Friday, July 30, 2010

ये चाहती क्या हैं?

ये चाहती क्या हैं?

ये चिड़ियाँ
चाहती क्या हैं?
जो चाहती हैं वह
ये चाहती क्यों हैं?
मिल मंत्रणा कर
कहते बहेलिए, व्याध
उत्क्रोश और बाज
क्या यूँ कुछ चाहना
भली चिड़ियों को शोभा देता है?

कहते छछूंदर
ये चिड़ियाँ
चाहती क्या हैं?
जो चाहती हैं वह
ये चाहती क्यों हैं?
क्या बिन चाहे, यूँ ही
धरती के अँधेरों में
हमारी तरह बिल बना
उसमें बच्चों को समेटे
नहीं रह सकतीं?

कहते विमान
ये चिड़ियाँ
चाहती क्या हैं?
जो चाहती हैं वह
ये चाहती क्यों हैं?
क्या बिन आकाश में उड़े
बिन हमसे उलझे
शुतुर्मुर्ग की तरह
एक घेरे में रह, पल, बढ़
भूमि पर नहीं दौड़ सकतीं?

कहते देव, बनकर थोड़े उदार
ये चिड़ियाँ
चाहती क्या हैं?
जो चाहती हैं वह
ये चाहती क्यों हैं?
क्या बिन ऊँची उड़ान भरे
बिन हमसे स्पर्धा करे
किसी दड़बे में रह, कभी कभार
उड़ना ही है तो क्या
मुर्गी की तरह नहीं उड़ सकतीं?

घुघूती बासूती

37 comments:

  1. सुन्दर! ... और फिर
    चाहती क्यों हैं
    जब पता है कि
    इसकी इजाज़त नही है।

    ReplyDelete
  2. kavita samajh main aai......

    ReplyDelete
  3. Anonymous5:19 pm

    excellent
    what a selection of word and what impact the poem has

    i hope mam people understand the punch
    regds
    rachna

    ReplyDelete
  4. सारी दिक्कतें चाह पर शुरू /अटकती और खत्म होती हैं ! आधी दुनिया के हक में अच्छी कविता !

    ReplyDelete
  5. कहते देव, बनकर थोड़े उदार
    ये चिड़ियाँ
    चाहती क्या हैं?
    जो चाहती हैं वह
    ये चाहती क्यों हैं?
    क्या बिन ऊँची उड़ान भरे
    बिन हमसे स्पर्धा करे
    किसी दड़बे में रह, कभी कभार
    उड़ना ही है तो क्या
    मुर्गी की तरह नहीं उड़ सकतीं?


    सुंदरतम रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  6. "मुर्गी की तरह नहीं उड़ सकतीं?" क्या बात कही है. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  7. क्या बिन ऊँची उड़ान भरे
    बिन हमसे स्पर्धा करे
    किसी दड़बे में रह, कभी कभार
    उड़ना ही है तो क्या
    मुर्गी की तरह नहीं उड़ सकतीं?
    ...jiwan kee udhedbun ko darsati bhavpurn rachna ke liye dhanyavaad

    ReplyDelete
  8. वाह बेलौस बिन्दास अब बोलो चिड़ियों ? परो पर हो आसमान तो बाजों की परवाह किसे हो -रहा करें !
    चूं चूं चीं चीं सुनने आता रहूँगा!

    ReplyDelete
  9. जो बाजों की चंगुल में आ जायं तो फिर उन्हें उड़ना नहीं आया ....सुना है कमजोर और एरैटिक चिड़ियों को ही दबोचते हैं बाज !

    ReplyDelete
  10. Aah! Chidiyonki mada ko to udaan ki ijazat nahi leni padti...
    Mumbai me bhi ghar hai,company ki taraf se mila hua,lekin wahan pe aise bhitti chitr zyada nahi.Pune me hain,gar aapka Pune ana ho to mujhe dikhane me bahut khushi hogi.
    Is tarah se combined mediums istemal karke bhitti chitr banane wali mai Bharat me ab to tak akeli hun..!:)

    ReplyDelete
  11. Anonymous7:07 pm

    वाकई ये चि‍ड़ि‍या बहुत कुछ चाहती है पर बहुत ही आम फंदों तक ही उलझ कर रह जाती है... मुझे घुघूती बासूती बड़े ही अटपटे शब्‍द लगते हैं और इनके अर्थ भी नहीं पता पर उड़ानों की बात करती यह कवि‍ता महत्‍वपूर्ण है हर उस व्‍यक्‍ि‍त के लि‍ये जि‍से आसमान से कोई भी सरोकार है।

    ReplyDelete
  12. rajeysha7:08 pm

    उपरोक्‍त टि‍प्‍पणी बेनामी नहीं राजेशा की है

    ReplyDelete
  13. इंसान सब कुछ कर लेना चाहता है और यह भी कि उस में और कोई अड़चन न बने।

    ReplyDelete
  14. राजेशा जी, घुघूती बासूती का अर्थ ? घुघूती एक चिड़िया है, हिमालय की चिड़िया! इसका अर्थ व संदर्भ मैंने अपने ब्लॉग पर

    >यहाँ
    दिया है। ये अटपटे शब्द बहुत से पहाड़ियों के लिए अमृतमयी यादें हैं।
    फंदों में फंसना चिड़ियों के जीवन का एक स्वाभाविक सा संकट है, वह कहते हैं ना occupational hazard! कुछ बच जाती हैं और ऊँचा उड़ती हैं और कुछ फंस जाती हैं और पिंजरे में जीती हैं। अब फंसने के भय से पहले ही से तो पिंजरे में जाकर नहीं बैठा जा सकता ना?
    वैसे एक कविता और भी लिखी थी उड़ने की चाहत यह भी हर उड़ने वाले के लिए या आसमान से सरोकार रखने वाले को रोचक लग सकती है।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुंदर कविता, घघुती को शायद पंजाबी मै घुग्गी कहते है, एक सीधी सादी, बोली भाली सी चिडियां, शांत स्व्भाव वाली

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर कविता.
    चिड़िया उड़ना चाहती है और चाहती रहेगी भले ही लोग चाहें कि चिड़िया पिंजड़े में रहे. मैने एक बार लिखा था..एक चिड़िया उड़ी और देखते ही देखते पूरा गांव कौवा हो गया !

    ReplyDelete
  17. bahut hi sundar vidha mein likha hai...amazing!

    ReplyDelete
  18. बहुत खूबसूरत ....चिड़ियों के माध्यम से आपने ऐसे लोगों कि बात कह दी जो ऊँची उड़ान भरना चाहते हैं ...

    ReplyDelete
  19. कई बार मैं सोच में पड़ जाती हूँ कि मेरे और आपके मन में एक समय एक जैसे विचार कैसे आ जाते हैं... कहीं पूर्वजन्म का नाता तो नहीं :-)
    आज मैंने एक कविता पोस्ट की है नन्हीं लड़कियों की उड़ान की चाहत पर ... पर वो तो ऐसे ही कच्चे-पक्के शब्द हैं ... इस कविता पर तो वाणी जी की तरह मैं भी निःशब्द हूँ.

    ReplyDelete
  20. और हाँ, आपकी कविता वाली पोस्ट तो नहीं खुली, पर वो पोस्ट जिसमें आपने घुघूती बासूती का अर्थ बताया है, उसे पढ़ा मैंने. और मेरी आँखें भर आयीं. बचपन जहाँ बीता हो, वो जगह कभी नहीं भूलती. मेरा पालन-पोषण लखनऊ के पास एक छोटे से कस्बेनुमा जिले उन्नाव में हुआ है, जहाँ की संस्कृति भी अवधी-बैसवारी कहलाती है और बोली भी . वो जगह इतनी सुन्दर नहीं, पर मुझे बहुत प्रिय है... वहाँ की धूल भरी लू भी मुझे अच्छी लगती है.
    फिर आप तो कुमाऊं की हैं, जहाँ की ना होते हुए भी मेरा उससे गहरा लगाव है. मैं शिवानी जी की बड़ी फैन रही हूँ और उनकी कहानियों और उपन्यासों से ही कुमाऊं को जाना है और बस मौका मिलते ही उत्तराखंड रवाना हो लेती हूँ.
    मैं समझ सकती हूँ कि इतनी प्रकृति की जिस गोद में आप पली-बढ़ीं, वहाँ की याद कैसी ह्रदयविदारक होती होगी...
    आप एक बार हो आइये ना.

    ReplyDelete
  21. सच में समझ नहीं आता है कि चिड़ियाँ क्या चाहती हैं।

    ReplyDelete
  22. चिड़ियों के माध्यम से जो आपने कहा वो सब चाहते हैं और शिकारियों के डर से अपने पंख कतरे तो नहीं जा सकते ना. उड़ना लक्ष्य है...चाहते खुद -ब - खुद पूरी होंगी और मंजिले भी.

    पहली बार आपको पढ़ा. बहुत अच्छा लगा.

    आभार

    अनामिका

    ReplyDelete
  23. आज आपका घुघूती बासूती क्या है कोन है..वृतांत भी पढ़ा. जान कर आपको बहुत अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  24. आजकल की कविता की एक विशेष पहचान है – संवादधर्मिता, कथा और रूप दोनों स्‍तरों पर। प्रस्तुत कविता में कवयित्री कभी स्‍वयं से संवाद करती है, कभी दूसरो के संवाद को चित्रित करती हैं। ये दोनों स्थितियां परस्‍पर पूरक ही कही जाएंगी।
    स्‍त्री विमर्श के लिहाज से यह एक पूर्ण कविता कही जा सकती है जो पितृसत्तात्‍मक समाज के समक्ष यक्षप्रश्‍न के समान खड़ी है। यह कविता एक साथ इतने प्रश्‍न खड़े करती है कि उत्तर देने में सदियां बीत जाएं और शायद तब भी प्रश्‍न अधूरे रह जाएं।

    ReplyDelete
  25. बहुत सुन्दर रचना है। बधाई स्वीकारें।

    ReplyDelete
  26. आपकी इस रचना ने तो निशब्द कर दिया।

    ReplyDelete
  27. ओह!! गज़ब अभिव्यक्ति!!

    ReplyDelete
  28. क्या बिन ऊँची उड़ान भरे
    बिन हमसे स्पर्धा करे
    किसी दड़बे में रह, कभी कभार
    उड़ना ही है तो क्या
    मुर्गी की तरह नहीं उड़ सकती??

    ऊँचे उड़ने की चाह मन में दफ़न किए सारी चिड़ियाओं का दर्द उतर आया है इन शब्दों में.
    एक अनकहा,अनजाना दर्द दे गयी यह कविता.

    ReplyDelete
  29. उड़ने की चाहत कविता की सही लिंक ः
    उड़ने की चाहत
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  30. मंगलवार 3 अगस्त को आपकी रचना ... चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ .... आभार

    http://charchamanch.blogspot.com/


    ज़रूर आइयेगा चर्चा मंच पर ...

    ReplyDelete
  31. चिड़ियों और मनुष्य के जीवन को केद्रित करती हुई , दार्शनिकता लिए हुए उड़ान कि चाहत संजोये , जगत चराचर में फसते रहने के लिए वध्य करता जीवन , सब कुछ कह गयी , बता गयी यह कविता . जीवन के मर्म को भेद गयी . अति सुंदर .

    ReplyDelete
  32. सचमुच.. बहुत ही सुन्दर कविता है...

    ReplyDelete
  33. वाह। तो आप हरफनमौला हैं। इतनी खूबसूरत और हट के कविता बड़े दिनों बाद पढ़ी।

    ReplyDelete
  34. बहुत अच्छी कविता ...एकदम सच ..ये चिड़ियाँ
    चाहती क्या हैं ?

    ReplyDelete