Friday, October 24, 2008

विसंगति

बगीचे में था
एक फलदार नींबू का पेड़
रसदार नींबुओं से लदा
एक विशाल वृक्ष,
परन्तु
उसकी बूढ़ी टहनियों को
अन्दर ही अन्दर से
दीमक खा रहे थे
बहुत इलाज कराए
एक डाली सूख ही गई ।

फिर जब आया वर्षा का मौसम
तेज हवाएँ उसे डगमगाने लगीं,
मैंने एक अनाम वृक्ष की
सूखी लकड़ी का टेका बना
दिया उसको सहारा ।

आधी वर्षा ‌ॠतु को
तो वह झेल गया
फल भी देता रहा,
दो महीने घर से बाहर रही
लौट कर आई तो देखा
नींबू का वृक्ष तो
सूखकर गिर चुका था
परन्तु उस अनाम वृक्ष की
वह सूखी टहनी
नींबू की टेका,
जड़ें जमाकर
हरे पत्तों से लदी
लहलहा रही थी।

विचित्र है प्रकृति का खेल
विसंगति तो देखो
बैसाखियाँ चल पड़ती हैं
पाँव जड़ हो जाते हैं ।

घुघूती बासूती

21 comments:

  1. Kya baat hai ...Deepawali ki shubh Kaamna Sa pariwaar tyohar ka anand lijiyega.
    sa sneh,
    -Lavanya

    ReplyDelete
  2. सुंदर रचना/जीवन में आशा का संचार करती हुई/दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें/

    ReplyDelete
  3. बात हीरा है बात मोती है।
    बात लाखों की लाज खोती है।
    बात हरएक बात को नहीं कहते,
    बड़ी मुश्किल से बात होती है।

    नयी आश जगाने वाली रचना है।

    दीपावली की शुभकामनाएँ।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. आनन्द आ गया इतनी गहरी रचना पढ़ कर.

    आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  5. विचित्र है प्रकृति का खेल
    विसंगति तो देखो
    बैसाखियाँ चल पड़ती हैं
    पाँव जड़ हो जाते हैं ।
    very nice and very apt

    ReplyDelete
  6. sir jee baisakhi ko hatho ka sahara hota hai, jis ko majbut sahara mil jaye wah jab tak dam ho aage badta hee hai. agar hath majbuti se baisakhi nahi pakdengi to baisakhi ke sath khud bhee gir jayega

    ReplyDelete
  7. नीम्बू के पेड़ और बैसाखी वाला अनुभव हमारे यहां भी हो चुका है। बढ़िया, सीडलेस, रसदार नीम्बू हुआ करते थे। दीमक ले गईं। बैसाखी छोड़ गयीं।

    ReplyDelete
  8. विचित्र है प्रकृति का खेल
    विसंगति तो देखो
    बैसाखियाँ चल पड़ती हैं
    पाँव जड़ हो जाते हैं ।

    गहरे भाव लिए बहुत सुंदर रचना लगी यह ..दीपावली की बधाई

    ReplyDelete
  9. विचित्र है प्रकृति का खेल
    विसंगति तो देखो
    बैसाखियाँ चल पड़ती हैं
    पाँव जड़ हो जाते हैं ।
    ठीक कहा ......संजय जी.ने .जिजीविषा

    ReplyDelete
  10. विचित्र है प्रकृति का खेल
    विसंगति तो देखो
    बैसाखियाँ चल पड़ती हैं
    पाँव जड़ हो जाते हैं ।

    waaah .....ya kaha hai....!

    ReplyDelete
  11. कविता सुंदर, लेकिन उसके पहले चित्र- लाजवाब। एक ही पौधे के पत्तों में इतने, और विलक्षण रंग!!!

    ReplyDelete
  12. बहुत गंभीर भाव शब्दों का सहज प्रवाह

    सुखमय अरु समृद्ध हो जीवन स्वर्णिम प्रकाश से भरा रहे
    दीपावली का पर्व है पावन अविरल सुख सरिता सदा बहे

    दीपावली की अनंत बधाइयां
    प्रदीप मानोरिया

    ReplyDelete
  13. Bahut badiya, diwali ki hardik subhkamnayein.

    ReplyDelete
  14. मूरख को तुम राज दियत हो, पंडित फिरत भिखारी, संतों, करम की गति न्यारी (मीरा)
    आपको दीवाली की बहुत बधाई!

    ReplyDelete
  15. दीपावली की शुभकामनाएं,
    एक संकल्प लें कि सभी को खुशी देकर ग़म का अँधेरा मिटायें.

    ReplyDelete
  16. आपको भी दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    यह दीपावली आप के परिवार के लिए सर्वांग समृद्धि लाए। - शम्भु चौधरी

    ReplyDelete
  17. yuN to aapka lekhan utkrist hai..lekh bhi padhe or kavitayen bhi.
    aapke parivesh ki jhalak aapke lekhan mein dikhti hai.
    ye kavita kuch zuda si lagii ..gahre saar liye sundar shabd .
    yakinan kabil-e-daad ..bandhaii swikaren.

    ReplyDelete