Tuesday, October 28, 2008

घुघूत जी का स्वास्थ्य समाचार

घुघूत जी का स्वास्थ्य समाचार

सभी बलॉगर साथियों व उनके परिवारों को दीपावली की शुभकामनाएं ।

आज से ठीक दो महीने पहले बुधवार को बड़ी बिटिया और मैंने घुघूत जी को हृदय की बायपास सर्जरी के लिए दिल्ली के एक हस्पताल में भर्ती करवाया था । भर्ती करवाते समय उनके दादा (भाई)भी हमारे साथ थे । थोड़ा सा भय तो था परन्तु बहुत नामी सर्जन के पास जाने से थोड़ी संतुष्टि भी थी । शाम तक उनके दूसरे भाई भी जो दो साल पहले स्वयं यह सर्जरी करवा चुके हैं अपने विदेश प्रवास से लौटकर मिलने आए । अगले दिन सुबह ६ बजे उन्हें औपरेशन थिएटर ले जाया गया । सर्जरी किए जाने वाले मरीजों के घरवालों में से केवल एक को एक प्रतीक्षा कक्ष में बैठाया गया । जिसकी भी सर्जरी हो जाती उसका नाम पुकारकर सम्बन्धी को सूचित किया जाता । फिर वह आइ सी यू में टोपी, दस्ताने व जूतों के ऊपर कवर पहनकर व हाथों को किटाणुमुक्त कर एक नजर अपने मरीज को देख सकता था । डॉक्टर से दो एक प्रश्न पूछ सकता था । लगभग पौने बारह बजे हमें सूचना दी गई कि औपरेशन हो गया है । मैं जाकर देख आई । उस समय आपका अपना व्यक्ति इतना असहाय, कमजोर व पराश्रित लगता है कि मन काँप जाता है । विभिन्न उपकरणों पर उसका जीवन निर्भर होता है । साँस तक स्वयं नहीं ले रहा होता है ।

फिर आइ सी यू के मरीजों के सम्बन्धियों के लिए बने प्रतीक्षा कक्ष में जाकर प्रतीक्षा करनी होती है। वहाँ भी जब किसी सम्बन्धी को डॉक्टर या मरीज बुलाता तो घोषणा की जाती । बड़ी बिटिया और मैं वहाँ बैठे घुघूत जी के होश में आने की प्रतीक्षा करने लगे । हमें बताया गया था कि लगभग आठ घंटों में होश आ जाएगा । लगभग साढ़े पाँच बजे उनका नाम पुकारा गया । पास पर हस्ताक्षर करवाकर मैं यह सोचकर मिलने गई कि शायद होश आ गया है । आइ सी यू में गई तो मुझे एक फॉर्म पर हस्ताक्षर करने को कहा गया । बताया गया कि अधिक रक्तस्राव के कारण दोबारा औपरेशन थिएटर ले जाना पड़ेगा और रक्तस्राव का कारण देखना व निदान करना होगा । मैंने हस्ताक्षर कर दिए । बताया गया कि अभी कुछ देर रक्तस्राव कम होने की प्रतीक्षा करेंगे । मुझे कहा गया कि औपरेशन थिएटर ले जाते समय मुझे बता दिया जाएगा । मैं वापिस प्रतीक्षा कक्ष में आ गई । बीच बीच में स्थिति का फोन पर पता लगाती रही। बताया गया कि रक्तस्राव कम हो गया है, शायद औपरेशन की आवश्यता नहीं पड़ेगी । दादा को फोन पर बताया तो उन्होंने भी जान पहचान के डॉक्टरों से बात की । घुघूत जी का भतीजा भी हमारे साथ था । रात को लगभग एक बजे जब फोन पर पूछा तो कहा गया कि आप यहाँ आ जाइए । बिटिया और मैं भागे भागे गए तो पता चला कि घुघूत जी को औपरेशन थिएटर ले जा चुके हैं । एक बजे से तीन बजे तक हम वहीं बाहर प्रतीक्षा करते रहे । नई नौकरी होने के कारण मैंने अपनी छोटी बेटी को शनिवार की सुबह को हवाईजहाज से दिल्ली पहुँचने को कहा हुआ था । अब स्थिति ठीक नहीं लग रही थी सो उसे फोन करके शुक्रवार याने उस सुबह को ही निकलने को कहा । तीन बजे एक सर्जन हाथ में एक खून के थक्कों से भरा जार लेकर बाहर निकलीं । उन्होंने बताया कि रक्तस्राव बिल्कुल ही बंद हो गया था, जो भी ठीक नहीं था । रक्तस्राव निकालने को जो ट्यूब डाली हुईं थीं वे पूरी तरह से थक्कों से भर गईं थीं । खैर, हमने फिर कुछ क्षण को घुघूत जी को देखा और वापिस प्रतीक्षा कक्ष में जाकर प्रतीक्षा करने लगे ।

सुबह छोटी बेटी भी पहुँच गई और हम उनके होश में आने की प्रतीक्षा करने लगे । लगभग ३० घंटों बाद दोपहर बारह के बाद उन्हें होश आया । वे अभी भी वैन्टिलेटर की सहायता से साँस ले रहे थे । वहाँ तीन आइ सी यू थे । मरीज की स्थिति में सुधार के अनुसार पहले से दूसरे फिर तीसरे में ले जाया जाता है । कहाँ कुल तीन दिन आइ सी यू में रहना था परन्तु वे तीन दिन पहले में व फिर दो दिन दूसरे व तीसरे में रहे । ये पाँच दिन हम लगभग हर समय प्रतीक्षा कक्ष में रहे । इसी बीच पता चला कि हस्पताल के एकदम पास एक धर्मशाला/गेस्टहाउस है, जो केवल मरीजों के परिचारकों के लिए बनी है । हमने वहाँ एक कमरा लिया और स्नानादि की सुविधा पास ही हो गई ।
छठे दिन घुघूत जी को उनके कमरे में ले जाया गया । अब मैं व एक बेटी उनके साथ रह सकते थे । हमें कहा गया था कि आठ दिन का पैकेज होता है और एक दो दिन अधिक लग सकते हैं । परन्तु घुघूत जी को कोई संक्रमण हो गया और हर दिन खून की जाँच की जाती और रिपोर्ट की प्रतीक्षा रहती । इस तरह दो सप्ताह निकल गए तब जाकर उन्हें घर ( दिल्ली में ही बिटिया के) ले जाया जा सका । सौभाग्य से घर लिवाने के समय तक हमारी बिटिया का पति जो विदेश गया हुआ था भी आ गया । हमने सोचा अब सब ठीक है परन्तु अभी भी समस्याएँ शेष थीं । हस्पताल ले जाकर टाँके कटवाए। दो दिन बाद ही देखा कि उनके एक घाव में संक्रमण हो गया है। फिर से हस्पताल जाकर दिखाया फिर से एन्टी बॉयेटिक्स शुरू किए गए । गुजरात वापिस जाने का समय आता जा रहा था । अब एक और घाव में संक्रमण हो गया । एक बार फिर हस्पताल गए । टिकट दो बार वापिस किए और अंत में डरते डरते १० अक्तूबर को वापिस गुजरात आ गए । पास के शहर के अपने डॉक्टर को फोन पर हाल सुनाया । वे अगले दिन अपने नर्सिंग होम में एक अन्य डॉक्टर को बैठा हमारे घर देखने आए । लगाने को नया मरहम बताया और तब से अब तक पूरी तरह से घाव भरने की प्रतीक्षा कर रही हूँ । आज कह सकती हूँ कि निन्यानवें प्रतिशत भर गए हैं ।

लगभग ढाई महीने के बाद घुघूत जी घंटे, दो घंटे के लिए दफ्तर गए हैं । (यह शाम को ४ बजे लिख रही हूँ ) कारखाने मत जाना कहकर भेजा है । सो आज यह रिपोर्ट आप सब तक पहुँचा रही हूँ । अभी भी पूरी तरह से स्वस्थ महसूस नहीं कर रहे हैं । डॉक्टरों ने कहा है कि पूरी तरह ठीक होने में तीन महीने लगते हैं । घुघूत जी को डाइबिटीज़ है सो शायद अधिक समय लग रहा है । मित्रों व प्रियजनों की शुभकामनाओं व सहयोग से यह विपरीत समय बीत ही गया है और आशा है कि तीन महीने बीतते बीतते वे पूर्ण रूप से स्वस्थ महसूस करेंगे ।

इन कठिन दिनों में हमें कुछ लोगों का बहुत सहयोग मिला । भर्ती करने से पहले ही चार बोतल खून का प्रबन्ध करने को कहा गया था । बिटिया ने जिस संस्थान से पी एच डी की थी वहाँ के छात्र छात्राएँ आकर खून दे गए । उम्र में कई वर्ष बड़े दादा हर समय सहायता को तत्पर रहते थे, जबकि उनका स्वास्थ्य भी कोई बहुत अच्छा नहीं चल रहा था । मेरे पति की कम्पनी के एक व्यक्ति दिल्ली में एक छोटा सा औफिस चलाते हैं । वे व कम्पनी भी सदा सहायता देते रहे । उन्हीं के द्वारा हम एक एजेंसी से कार किराये पर लेते थे। उसका ड्राइवर घर के सदस्य की तरह हर समय सहायता को तत्पर रहता था। जब खून देने की बात आई तब भी देने को तैयार था । बिटिया का घर हस्पताल से बहुत दूर था । वही जब तब उसे लेकर आता जाता । मैं तो दो सप्ताह घर ही नहीं गई । हवाईअड्डे से मेरी छोटी बेटी को भी वही लेकर आया । जिस धर्मशाला / गेस्टहाउस की मैं बात कर रही थी, वहाँ का मैनेजर भी बहुत भला था । हम लोग अवसर मिलते ही सेठ साहूकारों के विरुद्ध बोलते हैं । परन्तु यही वणिक जाति ही सबसे अधिक परोपकारी काम, जैसे धर्मशाला आदि बनवाने का काम करती है । यहाँ भी न्यूनतम किराए पर सभी सुविधाएँ प्रदान की गईं थीं । मेरी समझ में यह गेस्टहाऊस मारवाड़ी समाज के धनी लोगों ने बनवाया है । यह एक ऐसा इलाका में है जहाँ यदि वे होटल चलाएँ तो न जाने कितना पैसा कमा सकते हैं। परन्तु सबसे अधिक सहायता हस्पताल के चतुर्थ वर्ग के कर्मियों ने की । हमारे पास के शहर के डॉक्टर दिल्ली में भी फोन पर बराबर सम्पर्क में बने रहे व मुझे हिम्मत देते रहे । दो ब्लॉगर साथी जिन्हें हमारे वहाँ होने की खबर मिली हस्पताल में मुझसे मिलने भी आए ।

घुघूती बासूती

54 comments:

  1. घूघुती जी बता नहीँ सकती ये सारा वृँतात पधकर कितनी चिँता मेँ समय बिता है ..आपके परिवार को ईश्वर इस कठिन परीक्षा से बाहर ले आया है आगे भी प्रभु मार्ग बतायेँगे< स्वास्थ्य कामना का सँदेश ही इस दीप पर्व पर दे रही हूँ -
    स स्नेह्,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  2. आपको दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  3. आपको दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें।
    अभी अपना व्यावसायिक हिन्दी ब्लॉग बनायें।

    ReplyDelete
  4. हमारी पूजा में आप और आपका परिवार है. सब मंगलमय होगा. निश्चिंत हो जायें. हम हर वक्त आपके साथ है ईश्वर से प्रार्थना करते हुए.

    आपको एवं आपके परिवार को दीपावली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  5. आपको अपने बीच वापस पाकर हम अच्छा महसूस कर रहे हैं। आपकी पीड़ा के दिन समाप्त हों और श्री घुघूत जी पूर्ण स्वास्थ्य लाभ करें; यही हमारी हार्दिक कामना है।
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
    दीपावली की मंगलकामनाएं। शुभ प्रणा‍म्‌।
    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    ReplyDelete
  6. जिन्दगी कई बार अहसास दिलाती है कि हमारे बस में कुछ नहीं..... अस्पताल, उपचार, ऑपरेशन और बेबसी....देखी, सही बात है....सोच कर ही मन उदास हो जाता है....
    बहुत मुश्किल रहा होगा सब...

    मेरी शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  7. आप सब सुखी, स्वस्थ और सानंद हों. दीवाली की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  8. आपके कठिन समय में हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं. दीवाली शुभ हो!

    ReplyDelete
  9. आप और आपके परिवार ने कठिनतम समय सफलता से फेस किया। ईश्वर आगे और भी आपकी सहायता करें, यह कामना है।
    दीपावली मंगलमय हो।

    ReplyDelete
  10. कठिन समय जल्दी गुज़र जाय.. सुख के दिन फिर लौट आयें.. यही मंगल कामना है!

    ReplyDelete
  11. मुश्किल दौर से निकले हैं आप लोग। अब सब ठीक ही होता रहे। यही दुआ है।

    ReplyDelete
  12. Dear Ghughutiji,

    We wish health and happiness to you and your loved once and hope for sooner recovery of ghughutaji.

    regards

    ReplyDelete
  13. घुघूत जी के स्वास्थ्य के बारे में आज ही मालुम पडा ! इश्वर से उनके पूर्णतया जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ और दीप पर्व की आपको बहुत शुभकामनाएं और बधाई !

    पता नही क्यूँ ? मुझे ऎसी इच्छा हो रही है की आज आपसे कुछ बात करू ! घुघुत जी को जिन परेशानियों से गुजरना पडा वैसी स्थितियों में मरीज की तो अपनी पीडा होती ही है ! पर परिजन जिस भय और आशंका में जीते हैं वो कोई भुक्त भोगी ही जान सकता है ! मैं स्वयं इस रोग का १९८८ से मरीज रहा हूँ और दिल्ली एस्कोर्ट होस्पीटल में मेरी एंजियोग्राफी उस समय हुई थी ! तब से वहाँ का नियमित पेशेंट रहा हूँ ! अभी ४ साल पहले मैंने बाई-पास सर्जरी मुम्बई जाकर करवाई थी ! और कहते हैं की ज्यादा दिन दुश्मन के साथ रहना पड़े तो उससे भी दोस्ती हो जाती है कुछ वैसे ही मेरी भी इस रोग से दोस्ती हो गई है ! आखिकार २० साल की दोस्ती हो गई है ! :) मैं आपको एक सलाह देना चाहूँगा की घूमने का प्रोग्राम हर हाल में नियमित रखे और हल्का फुल्का योगा अवश्य करे ! आप यकीन रखिये आज की उपलब्ध दवाए और डाक्टर्स ईश्वर द्वारा हमको उपलब्ध कराया गया एक तोहफा है और सर्जरी का तो कोई तोड़ ही नही है ! अपना मनोबल उंचा रखिये और घुघुत जी भी जितना मनोबल उंचा रक्खेंगे उतना ही जल्दी रिकवर करेंगे ! वैसे शुरू के ३ महीने रिहैबिलीटेशन में कमोबेश लग ही जाते हैं ! आपको दीप पर्व पर अनेक बधाईयाँ और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  14. Mam
    Wish yu and sir a very happy diwali and may you both remain healty for years to come to bless us the younger generation
    regds
    Rachna

    ReplyDelete
  15. Mam
    Wish yu and sir a very happy diwali and may you both remain healty for years to come to bless us the younger generation
    regds
    Rachna

    ReplyDelete
  16. जल्द स्वास्थय लाभ की कामना करता हूँ.

    दीपावली की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  17. घुघूत जी के स्वास्थ्य के बारे में चिन्ता बहुत रही, लेकिन मुझे पूछने में संकोच रहा। आप और घुघूत जी बहुत ही कठिन समय से निकल कर बाहर आ गए हैं। हृदय के ऑपरेशन के बाद पहले जैसी सामान्यता तो संभव नहीं है। पर फिर भी वे अपना सामान्य जीवन जीने लायक स्थिति में शीघ्र आ जाएँ यही कामना है।
    आप को और आप के परिवार को दीपावली की शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. Dipawali ki Dhheron,hardik shubhkamanayen!....Ghughootji ke liye uttam swasthya ki kaamana!

    ReplyDelete
  19. आप शायद एस्कोर्ट का जिक्र कर रही है ओर ठीक उसके सामने बने गेस्ट हाउस का भी ,इश्वर का शुक्र है अब सब ठीक है ,आज सुबह ही मेरी अपने दोस्त से बात हुई जिसके दो महीने के बेटे का ऑपरेशन हुआ था ,ओर वो कल ही डिस्चार्ज हुआ है ,अभी सूरत में है .सौभाग्य से हमारे दो सीनियर वहां है ..वो ख़ुद डॉ है पर ऑपरेशन के वक़्त मै उसके साथ था ,उस मनोस्थिति को मै समझ सकता हूँ .....आपको व् परिवार को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये

    ReplyDelete
  20. घुघूत जी के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूँ और दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं आपको और आपके पूरे परिवार को।

    ReplyDelete
  21. शुभ-दीवाली।

    ReplyDelete
  22. अब कठिन समय समाप्‍त होने को है और सुख के दिन आनेवाले हैं। इश्वर से उनके पूर्णतया जल्द स्वस्थ होने की कामना करती हूँ और दीप पर्व की आपको बहुत शुभकामनाएं और बधाई !

    ReplyDelete
  23. ईश्‍वर पर भरोसा रखें वो हम सब की सारी पेरशानियों में हमारे साथ ही खड़ा होता है । वो सब ठीक करेगा । घुघूत जी पूर्ण रूप से जल्‍द स्‍वस्‍थ हों ये ही पूरे ब्‍लाग जगत की कामना है ।

    ReplyDelete
  24. positive waves vaali baat hui thii aapsey !! vahi yaad rakhna hai!!! :).deep parv ki dheron shubhkaamnayen

    ReplyDelete
  25. घुघूत जी के स्वास्थ्य के बारे में मालूम पड़ा. उपरवाले से घुघूत जी के पूर्ण स्वस्थ होने की दुआ करता हूँ और दिवाली की आपको शुभकामनाएं और बधाई !

    ReplyDelete
  26. घुघूतजी शीघ्र सहज सामान्य हों , कामना है ।

    ReplyDelete
  27. अच्छा वक्त नही रहता बुरा भी नही रहेगा ..आपके तथा परिवार की कुशलता के लिए हम सब भगवान से प्रार्थना करतें हैं.दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  28. ऐसे तकलीफदेह समय की मनस्थिति समझ सकती हूँ ... शुक्र है कि मुश्किल समय निकल गया ..आगे सब बढ़िया हो ..ऐसी कामना करती हूँ ..

    ReplyDelete
  29. परेशानी का समय निकल गया।
    ईश्वर परेशानी दूर भगाए।
    दीपावली की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  30. कभी कभी यूँ मुश्किल समय आ जाता है ..जल्द ही घुघूत जी पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जाए यही दुआ है ,दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  31. अच्छा समय कब निकल जाता है पता ही नहीं चलता और कठिन समय काटे नहीं कटता। पिछले दिन कैसे कटे होंगें समझा जा सकता है। प्रभू सबको स्वस्थ प्रसन्न रखे। यही प्रार्थना है।

    ReplyDelete
  32. आपके तथा परिवार की कुशलता के लिए हम सब भगवान से प्रार्थना करतें हैं.

    दीपावली की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  33. इस मुश्किल समय में शुभकामनायें ! अगर देहली में फिर आना हो तो अपने आपको अकेला न समझ सूचित करें, शायद आपको कुछ सुविधा दिलवा पाऊँगा !
    9811076451

    ReplyDelete
  34. ishwar pariksha bhi leta hai,aur aap ko usne paas ghoshit kar dia .

    ReplyDelete
  35. ज्योति पर्व पर प्रभु से कामना है कि घुघुतजी जल्द ही स्वास्थ्यलाभ करें..

    ReplyDelete
  36. उस परमपिता परमात्मा से यही प्रार्थना है कि घुघूत जी एकदम जल्द से जल्द भले-चंगे तंदरूस्त हो जायें और आज का यह दीपावली का त्योहार आप सब के जीवन में नईं खुशियां ले कर आये और आप सब ये अनगिनत खुशियां बटोरते बटोरते थक जायें।
    निःसंदेह इन परिस्थितियों में कितने लोग हमारी सेवा में खड़े हो जाते हैं। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी, ड्राइवर, मित्र-सखा, सहकर्मी ...किन किन का नाम लें.....आप ने धर्मशाला वाली बात की, मैं आप से सोलह आने सहमत हूं......यह सब कुछ बहुत भावुक कर देने वाला होता है।
    बहरहाल, यह भावुक होने का समय कतई नहीं है, आप घुघूति जी के साथ फुलझड़ियां चलाने में व्यस्त रहिये......अच्छा है कि उन्होंने दफ्तर जाना शुरू कर दिया है....वातावरण बदलेगा, अपने मित्र दिखेंगे....थोड़ी गप्प-शप, शुगल-मेला होगा तो रिकवरी भी झटपट हो जायेगी। लेकिन दफ्तर में खाने पीने का पूरा ध्यान रखें।
    उन्हें बहुत बहुत शुभकामनायें और शायद उम्र में उन से छोटा होते हुये भी आशीर्वाद देने की इच्छा हो रही है।
    मंगल कामनायें।

    ReplyDelete
  37. मेरी अनन्त शुभकामनाएं,

    ReplyDelete
  38. सब अच्छा होगा...धीर धरें...हम सब आपके आस-पास हैं....

    ReplyDelete
  39. जल्द स्वस्थ होने की कामना
    दीपावली की हार्दिक शुभकामना

    ReplyDelete
  40. आप के कठिन समय से शीघ्र निकलने एवम स्नेह बनायें रखने की कामना के साथ...
    आपके एवम आपके स्नेही जनों के प्रगति पथ पर एक दीप हमारी भी शुभकामनाओं का...
    समीर यादव

    ReplyDelete
  41. बहुत मुश्किल दौर रहा होगा ये, समझ लीजिये एक तूफान था गुजर गया। घुघुतजी के और बेहतर स्वास्थ के लिये शुभकामनायें

    ReplyDelete
  42. घुघुत जी जल्द ही पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जायेंगे । आप अपना और उनका ख्याल रखियेगा ।
    आपको और आपके परिवार को दिवाली की बधाई ।

    ReplyDelete
  43. आपकी अनुपस्थिति का अहसास था. कहानी यह है इसका नहीं.. अच्‍छे दिन जल्‍दी लौटें की अच्‍छी कामनाओं के साथ..

    ReplyDelete
  44. आप ने इस बहादुरी से कठिन समय को पार किया है ,यह जीवन गति एवं सक्रियता को प्रतिबिंबित करता है .चरैवेति -चरैवेति हमारी आदि परम्परा रही है और यथार्थ भी .आप सभी स्वस्थ रहे और सानंद भी. जीवेम शरद :शतम् इसी अभिमंत्रित शुभकामना के साथ ........

    ReplyDelete
  45. घुघुतजी के स्वस्थ लाभ के लिए ढेर सारी शुभकामनायें ! आशा है जल्दी ही पूर्ण स्वस्थ हो जायेंगे !
    दीवाली की शुभकामनायें, (देरी के लिए क्षमा).

    ReplyDelete
  46. आप सब सुखी एवं स्वस्थ रहें।

    ReplyDelete
  47. सुंदर वर्णन अद्भुत शब्द प्रवाह

    ReplyDelete
  48. हमारी शुभकामनाएं आपके परिवार के साथ हैं. अँधेरी रात बीत चुकी है, जल्द ही सब कुछ सामान्य हो जाएगा. हौसला बनाये रखें.

    ReplyDelete
  49. आशा करती हूँ आप सभी स्वस्थ व प्रसन्न होंगे....
    दीपावली की शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  50. Diwali ki hardik shubhkamna.. bahut khusi hui aapko wapas likhte hue dekhkar..

    New Post :
    खो देना चहती हूँ तुम्हें..

    ReplyDelete
  51. ये मुशकिल समय भी निकल जाऐगा। घुघुत जी जल्द ही पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जायेंगे । हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  52. Ghughut ji ke swasthya evam lambi umra hetu shubhakamanae.n

    ReplyDelete
  53. घुघुत जी जल्दी पूरी तरह स्वस्थ हों और आप सब स्वस्थ और सानन्द रहें यही शुभकामनाएं देता हूं . ऐसी परेशानियों की 'सिल्वर लाइनिंग' यही है कि हम दुनिया को नई तरह से -- नई आंख से देखने का -- मौका पाते हैं .

    पिछले एक माह से नेट से दूर था अतः हिंदी ब्लॉग-जगत की गतिविधियों से भी नावाकिफ़ रहा .

    ReplyDelete