Monday, October 13, 2008

कहाँ जाएँ ?

जब सहारे ही कोमल बेल बन जाएँ
तो बेलें सहारे को कहाँ जाएँ ?
दूर रहने लगें जो मित्र थे अपने
तो मित्र खोजने कहाँ जाएँ ?
जब परछाई ही अपनी डराने लगे
तो निर्भय होने कहाँ जाएँ ?


जब रिसने लगें चट्टानें हीं
तो सिर टकराने कहाँ जाएँ ?
खिसकने लगे पैरों तले की धरती
तो पैर टिकाने कहाँ जाएँ ?
जब सरक जाएँ दीवारें ही अपनी जगह से
तो छत टिकाने को कहाँ जाएँ ?


जब टुकड़ा टुकड़ा आकाश टूटे
तो उन टुकड़ों को लगाने कहाँ जाएँ ?
जलाने लग जाए चाँद गगन का
तो जलन बुझाने कहाँ जाएँ ?
जब घायल कर जाएँ तितलियाँ भी
तो बचने को कहाँ जाएँ ?


जब रुलाने लगें कहकहे भी
तो मुस्कराने को कहाँ जाएँ ?
रूठने लगे जिन्दगी ही जब हमसे
तो जीने को कहाँ जाएँ ?
जब खो दें घर का पता अपना
तो खुद को ढूँढने कहाँ जाएँ ?


घुघूती बासूती

25 comments:

  1. कविता पर आप के सद्य अतीत का बहुत असर है, होना भी चाहिए। ऐसे में बेलें जमीन पर चलती हैं और मजबूत हो जाती हैं।
    अच्छी रचना के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  2. ईतने दिनों बाद आपको फिर ब्लॉग पर देखना अच्छा लगा। अच्छी कविता।

    ReplyDelete
  3. घुघूती जी,
    विषाद का स्वर सिर्फ कविता मेँ ही रहे और आप स्वस्थ व सानँद रहेँ
    यही कामना है ~~
    पल्लवी जी भी आपकी खबर पूछ रहीँ थीँ और हम सभी को आपका इँतज़ार था ..
    आज आपकी कविता पढकर
    खुशी हुई कि आप आ गईँ :)
    स स्नेह्, सादर,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  4. जब रुलाने लगें कहकहे भी
    तो मुस्कराने को कहाँ जाएँ ?

    बहुत बढिया। वाह। किसी ने कहा है कि-

    हर राह जिन्दगी की पुरखार आजकल।
    जीना है आदमी का दुश्वार आजकल।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. Itni dumdaar wapasi, har line/para jabardasst hai puri kavita to comment me copy nahi kar sakta.

    Swasthya wagerah sab thik thak hai na.

    ReplyDelete
  6. ईतने दिनों बाद आपको फिर ब्लॉग पर देखना अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  7. जब सहारे ही कोमल बेल बन जाएँ
    तो बेलें सहारे को कहाँ जाएँ ?
    welcome back

    ReplyDelete
  8. जाना कहाँ है, यहीं रहना है.

    काफी दिनो बाद आपकी वापसी सुखद लग रही है.

    ReplyDelete
  9. जब टुकड़ा टुकड़ा आकाश टूटे
    तो उन टुकड़ों को लगाने कहाँ जाएँ ?
    जलाने लग जाए चाँद गगन का
    तो जलन बुझाने कहाँ जाएँ ?
    जब घायल कर जाएँ तितलियाँ भी
    तो बचने को कहाँ जाएँ ?

    is kavita mein ek bechaini nazar aati hai...bahut khoob kavita hai!poori kavita mein mool bhaav bakhoobi dil mein utar jata hai!

    and welcome back..sir jaldi theek ho jaaaye ye kaamna hai!

    ReplyDelete
  10. जब टुकड़ा टुकड़ा आकाश टूटे
    तो उन टुकड़ों को लगाने कहाँ जाएँ ?
    जलाने लग जाए चाँद गगन का
    तो जलन बुझाने कहाँ जाएँ ?
    जब घायल कर जाएँ तितलियाँ भी
    तो बचने को कहाँ जाएँ ?

    बहुत दिनों बाद आपका लिखा पढ़ा बहुत अच्छा लगा ..लिखती रहे

    ReplyDelete
  11. उदास उदास बातें करने लगी हैं आप और वो भी इतने दिनों बाद।
    ख़ुशी हुई आपको वापस पढ़कर

    ReplyDelete
  12. एक उदास कविता के बाद लंबे वनवास से जैसे लौटी .......अच्छा लगा आपको देखकर ,उम्मीद है सब कुशल होगा !अगली बार कोई मुस्कान देने वाली कविता का इंतज़ार रहेगा

    ReplyDelete
  13. जब खो दें घर का पता अपना
    तो खुद को ढूँढने कहाँ जाएँ ?
    बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  14. इतने लंबे समय तक अनुपस्थित रह आपने चिंतित कर दिया था ? ऐसे बिना बताये न चली जाया करें,कुछ संदेश छोड़कर जायें आपसे यही आग्रह है.

    विषाद के रंगों में रंगी रची यह रचना मन बोझिल कर गई.पर बहुत सुंदर लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  15. अंतर्वि‍रोधों का सुंदर संयोजन।

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर
    अंतरमन की कशमकश है

    ReplyDelete
  17. जब रिसने लगें चट्टानें हीं
    तो सिर टकराने कहाँ जाएँ ?
    खिसकने लगे पैरों तले की धरती
    तो पैर टिकाने कहाँ जाएँ ?
    जब सरक जाएँ दीवारें ही अपनी जगह से
    तो छत टिकाने को कहाँ जाएँ ?

    khoob kha aapne .

    ReplyDelete
  18. wow...too good , but my initial interpretation still stands...:)

    ReplyDelete
  19. जब रिसने लगें चट्टानें हीं
    तो सिर टकराने कहाँ जाएँ ?


    बहुत सुंदर।
    ब्लॉगजगत में नया होने के कारण आपसे पहली बार आपकी इस कविता के माध्यम से परिचय हुआ है। आशा है भविष्य में उम्दा रचनाये पड़ने को मिलेंगी। सादर

    ReplyDelete
  20. बहुत दिनों बाद तशरीफ़ लायीं आप ब्लॉग जगत में लेकिन एक जबरदस्त कविता के साथ...बेहद खूबसूरत लफ्ज़ और कमाल के भाव...वाह...
    नीरज

    ReplyDelete
  21. आप बहुत दिनों बाद आयीं. आपकी रचनाएँ बहुत खूबसूरत होती हैं ये दिल के गहराइयों से निकलती हैं तभी तो दिल को छो जाती हैं.

    ReplyDelete
  22. hmmmm Samvedanshil rachana.... yaad aa gaya geet.... sawan jo aag lagaye use kaun bujhaye

    ReplyDelete
  23. आदरणीय घुघूती जी,
    आपको दुबारा यहाँ पाकर बहुत खुश हैं हम। हाँलाकि यहाँ आने में हमने खुद ही बहुत देर कर दी है। छुट्टियों का मौसम जो रहा है इन दिनों।

    आपकी कविता पढ़कर मैं सोच में पड़ गया। किस स्थिति की कल्पना कर बैठी हैं आप?

    ...जब सहारे ही कोमल बेल बन जाएँ, दूर रहने लगें जो मित्र, जब परछाई ही अपनी डराने लगे, जब रिसने लगें चट्टानें हीं, जब खिसकने लगे पैरों तले की धरती, जब सरक जाएँ दीवारें ही अपनी जगह से, जब टुकड़ा टुकड़ा आकाश टूटे, जब जलाने लग जाए चाँद गगन का, जब घायल कर जाएँ तितलियाँ भी, जब रुलाने लगें कहकहे भी,जब रूठने लगे जिन्दगी ही , जब खो दें घर का पता अपना...

    यह सब जब होने लगेगा तो हम होंगे ही कैसे? यह तो साक्षात्‌ प्रलय का वर्णन है। कामायनी की प्रारम्भिक पंक्तियाँ याद आने लगीं। बेहद भावुक हो चलीं हैं आप... और अब हम भी।

    ReplyDelete