Monday, August 11, 2008

माँ

ममतामयी माँ
लावण्यमयी माँ
त्यागमयी माँ
गरिमामयी माँ
सौम्या माँ
साड़ी में लिपटी माँ
बिन्दिया वाली माँ
लम्बे काले बालों वाली माँ।

आज की सफेद बालों वाली माँ
बिन बिन्दिया वाली माँ
बिन चरयो वाली माँ
बिन चूड़ी वाली माँ
बिन बिछिये वाली माँ
हल्के रंग पहनने वाली माँ
बैंगन, उरद ना खाने वाली माँ
हल्दी कुमकुम में ना जाने वाली माँ
दाँए हाथ में मौली बँधवाने वाली माँ।

दुर्भाग्यवती माँ
पिताजी की पत्नी माँ
पिताजी के नाम से जानी जाने वाली माँ
पिताजी की पूर्व सौभाग्यवती माँ
पिताजी की विधवा माँ
मेरे भाई की माँ
मेरे भतीजे की दादी माँ ।

हाँ, मेरी भी माँ
मेरी माँ के रूप में ना जानी जाने वाली माँ
मेरी बच्चियों की भी नानी माँ
उनकी नानी के नाम से ना जानी जाने वाली माँ
मेरे नाना की बेटी मेरी माँ
मेरे मामा की बहन मेरी माँ
मेरी मौसियों की भी बहन मेरी माँ
उनकी बहन के नाम से ना जानी जाने वाली माँ।

आज जब मंदिर जाती हो
या जब घर में पूजा होती है
तो क्या आशीर्वाद देते हैं
पंडितजी तुम्हें माँ ?
क्या अचानक सौभाग्यवती भवः
की जगह बुद्धिमती भवः कहते हैं ?
या फिर कहते हैं चिरंजीवी भवः ?
पूरे जीवन इस आशीर्वाद के बिन
तुम जीयी और खूब लम्बी उम्र जीयीं
पिताजी तो चिरंजीवी भवः सुनते सुनते चले गए
और तुम सौभाग्यवती सुनते सुनते
दुर्भाग्यवती बन गईं।
तुम्हें पुत्रवती भवः के आशीर्वाद भी खूब मिले होंगे
किन्तु फिर भी तुम्हारी गोद में
मैं आ ही गई
तब तुम क्या रोई थीं माँ
या केवल उदास हुईं थीं ?

माँ, तुम्हारा तो नाम ही खो गया
याद नहीं कभी किसीने तुम्हें
तुम्हारे नाम से पुकारा हो
माँ, तुम्हारा तो व्यक्तित्व ही
पिताजी से था
क्या किसीने कभी तुमसे पूछा कि
तुम क्या चाहती हो ?
पढ़ना है या बालिका वधू बनना है
नौकरी करनी है या गृहणी बनना है
कितने बच्चों की माँ बनना है
माँ बनना भी है या नहीं
मैंने भी नहीं पूछा कि क्या
मैं तुम्हारी कोख में आ जाऊँ ?
बस आ गई।

और अब तुम्हारे जीवन के
ये अनुत्तरित प्रश्न मुझे कचोटते हैं
क्या ये सब प्रश्न
तुम्हारे मन में भी उठते थे?
या तुमने उनको दबाना सीख लिया था
या फिर उन्हें सुनना
अपनी ही आवाज को सुनना
बन्द कर दिया था
कभी कभी सोचती हूँ माँ
कि इक दिन शायद मैं भी
तुम सी हो जाऊँ
प्रश्न करना छोड़ दूँ
क्या प्रश्न करना छोड़कर तुम संतुष्ट हो?

क्या मैं संतुष्ट हो जाऊँगी
जब आँखें मूँदकर चलूँगी
पति से दस कदम पीछे
जब अपनी खोज करना छोड़ दूँगी
जब अपनी पहचान को ढूँढना छोड़ दूँगी
कुछ विक्षिप्त सी स्थिति होगी
जब खोए हुए स्वयं को
ढूँढना भी छोड़ दूँगी
एक मेरी निजता ही तो मेरी है
नाम किसी का
घर किसी का
पता किसी का
एक मैं ही तो मेरी अपनी हूँ।

घुघूती बासूती

38 comments:

  1. क्या मैं संतुष्ट हो जाऊँगी
    जब आँखें मूँदकर चलूँगी
    पति से दस कदम पीछे
    जब अपनी खोज करना छोड़ दूँगी
    जब अपनी पहचान को ढूँढना छोड़ दूँगी
    कुछ विक्षिप्त सी स्थिति होगी
    जब खोए हुए स्वयं को
    ढूँढना भी छोड़ दूँगी
    एक मेरी निजता ही तो मेरी है
    नाम किसी का
    घर किसी का
    पता किसी का
    एक मैं ही तो मेरी अपनी हूँ।
    mam
    hats off to you for your continuous writing on such issues

    ReplyDelete
  2. kitni gahri baate samet li hai aapne is ek rachna mein..

    ReplyDelete
  3. बहुत बढिया रचना है।सही लिखा-

    क्या मैं संतुष्ट हो जाऊँगी
    जब आँखें मूँदकर चलूँगी
    पति से दस कदम पीछे
    जब अपनी खोज करना छोड़ दूँगी
    जब अपनी पहचान को ढूँढना छोड़ दूँगी
    कुछ विक्षिप्त सी स्थिति होगी
    जब खोए हुए स्वयं को
    ढूँढना भी छोड़ दूँगी
    एक मेरी निजता ही तो मेरी है
    नाम किसी का
    घर किसी का
    पता किसी का
    एक मैं ही तो मेरी अपनी हूँ

    ReplyDelete
  4. बहुत संवेदन शील रचना है आप की....विलक्षण.
    नीरज

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्छा,
    दुर्भाग्यवती माँ
    पिताजी की पत्नी माँ
    पिताजी के नाम से जानी जाने वाली माँ
    पिताजी की पूर्व सौभाग्यवती माँ
    पिताजी की विधवा माँ
    मेरे भाई की माँ
    मेरे भतीजे की दादी माँ ।
    सुंदर.... बहुत ही बढ़िया
    http://nitishraj30.blogspot.com
    http://poemofsoul.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. One of the finest post wht i ever gone thru in last 3years.... Simply Outstanding.

    Thanks
    Rajesh Roshan

    ReplyDelete
  7. ममतामयी माँ
    लावण्यमयी माँ
    त्यागमयी माँ
    गरिमामयी माँ
    सौम्या माँ
    साड़ी में लिपटी माँ
    बिन्दिया वाली माँ
    लम्बे काले बालों वाली माँ।
    बहुत सुन्दर कविता। बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  8. बहुत मार्मिक रचना जो चिंतन को बाध्य करती है. सोच रही हूँ बराबर साथ चलते हुए भी अपनी निजता की तलाश चलती रहती है.

    ReplyDelete
  9. मार्मिक...

    ReplyDelete
  10. bhut gahari rachana. ati uttam. jari rhe.

    ReplyDelete
  11. हम सब के मन की बात कह दी आपने अपनी कविता में ,वो भी कितने सरल ढंग से.इसीलिये मैं बार बार आपके चिट्ठे पर आती हूं,कुछ पाने के लिये,कुछ बांटने के लिये.मेरा प्रणाम स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  12. माँ से बेटी का संवाद जो शायद खुद भी माँ हो चुकी है। अदभुत कविता है। बधाई।

    ReplyDelete
  13. सुंदर भाव और सच्ची बात लिख दी है आपने इस रचना में .बेहद पसंद आई यह

    ReplyDelete
  14. क्या किसीने कभी तुमसे पूछा कि
    तुम क्या चाहती हो ?
    पढ़ना है या बालिका वधू बनना है
    नौकरी करनी है या गृहणी बनना है
    कितने बच्चों की माँ बनना है
    माँ बनना भी है या नहीं
    मैंने भी नहीं पूछा कि क्या
    मैं तुम्हारी कोख में आ जाऊँ ?




    कितनी बड़ी बात आपने सहजता से कह दी.....?कितनी पीड़ा ओर सच है इनमे ?सच आपने भावुक कर दिया.....

    ReplyDelete
  15. संवेदनशील अद्भुत रचना- बहुत जबरदस्त!!बहुत मार्मिक!!

    ReplyDelete
  16. मर्म को छूती कविता।...बेहद भावपूर्ण।

    ReplyDelete
  17. कितना कुछ, कितने सवाल समेटे बैठी हैं आप अपने मन में।
    यह सब अक्सर आपकी कविताएं बता जाती है।

    स्पर्शी रचना।

    ReplyDelete
  18. " माँ ",
    आपकी कविता के
    एक एक शब्द मेँ जीवित है!
    - लावण्या

    ReplyDelete
  19. सुंदर, संवेदनशील मार्मिक .

    ReplyDelete
  20. "माँ का प्यार एक चाँदनी, शीतल ठंडी छाँव
    सुख सारे इस गोद में, दुःख जाने कित जाव."

    ReplyDelete
  21. जितनी सुंदर, उतनी ही मार्मिक... When will we learn to respect the individuality where the children are not owned by the parents and the wife is not the shadow of her husband?

    ReplyDelete
  22. माँ के विविध रूपों का भलाभांति वर्णन किया है।

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुंदर,सहज,सत्य अंतस को अभिभूत कर झकझोरने वाली पंक्तियाँ.....
    मैं नतमस्तक हूँ.आभार इतना सुंदर लिखने के लिए....

    ReplyDelete
  24. मां , ये रूप भी है और कई और रूप भी है मां के

    ReplyDelete
  25. विलक्षण, मार्मिक एवं अद्भुत संवेदनाऒं का संगम..

    ReplyDelete
  26. माँ के लिये जितना पढ़ा जाये कम है,आपने बहुत हृदय-स्पर्शी रचना लिखी है.
    आपको व आपके पूरे परिवार को स्वतंत्रता दिवस की अनेक शुभ-कामनाएं...
    जय-हिन्द!

    ReplyDelete
  27. एक मेरी निजता ही तो मेरी है
    नाम किसी का
    घर किसी का
    पता किसी का
    एक मैं ही तो मेरी अपनी हूँ।
    इस निजता की अनुभूति
    कोई साधारण बात नहीं है.
    ============================
    माँ के निमित्त आपने
    झखझोर देने वाली अभिव्यक्ति की है.
    सच बहुत मर्मस्पर्शी....बहुत गहरी.
    एक महाकाव्य जैसा कैनवास
    उभर आया....यकीनन.
    ============================
    डा.चन्द्रकुमार जैन

    ReplyDelete
  28. आपकी पोस्ट पहले भी पढी थीं | माँ पर लिखी यह कविता अच्छी लगी | नारी पर बहुत कुछ कहती है |

    ReplyDelete
  29. माँ, यह एक शब्द ही काफ़ी है ! अपने आप में महाकाव्य !

    ReplyDelete
  30. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  31. क्या किसीने कभी तुमसे पूछा कि
    तुम क्या चाहती हो ?
    पढ़ना है या बालिका वधू बनना है
    नौकरी करनी है या गृहणी बनना है
    कितने बच्चों की माँ बनना है
    माँ बनना भी है या नहीं
    मैंने भी नहीं पूछा कि क्या
    मैं तुम्हारी कोख में आ जाऊँ ?
    बस आ गई।

    adbhut rachna hai...sambhaal kar rakhne yogya.

    ReplyDelete
  32. शानदार कविता शब्द नही है कुछ भी कहने को , जो कुछ कह सकते थे आप कह चुकी है

    ReplyDelete
  33. हमने भी तो अपनी मां से ऐसे कितने सवाल पूछे और वो होठ का एक कोना थोड़ा सा हिलाकर चुप हो जाती और पूछने लगती रात की सब्जी या फिर कपड़ों के प्रेस होने के बारे में।

    ReplyDelete
  34. हमने भी तो अपनी मां से ऐसे कितने सवाल पूछे और वो होठ का एक कोना थोड़ा सा हिलाकर चुप हो जाती और पूछने लगती रात की सब्जी या फिर कपड़ों के प्रेस होने के बारे में।

    ReplyDelete