Wednesday, November 03, 2010

मेरी बिटिया की बाई की बाई

छोटी बिटिया की महरी बहुत कुशल है। एक्स्पर्ट या निपुण की कोटि में आती है। दो साल की नौकरी में वह 600 रुपये से 3000 रुपये की पगार व एक बच्चे की 800 रुपये प्रति माह की फ़ीस +पुस्तकें + वर्दी आदि पर पहुँच गयी है। उसका काम इतना अच्छा है कि बिटिया उसे झाड़ू पोछे व बर्तन साफ़ करने से शुरू कर घर की केयरटेकर तक ले गयी। हर कुछ महीने में उसकी पगार बढ़ती गयी और वह कुछ नयी जिम्मेदारी सम्भालती गयी। अब तो यह हाल है कि वह कहती है कि अब मेरी पगार मत बढ़ाना क्योंकि अब आपके घर में मेरे करने लायक और कोई नया काम नहीं बचा है।

बिटिया उसे घर की चाभी देकर जाती है। जब काम से घर लौट कर आती है तो चमचमाता, साफ़ सुथरा घर मिलता है। ऐसा लगता है जैसे उसके जाने के बाद किसी ने जादू से उसका घर चमका दिया हो।

पति द्वारा सताई गयी व छोड़ी गयी सरस्वती को आज इतना खुश व सफल देख बिटिया व मेरा मन बहुत खुश हो जाता है। पिछले साल ही तो जब उसे एक दुर्घटना में चोट लगी थी तो हमने उसकी सेवा की थी। छोटी सी चोट ऐसी बिगड़ी कि उसे औपरेशन कराना पड़ा। हाँ, उसने 800 रुपये देकर महरी रख ली थी।

अब जबकि वह ठीक हो चुकी है तब भी वह उस महरी को निकाल नहीं पायी है। कहती है कि उसे वह निकाल नहीं सकती, कि वह बुढ़िया है, कि उसे उसके बच्चों से मोह हो गया है। कि करने दो उसे भी काम ना! कि आप लोग मुझे इतना देते हो। कि इतना पाने का तो मैने स्वप्न भी कभी नहीं देखा था। अब मैं जितने भी नये घर पकड़ती हूँ केयरटेकर कहकर ही पकड़ती हूँ ना कि महरी कहकर और मेरी कमाई इतनी होती है कि मैं बहुत खुश हूँ।

बिटिया के घर का पुराना सोफ़ा,(उसका सामान कितना पुराना हो सकता है? उसकी उम्र ही क्या हुयी है?) लगभग सारा पुराना फ़र्नीचर उसके ही घर में है। ढेरों बर्तन आदि सब उसके ही घर पहुँचते हैं। किन्तु मुझे जो बात सबसे अधिक मोहित करती है वह है उसके पास भी महरी का होना।

कया बाई की भी बाई होना उन्नति है? जो भी हो मुझे प्रगति लगती है।

घुघूती बासूती

38 comments:

  1. अरे वाह... अच्छी बात है... पद-सोपान की परम्परा का निर्वहन

    ReplyDelete
  2. वाकई यह प्रगति ही है ....अच्छा लगा पढ़ना ..

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी पोस्ट है... यह प्रगति ही है...

    ReplyDelete
  4. मुझे याद आई मेरे दोस्त के घर काम करने वाली बाई. वो सुबह टिफिन लेकर लौटती और शाम को घर आती. एक खुद का फ़्लैट है उसका पुणे में, जो उसमे रेंट पर दे रखा है ! उसकी बेटी एक सॉफ्टवेर फर्म में अब रिसेप्सनिस्ट है और बेटा इंजीनियरिंग पढ़ रहा है.

    ReplyDelete
  5. ये प्रगति ही तो है|

    आप को सपरिवार दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  6. यदि मन संवेदनशील हो तो बाई भी इंसान नज़र आती है । वर्ना आजकल इंसानों में इंसानियत ही कहाँ बची है ।
    आपकी बाई का भी स्वभाव अच्छा लगता है ।

    ReplyDelete
  7. बिलकुल प्रगति है यह .बहुत अच्छा लगा पढकर.

    ReplyDelete
  8. माफ करियेगा, आपके ब्लॉग में एक बात समझ में नहीं आई. किसी महरी के घर पर महरी होने में कौन सी विशेष बात है? यदि कोई नौकरी पेशा महिला अपने घर में किसी दूसरी महिला को काम देती है तो क्या विशेष बात है, पर अभी ऍसी व्यवस्थाओं को सहज स्वीकार करने में हमें समय लगेगा.

    एक और बात, आपका ब्लॉग मैं नियमित रूप से पढ़ता रहा हूँ. और यहाँ थाईलैण्ड में ए.आई.टी. के शस्य श्यामल प्राँगण में मैंने पिछले सप्ताह एक चिड़िया देखी थी जिसके गले में भी गोल गोल धब्बे थे. दिमाग में पहला शब्द ही आया "घूघुती".

    ReplyDelete
  9. प्रगति तो नहीं कहूँगा ये मामला सामाजिक बोध का है ! दरअसल ऐसे प्रकरण अपवाद और विलक्षण ही मानिये !
    ऐसा ही किस्सा अपने साथ भी गुज़र रहा है सो मोहित तो हम भी हैं आपकी पोस्ट पढकर !

    ReplyDelete
  10. अनोखी जानकारी दी आपने...
    दीपावली की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  11. मेरे हिसाब से भी यह प्रगति ही हुयी !


    आपको और आपके परिवार में सभी को धनतेरस और दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

    ReplyDelete
  12. कार्यकुशलता चाहे जिस स्तर पर हो उसे सम्मान मिलना ही चाहिए। आज पूछ भी कार्यकुशल लोगों की ही है।

    ReplyDelete
  13. यह बिल्कुल प्रगति है, बाई से केयरटेकर .. क्या बात है. जैसे हेल्पर से होते हुए किसी फेक्टरी में सुपरवाईज़र हो जाता है कोई कामगार.

    दीपोत्सव कि हार्दिक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  14. वाह, समर्पण हो तो ऐसा कि आत्मीयता हो जाये घर से।

    ReplyDelete
  15. हम तो बड़े गरीब हैं जी हमें अपना महरा बना लो.

    ReplyDelete
  16. कभी संसद भवन जाये तो वहा ३ कमरो मे पहले कमरे में महासचिव दूसरे में महासचिव के सचिव और तीसरे कमरे में सचिव के निज़ी सचिव की प्लेट लगी है .
    अभी तो उम्मीद है बाई की बाई और उसकी बाई भी हो

    ReplyDelete
  17. जी हाँ बिलकुल है ....बहुत अच्छा प्रसंग बताया आपने
    आपको सपरिवार प्रकाश पर्व की हार्दिक शुभकामनाएँ !!
    उल्फ़त के दीप

    ReplyDelete
  18. बड़ा अच्छा अनुभव शेयर किया है..
    ऐसी ही घटनाएं..मानवता की उपस्थिति का अहसास दिलाती हैं...

    ReplyDelete
  19. सेवाओं के विशिष्ठीकरण के युग में यह होना लाजमी है। हालांकि इसे आरंभ ही कहा जाना चाहिए।

    ReplyDelete

  20. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपको और आपके परिवार में सभी को दीपावली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ! !

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  21. प्रगति ही कहेंगे और क्या!!



    सुख औ’ समृद्धि आपके अंगना झिलमिलाएँ,
    दीपक अमन के चारों दिशाओं में जगमगाएँ
    खुशियाँ आपके द्वार पर आकर खुशी मनाएँ..
    दीपावली पर्व की आपको ढेरों मंगलकामनाएँ!

    -समीर लाल 'समीर'

    ReplyDelete
  22. प्रेम से करना "गजानन-लक्ष्मी" आराधना।
    आज होनी चाहिए "माँ शारदे" की साधना।।
    --
    आप खुशियों से धरा को जगमगाएँ!
    दीप-उत्सव पर बहुत शुभ-कामनाएँ!!

    ReplyDelete
  23. मेरी नजर में अब लोगों कि सोच बदल रही है..

    ReplyDelete
  24. मुझे तो ये सोच कर आश्चर्य हो रहा है की वो बाई क्या वास्तव में इतना कमा लेती होगी की अपने लिए एक बाई रख सके क्योकि आज के महगाई के समय में खर्च कम नहीं है इसलिए इसे क्या कहु समझ नहीं आ रह है |
    आप को और आप के परिवार को दीपावली को शुभकामनाये |

    ReplyDelete
  25. हमारी बिटिया को भी ऐसी ही एक दिला दो, बाइयों के नखरों से वह बहुत परेशान है। खाना बनाने की बात करो तो पूछती हैं कि रोटी कितनी बनानी होगी। चार या पांच से ज्‍यादा नहीं। पूना के लिए ढूंढ ही दीजिए ऐसी एक जरूरतमंद।

    ReplyDelete
  26. आपको स: परिवार दीपावली की ढेरों शुभकामनाएं और बधाई .

    ReplyDelete
  27. यह प्रगति ही है !!

    ReplyDelete
  28. सारी दुनिया ऐसे ही अच्छे लोगों से भर जाये तो क्या बात है :)

    दीपावली की अग्रिम शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  29. yae pragati nahin haen maansik uththaan haen jismae ek naari apnae liyae sochtee haen aur dusri naari ko bhi ko upar uthatee haen phir chahae wo aap ki betti ho yaa baai yaa baai ki baai

    kal bajaar mae do dukano kae bahar safaii karnae wali mahila jinaey zamadarin kehaa jataa haen wo kaam khatam karkae pastry ki shop par gayee aur unhonae wahaan pastry khaaii

    maa ko yae daekh kar achcha lagaa kyuki apnae kaam kae saath saath apni kamaii sae apni pasand ki cheez khanaa ek maansik utthan haen

    ReplyDelete
  30. aek achchi mamarmi snvednshil schchaayi. dipavli mubark ho. akhtar khan akela kota rajthan

    ReplyDelete
  31. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  32. इस तरह की कुछ खबरें, जो मेरे सुनने-पढ़ने में अब तक आईं थीं वह शिक्षक, शिक्षाकर्मियों और पटवारियों के स्‍थानापन्‍न सहायकों के बारे में थी.

    ReplyDelete
  33. मैंने आपके पास इन्हें भेजा है.... इन लोगों का अपने घर पर दीवाली ( 5 Nov 2010) शुक्रवार को स्वागत करें.
    http://laddoospeaks.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. दीपावली के इस शुभ बेला में माता महालक्ष्मी आप पर कृपा करें और आपके सुख-समृद्धि-धन-धान्य-मान-सम्मान में वृद्धि प्रदान करें!

    ReplyDelete
  35. आज की मेरी टिप्पणी सिर्फ आपको व आपके परिवार को दीपावली की शुभकामनायें देने के लिए है. मेरी तरफ से ये दिवाली आपको मंगलमय हो.

    ReplyDelete
  36. Anonymous6:36 pm

    I wasn’t aware of some of the info that you wrote about so I want to just say thank you. scholarships

    ReplyDelete
  37. बहुत अच्छी पोस्ट.दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  38. Bahut khushee mahsoos huee aapkee ye post padhke!

    ReplyDelete