Wednesday, November 28, 2012

खोखले से हम


खोखले से हम
नाते रिश्तों
मैत्री सम्बन्धों
पड़ोसी से बोलचाल
सोफे पर चिपके
टी वी पर आँख कान गड़ाए
अपनों को छोड़,
राह चलतों को राम राम
जय श्री कृष्ण
नमस्कार
दुआ सलाम
करना छोड़,
जी टॉल्क पर हाय
नेट पर या
फेसबुक पर
कुछ मन को
छू लेने वाला
खोजते, खीजते
खोखले से,
खाली मन
खाली हाथ,
लौट जाते हैं
कल फिर से
आने को।
घुघूती बासूती

25 comments:

  1. कितना सच है यह :(

    बहुत पहले एक पोस्ट लिखी थी इसी विषय पर (- अपनों से दूर , टीवी से पास ) - खूब पर्दा है नाम था उस पोस्ट का शायद । वह याद आ आगयी यह पोस्ट देख कर

    :(

    ReplyDelete
  2. Man is increasingly getting impersonal,an apt reminder!

    ReplyDelete
  3. Bahut hi badiya ..aadersh

    ReplyDelete
  4. Anonymous3:07 p.m.

    सामाजिकता ख़त्म होती जा रही है, फिर भी मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है .........
    ---------------------------------------------------
    पी .एस .भाकुनी
    ---------------------------------------------------

    ReplyDelete
  5. जंगली, आदि गुफा मानव, बाहरी संसार के बारे में बहुत कुछ जान काल-चक्र में बाहरी ब्रह्माण्ड से उकता, फिर से कंक्रीट के जंगल में अपनी अपनी गुफा में लौट, टीवी/ अंतर्जाल के माध्यम से ब्रह्माण्ड के केवल एक ही रचयिता परमात्मा, जिसका वो भी तथाकथित अंश आत्मा है, को खोजता ऐसे बैठा है जैसे शीशे में अपने ही प्रतिबिम्ब को देख रहा हो!
    किन्तु उसे विश्वास नहीं हो रहा हो कि वो परमात्मा का ही मायावी प्रतिबिम्ब है , और वो कस्तूरी मृग समान अनादिकाल से भटकता रहा है!!!

    ReplyDelete
  6. सुबह सैर करने ज़रूर जाना चाहि‍ए. बहुतों से दुआ सलाम राम राम हो जाती है ...

    ReplyDelete
  7. एकाँतप्रियता और सामाजिकता के बीच मूढता से फुटबॉल बना रहता है मानव मन. मानव अनादिकाल से इस दुविधा से ग्रस्त है.

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सच कहा है आपने ... लगभग हर कोई आजकल ऐसे ही संपर्क और संबंध बनाए हुये है !


    नानक नाम चढ़दी कला, तेरे भाने सरबत दा भला - ब्लॉग बुलेटिन "आज गुरु नानक देव जी का प्रकाश पर्व और कार्तिक पूर्णिमा है , आप सब को मेरी और पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से गुरुपर्व की और कार्तिक पूर्णिमा की बहुत बहुत हार्दिक बधाइयाँ और मंगलकामनाएँ !”आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  9. Ya hamare apne TV ke paas hote hain,ya mobile pe chipke!

    ReplyDelete
  10. great poem after a long time

    ReplyDelete
  11. sahi kaha hai . afsos aajkal aisa hi ho raha hai.

    ReplyDelete
  12. सच बयाँ करती कविता

    ReplyDelete
  13. हाँ इसी खोखलेपन में अपना अस्तित्व खोजते हम..

    अच्छी रचना..
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  14. sach hai rishton me doori kuchh in adhunik sadhano ki vajah se kuchh insan ke khud ki vajah se..
    katu satya..

    ReplyDelete
  15. बहुतों को समेट लिया आपने अपनी कविता में।

    ReplyDelete
  16. वास्‍तव में यही जिन्‍दगी हो गयी है।

    ReplyDelete
  17. Ahaa, its nice dialogue regarding this paragraph at this place at this blog, I have read all that, so at this time me also commenting here.

    ReplyDelete
  18. .
    .
    .
    'खोखले से हम'... वाकई

    पर यह दौर भी निकल जायेगा तमाम अच्छे-बुरे अन्य दौरों की तरह ही...


    ...

    ReplyDelete
  19. अंतर्जालीय सामाजिक व्यवस्था ने खोखला कर दिया है हमें..
    बहुत ही सटीक बात लिखी है आपने..

    ReplyDelete
  20. सटीक रचना...
    सामाजिकता नस्ट हो गयी..
    फिर भी सामाजिक बने है अंतर्जाल पर...
    यही है आज का सत्य...
    :-)

    ReplyDelete
  21. चलिये नेट ही सही ....कहीं तो सामाजिकता बनी हुई है ... सत्य को कहती अच्छी रचना

    ReplyDelete
  22. प्रिय ब्लॉगर मित्र,

    हमें आपको यह बताते हुए प्रसन्नता हो रही है साथ ही संकोच भी – विशेषकर उन ब्लॉगर्स को यह बताने में जिनके ब्लॉग इतने उच्च स्तर के हैं कि उन्हें किसी भी सूची में सम्मिलित करने से उस सूची का सम्मान बढ़ता है न कि उस ब्लॉग का – कि ITB की सर्वश्रेष्ठ हिन्दी ब्लॉगों की डाइरैक्टरी अब प्रकाशित हो चुकी है और आपका ब्लॉग उसमें सम्मिलित है।

    शुभकामनाओं सहित,
    ITB टीम

    पुनश्च:

    1. हम कुछेक लोकप्रिय ब्लॉग्स को डाइरैक्टरी में शामिल नहीं कर पाए क्योंकि उनके कंटैंट तथा/या डिज़ाइन फूहड़ / निम्न-स्तरीय / खिजाने वाले हैं। दो-एक ब्लॉगर्स ने अपने एक ब्लॉग की सामग्री दूसरे ब्लॉग्स में डुप्लिकेट करने में डिज़ाइन की ऐसी तैसी कर रखी है। कुछ ब्लॉगर्स अपने मुँह मिया मिट्ठू बनते रहते हैं, लेकिन इस संकलन में हमने उनके ब्लॉग्स ले रखे हैं बशर्ते उनमें स्तरीय कंटैंट हो। डाइरैक्टरी में शामिल किए / नहीं किए गए ब्लॉग्स के बारे में आपके विचारों का इंतज़ार रहेगा।

    2. ITB के लोग ब्लॉग्स पर बहुत कम कमेंट कर पाते हैं और कमेंट तभी करते हैं जब विषय-वस्तु के प्रसंग में कुछ कहना होता है। यह कमेंट हमने यहाँ इसलिए किया क्योंकि हमें आपका ईमेल ब्लॉग में नहीं मिला।

    [यह भी हो सकता है कि हम ठीक से ईमेल ढूंढ नहीं पाए।] बिना प्रसंग के इस कमेंट के लिए क्षमा कीजिएगा।

    ReplyDelete
  23. अब क्या करें, इतने खराब मौसम में बाहर जाना भी ठीक नहीं है - सो इंटरनेट ज़िंदाबाद!

    ReplyDelete
  24. Bahut hi achha sandesh hai

    ReplyDelete