Saturday, October 18, 2008

उसका साथ

सुलगते तनमन पर
सावन की भीगी हवाओं सा,
तपती मरु पर
वर्षा की बूँदों सा,
पैरों पड़ी बेड़ियों के घावों पर
शीतल मरहम सा,
स्वाति नक्षत्र में
बोता सीप में मोती सा,
चिर प्रतीक्षा कराता
दिन २९ फरवरी सा ।

घुघूती बासूती

20 comments:

  1. निकाला काँटे से काँटा कभी कभी हमने।
    चुभते तो दोनों मगर एक मेहरबान ठहरा।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. दिन २९ फरवरी सा...चार साल में एक बार याने कम आता है तो महत्वपूर्ण हो लिया है जी..वो ही आपके साथ हो रह है..आजकल इतना कम कैसे??

    भाई जी की तबीयत का सुना था..आशा है अब फिट फाट होंगे. कोशिश करके सूचना दे दिजियेगा.

    ReplyDelete
  3. आप की कविता बहुत अच्छी है
    बाकी सब ठीक हो यही आशा है

    ReplyDelete
  4. अक्टूबर मे फरवरी की स्मृति? लगता है आप के लिए कोई खास दिन है?

    ReplyDelete
  5. सुंदर कवि‍ता।

    ReplyDelete
  6. सुंदर कविता

    ReplyDelete
  7. अच्छा है ..

    ReplyDelete
  8. उसका साथ
    ;
    ;
    ;
    चिर प्रतीक्षा कराता
    दिन २९ फरवरी सा ।


    दिल को छूती हुई सी बात ..अच्छी लगी यह

    ReplyDelete
  9. कविता समझता कम हूँ,
    महसूस ज्यादा करता हूँ.

    अच्छी है. प्रतिक्षा को बेरन भी कह लें....

    ReplyDelete
  10. बहुत दिनो बाद आपको देखकर अच्छा लगा.. एक छोटी मगर सुंदर रचना के साथ..

    ReplyDelete
  11. एक छोटी सी कविता मगर गहरे भाव ...

    ReplyDelete
  12. २९ फ़रवरी !! जो प्रिय हो वह बहुत इन्तिज़ार करवाता है.. सच है.

    ReplyDelete
  13. Jab 'uska sath' hai to 'chir pratiksha' kaisi!!!

    ReplyDelete
  14. Sanjay ji se thoda alag kavita samjhta bhi bhi hu mahsoos jyada karta hu....It says lot.

    There are number of wellwishers....Hope Every thing is fine.

    ReplyDelete
  15. स्वाति नक्षत्र में
    बोता सीप में मोती सा,
    चिर प्रतीक्षा कराता
    दिन २९ फरवरी सा ।

    घुघूती बासूती
    wah
    aap ke pas shabadh pani ki tarah bah niklate he

    kabhi humare blog pr aaye
    dabba he pr dekh le kuch sudhar ho jayega
    regards

    ReplyDelete
  16. thanks people like u visit my blog and u r right my translation by google convertor is not proper many times i will my best in next post
    regards

    ReplyDelete
  17. सुंदर कविता। हमेशा की तरह।

    ReplyDelete
  18. चिर प्रतीक्षा कराता
    दिन २९ फरवरी सा ।

    ahaa kya kalpana hi di.....isiliye to aap best ho...badhai

    ReplyDelete
  19. बेहद खूबसूरत शब्दों में आपने यह दिल को छूने वाली बात कही। यही तो कविता की सच्चाई है।

    ReplyDelete
  20. bahut hi samvedansheel aur bhaavpurna....meri shubhkaamnaye....

    ReplyDelete