भी समझ नही आया है ! जिस पल लगता है कि अब समझ आगया , यही जीवन है उसी समय लगता है कि नही अब भी पहला ही दिन है ! शायद जितना समझने की कोशिश करो उतना ही रहस्य बढता जाता है !

    राम राम !

    ReplyDelete
  7. बहुत ऊँची बात कह दी. याद आ रहे हैं इस गीत के बोल "सब कुछ लुटा के होश में आए तो क्या हुआ"

    ReplyDelete
  8. very nice poem mam and true to every word . life needs to be lived but we dont and then at the fag end of the life we realise the foly

    ReplyDelete
  9. सब कुछ बिखर जाता है
    बिखराव का एहसास होने में ।
    " " भावनात्मक अभिव्यक्ति शानदार"

    Regards

    ReplyDelete
  10. रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में,
    हाथ हो जाता है खाली बिल्कुल
    निःसारता की समझ आने में ।

    सच बात कह दी जी।

    ReplyDelete
  11. हाथ हो जाता है खाली………। बहुत सुंदर्।

    ReplyDelete
  12. भावपूर्ण गम्भीर चिन्तन..........

    ReplyDelete
  13. बहुत अच्छा भावपूर्ण लेखन.
    नहीं लिख पा रहा हूं- निःसारता सामने खड़ी हो गयी है .

    ReplyDelete
  14. यथार्थ यही है...सही कहा है आपने.....

    ReplyDelete
  15. सच्चाई तो यही है .बहुत सुंदर कविता

    ReplyDelete
  16. गहरे दर्शन से परिपूर्ण कविता

    ReplyDelete
  17. जीवन का सारांश !

    ReplyDelete
  18. बहुत ही गूढ़ बात
    रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में
    बहुत खूब।

    ReplyDelete
  19. behad gahri baat, aur badi khoobsoorti se kaha hai.

    ReplyDelete
  20. यही सार है और
    भाव बोध भी
    सुँदर कविता !

    ReplyDelete
  21. इन दिनों कबीर को पढ रही हैं ? उलटबांसी और दर्शन का अद्भुत मिश्रण है ।

    ReplyDelete
  22. बेहतरीन भावाभिव्यक्ति के लिये बधाई

    ReplyDelete
  23. आप ही की कविता की पंक्तियों का कोलाज -

    उम्र गुजरने का एहसास हो जाता है
    निःसारता की समझ आने में

    ReplyDelete
  24. एक उम्र गुजर जाती है
    उम्र गुजरने का एहसास होने में,
    सब कुछ बिखर जाता है
    बिखराव का एहसास होने में ।

    वाह जी बहुत ही खुबसूरती से अपनी बात बोली है आपने थोडे शब्‍दों में बहुत कुछ बोल गए हो बहुत ही अच्‍छी अभिव्‍यक्ति के लिए बारम्‍बार बधाई एवं शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में,
    हाथ हो जाता है खाली बिल्कुल
    निःसारता की समझ आने में ।

    क्या खूब लिखा है भाई या बहन ?? घूघूती बासूती वाह रेत सा फिसल जाता है जीवन वाह

    ReplyDelete
  26. रेत सा फिसल जाता है जीवन
    देर हो जाती है समझ आने में,
    हाथ हो जाता है खाली बिल्कुल
    निःसारता की समझ आने में

    I wrote something similar a few years ago:

    Time Runs out
    Days turn into Years
    Decades into Millenia
    Eras have already gone
    A new year's eve
    or a birthday morning
    Reminds me that
    another year is gone forever
    I do not grow in height any more
    I grow wider though
    Have been standing for long
    Now, its time to go!

    ReplyDelete
  27. bahut sundar rachna . man ko chooti hui ..
    sach hi to hai , ek umr gujar jati hai , sab kuch aur bahut kuch samjhne mein ..

    badhai..

    pls visit my blog for some new poems.

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    ReplyDelete