Thursday, March 24, 2011

अरुणा शानबाग

यदि मानव को अपने मानव होने पर गर्व होता हो तो उसे केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि पुरुष को अपने बल व पौरुष पर गर्व होता हो तो भी उसे केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि न्याय प्रणाली को अपने न्याय पर गर्व होता हो तो भी उसे केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि भारतीयों को अपनी परिवार व्वस्था पर गर्व होता हो तो उन्हें केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि जीवन को अपने को मृत्यु से बड़ा समझ अपने पर गर्व होता हो तो उसे केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि आधुनिक चिकित्सा को अपनी सफलताओं पर गर्व होता हो तो उसे केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

यदि माताओं को पुत्र पैदा करने पर गर्व होता हो तो उन्हें केवल इस नाम को याद करना चाहिए, सारा गर्व चकनाचूर हो जाएगा, एक पल में ही।

अरुणा शानबाग! यह नाम सुनामी व भूकम्प को मानव से अधिक सहृदय सिद्ध करता है। प्राकृतिक आपदा को मनुष्य झेल सकता है किन्तु अपने ही सहकर्मी द्वारा ऐसा क्रूर व्यवहार? फिर उस दुष्ट को जीवन जीने के लिए खुला छोड़ देने वाला न्याय व समाज? इस समाज में ही वह जीता होगा। शायद पत्नी व बच्चे भी होंगे। कौन मानव होंगे जो उसे बेटा, भाई, पति या पिता कहते होंगे? यदि हममें से किसी के परिवार में ऐसा मानव जन्म लेता तो हम क्या करते? क्या उसकी माँ होना स्वीकार कर पाते या सबसे पास के खंबे पर रस्सी डाल लटक जाते या सबसे पास वाले जल में कूद जाते? यदि एसे मानव से हमारा विवाह तय हो रहा होता तो क्या विवाह करतीं या आजीवन कुँवारी रहना बेहतर समझतीं? यदि होश सँभालने पर पता चलता कि ऐसा मानव हमारा पिता है तो क्या उसका दिया खाना स्वीकार करते या भीख माँग, या शरीर बेच जीना स्वीकारते? क्या उसके साथ एक ही कमरे में बैठ पाते?

या फिर पापी से नहीं पाप से घृणा करते? उस पापी को स्वीकार लेते? शायद हाँ, किन्तु तब जब...

१. वह दिन रात अरुणा की सेवा करता।

२.हर जागते पल अरुणा का चेहरा, मुड़े तुड़े हाथ आदि निहारता।

३.यदि उसकी उपस्थिति अरुणा के लिए कष्टप्रद होती तो भी दिनरात उसे अरुणा के आज के चित्र सी सी टी वी पर देखने पड़ते। पल पल अपने द्वारा किए अत्याचार का परिणाम देखना पड़ता। पल पल अपने को कोसता। उस क्षणिक आनन्द, परदुख में अपना सुख ढूँढने की अपनी प्रवृत्ति पर स्वयं लज्जित होता। जब वह पश्चात्ताप की आग में तिल तिल जलता। जब जीवन की घड़ी की सुई उसके लिए भी वहीं अटक जाती जहाँ निरपराध अरुणा के लिए अटकी। जब वह पल पल मृत्यु माँगता। जब उसे मृत्यु जीवन से कहीं बेहतर लगती।

तब शायद तब उससे घृणा करने की बजाए उसके अपराध से घृणा करने की सोची जा सकती थी।

घुघूती बासूती

26 comments:

  1. अरुणा शानबाग उस अस्पताल के लिए मानो एक दैवीय शक्ति है वहां का हर कर्मचारी जुड़ने पहले, या दिन की शुरुवात से पहले अरुणा शानबाग को नमन करके जाते है . यही उसकी पूजा है

    ReplyDelete
  2. घुघूती जी,
    अगर किसी का प्रिय कोई ऐसा कृत्य करता है...(जैसा उस स्वीपर ने अरुणा शानबाग के साथ किया ) तो सबसे पहले...वे उस घटना को स्वीकार ही नहीं करते हैं.....बिलकुल नकार देते हैं और फिर victim को ही दोषी ठहराते हैं.

    मनु शर्मा ने सरेआम 'जेसिका लाल ' को गोलियों का निशाना बनाया....पर उसके पिता ने उसके शुभ चिंतकों ने उसे बचाया....एक पिता ने अपनी पुत्री का हाथ भी उस कातिल को सौंपा और आज वो दो बच्चों के पिता हैं.
    ये समाज हर कृत्य को स्वीकार कर लेता है...और उसकी व्याख्या अपनी सुविधानिसार कर लेता है.

    ReplyDelete
  3. करुण कहानी जो जीवन के संबल दे जाती है।

    ReplyDelete
  4. क्या बोलूँ..........................

    ReplyDelete
  5. जिस दिन हम लोग अपने बीच मे रह रहे ऐसे लोगो को सामने ला कर प्रतारित करेगे और उनका सामाजिक बहिष्कार करेगे उस दिन ही सुधार संभव है . हम इग्नोर करने की बात करते हैं .
    अरुणा जिन्दा हैं क्यूँ शायद इसलिये की लोग समझे पर नहीं समझ रहे . लोग दवा करना चाहते हैं ताकि अरुणा ठीक हो जाये और देखे इस विकृत समाज को जहां ७ साल की सजा काट कर बलात्कारी आज़ाद हो जाता हैं

    ReplyDelete
  6. इस पर कुछ कहने की स्थिति नहीं है...

    ReplyDelete
  7. वह इंसान था ही नहीं
    वह इंसान बना ही नहीं था
    बहुत से लोग इंसान बनने से रह जाते हैं
    इंसान बनाने के औजार कम हैं
    उसे शायद गुस्सा था
    कि उसे इंसान बनने का अवसर नहीं मिला
    हम इंसान बनाने के औजार बनाएँ
    इतने कि को इंसान बनने से न रहे
    किसी को गुस्सा न हो
    कि उसे इंसान बनने का अवसर नहीं मिला
    कि ऐसा भी कोई वक्त हो
    जब किसी को अरुणा शानबाग
    न बनना पड़े

    ReplyDelete
  8. ऐसे लोगों का सरे-आम बधियाकरण किया जाये तो कुछ हो सकता है..

    ReplyDelete
  9. आपकी रचना बेहद मार्मिक है । इस घटना की पीडा को शब्दों में बाँधना असंभव है ।
    होली वाली कविता भी एक सशक्त रचना है ।

    ReplyDelete
  10. अरूणा शानबाग के बारे में सात आठ साल पहले कहीं पढ़ा था........उनकी तकलीफ और उससे उपजे हालात बहुत कुछ नये ढंग से सोचने को मजबूर करते हैं।

    ReplyDelete
  11. ऊफ.........
    पढते वक्त भी पीड़ा होती है ..... जब स्कूल में थी तब अरुणा की कहानी एक नोवेल के जरिये पढ़ी थी तब से लेके आज तक नजाने १०/१२ साल तो बित गए है लेकिन वही पीड़ा वही दर्द ........

    ReplyDelete
  12. अरुणा शानबाग के बारे में पढ़ा, दुःख होता है ऐसी कहानियों को पढकर .................

    ReplyDelete
  13. bahut dukhad hai Aruna kee kahani... aaj aapka blog aur yah kahani charchamanch par hai..aapkaa shukriya is post ke liye... aap charchamanch par aa kar apne vichar bhi bataiyega..
    http://charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. आपका कहना सही है मगर यदि उसमे इतनी जी शर्म होती तो ऐसा कुकृत्य करता ही क्यों………ऐसे लोग किसी के बाप भाई या पति नही हो सकते ये तो समाज के ऊपर एक धब्बा हैं।

    ReplyDelete
  15. अपराधी आज कही जा रहा होगा वो भी बड़े आराम से बिना किसी अपराध बोध के और परिवार या तो उसके अपराध को मानता ही नहीं होगा या अपराध को मामूली सा अनजाने में हुई दुर्घटना मान आराम से सब भूल उसके साथ जी रहा होगा | उसे कोई भी नहीं जनता होगा अरुणा शानबाग के अपराधी के रूप में मिडिया को तो उसे ढूढ़ कर आज सबके सामने खड़ा करना चाहिए ताकि लोग उस पापी को जान सके पहचान सके और उस पर थूक सके |

    ReplyDelete
  16. बेहद तकलीफदेह और शर्मनाक पूरे समाज के लिए !

    ReplyDelete
  17. aruna shanbag ke bare me padh kar bahut dukh hota hai aur kai bate sochane par majboor ho jate hai....vo ghrinit vayakti bina pashchatap ke ji raha hai hamare samajh me kai anura shanbag hia jo aisi trsdiyan bhugat kar narkiya jeevan je rahi hai....aise logo ka bahishkar jab tak unke parivar aur samaj nahi karta ye trasdiyan rukengi nahi aur is bahishkar ko logo ke samne lana ek badi jimmedari hai...

    ReplyDelete
  18. इस नाम को सिर्फ़ देख लेने से सिरहन होती है.. और बहुत तकलीफ़... और बहुत शर्म.. बहुत घिन.. लगता है जैसे हम जन्मजात अंधे पैदा हुये.. गूंगे, बहरे और विकलांग भी। ये नाम वो तमाचा है जिसके लगने के बाद हम उम्र भर एक म्यूट अवस्था में चले जाते हैं सिर्फ़ कानों में सीटियां सी कोई आवाज आती है... और कुछ नहीं कहा जायेगा :-।

    ReplyDelete
  19. दिक्कत ये है कि हमने उसे वर्षों बाद याद किया है जबकि वह वर्षों से निरंतर यंत्रणा भुगत रही है !

    बहरहाल मुद्दे पर आपका नज़रिया ठुकराया नहीं जा सकता !

    ReplyDelete
  20. pooramamla hi shabdateet hai. kuchh bhi nahin keh sakta.

    ReplyDelete
  21. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    ReplyDelete
  22. पूरे समाज के लिए शर्मनाक|
    प्योली का फूल मेंने नए लेख में लगा दिया है|

    ReplyDelete
  23. अरुणा की साथी नर्सों ने उसके जीवन को गरिमा दी।

    ReplyDelete