Sunday, January 09, 2011

आदिमानव, उसके फर व कपड़े तो खबर बन गए!........... घुघूती बासूती

परसों ही मैंने कविता लिखी 'क्या बेहतर न होता'
यदि
मानव आदिमानव ही रहता
न फर गँवाता.......

और देखिए कल के समाचार पत्रों में ही मनुष्य के फर तजने/ खोने, कपड़े पहनना शुरू करने की पूरी कहानी बताई गई। मानव ने एक लाख सत्तर हजार साल पहले कपड़े पहनना शुरू किया। मानव तब अफ्रीका में ही था। उसने एक लाख साल पहले अफ्रीका से बाहर बसना शुरू किया। अर्थात कपड़े पहनना शुरू करने के सत्तर हजार साल बाद उसने अफ्रीका से बाहर जाना शुरू किया। शायद कुछ ढंग के कपड़ों का निर्माण करने के कारण ही वह ठंडी जगहों में भी रहने का साहस कर सका।

यह भी पता चला कि मानव ने फर या शारीरिक बाल कपड़े पहनना शुरू करने के बाद नहीं खोए। अपितु शारीरिक बाल खोने के बहुत बाद उसने कपड़े पहनने की सोची। मानव ने फर लगभग दस लाख साल पहले खोए। लगभग आठ लाख तीस हजार साल तक वह बेचारा बिना फर, बिना कपड़ों के रहा।

सोचिए कि हमें यह सब कैसे पता चला? एक छोटे से परजीवी के डी एन ए ने इस बात की चुगली वैज्ञानिकों से कर दी। यह परजीवी है कपड़ों की जूँ। वैज्ञानिकों ने जूँ के डी एन ए पर शोध कर पता लगाया कि सर की जूँ में से ही कुछ कपड़ों या शारीरिक जूँ में परिवर्तित हुईं। यह हुआ एक लाख सत्तर हजार साल पहले। क्योंकि यह जूँ सर में नहीं रहती केवल कपड़ों में रहती है सो कपड़ों के चलन से पहले यह भी न होगी। कपड़े चलन में आए तो यह भी उत्पन्न हो गई।

तब के लोगों ने भी कहा होगा कि देखो हर आधुनिक चीज़ अपने साथ एक श्राप लेकर आती है! और करो फैशन! जैसा भगवान ने बनाया था वैसे ही रहते तो दिन रात शरीर न खुजाना पड़ता केवल सर ही खुजाया करते जैसा कि शायद भगवान ने मानव के लिए निर्धारित किया था!

आज का मानव सोचता है कि भगवान चाहता है कि हम कपड़े पहनें और थोड़े नहीं ढेरों पहने। काश वैज्ञानिक यह भी पता लगा पाते कि भगवान क्या चाहता है। या यह सब चाहत केवल मौसम की है?

घुघूती बासूती

16 comments:

  1. @आज का मानव सोचता है कि भगवान चाहता है कि हम कपड़े पहनें और थोड़े नहीं ढेरों पहने। काश वैज्ञानिक यह भी पता लगा पाते कि भगवान क्या चाहता है। या यह सब चाहत केवल मौसम की है?...
    सही कह रही हैं.

    ReplyDelete
  2. फिर भी आदमी की नंगई नहीं गई.. ढेरों कपड़ों के बावजूद... माफी ऊपर के शब्द के लिये ..

    ReplyDelete
  3. बहुत मजेदार और जानकारी भरी पोस्ट.धन्यवाद और आभार.

    ReplyDelete
  4. रोचक जानकारी प्राप्त हुई।

    ReplyDelete
  5. एक जुयें में इतिहास छिपा था।

    ReplyDelete
  6. बहुत ही रोचक तरीके से दी ये जानकारी.

    ReplyDelete
  7. भगवान, वैज्ञानिक, सोच, आदि मानव, न जाने कितने बरसों का लेखा-जोखा... बस, बस अब एक कड़क चाय के बिना कुछ नहीं हो सकता.

    ReplyDelete
  8. बस एक चक्र है और क्या...

    ReplyDelete
  9. वाह कोई भी जानकारी यदि इस मजेदार तरीके से दी जाये तो वो और भी अच्छी लगती है |

    ReplyDelete
  10. बहुत मजेदार और बहुत ही रोचक तरीके से दी ये जानकारी\

    ReplyDelete
  11. ha...ha...ha...ha...bhagvaan kyaa chaahataa hai....kyaa yah hamen nahin pataa....!!magar hamen kisi kee icchha se bhalaa kyaa matlab....ham to insaan hain naa.....shaayad bhagvaan se bhi bade....shaayad bhagvaan se bhi jyaadaa shaktishali...!!(bhagvaan hamaari rakshaa kare....!!!

    ReplyDelete
  12. आज तो कहर बरपा रहीं हैं.

    ReplyDelete
  13. अभी परसों ही उसने मुझसे कहा था कि मैं मौसम बदलना चाहता हूं तो फिर...बेहतर यही होगा कि तुम भी बदलते रहना :)


    पिछले दो दिनों से उसने आपके फोन खराब कर रखे हैं वर्ना मैं ये बात पहले ही बता देता आपको :)

    ReplyDelete
  14. मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  15. रोचक जानकारी ..... मौसम के अनुरूप

    ReplyDelete