Monday, June 28, 2010

ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना.............................घुघूती बासूती

बहुत दिन से ब्लॉगवाणी चुप है। अपना कोई प्रिय चुप हो जाए तो कुछ समय तक तो हम यह सोचे रहते हैं कि व्यस्त होगा, कोई समस्या होगी, कुछ समय बाद स्वयं बोलने लगेगा। फिर पूछते हैं कि क्या बात हुई। तब भी न बोले तो चिन्ता शुरू होती है। फिर मनाने का सिलसिला चालू होता है। ऐसा ही कुछ अब ब्लॉगवाणी के साथ हो रहा है। अभी तो चिन्ता और पूछने वाली स्थिति है।

ब्लॉगवाणी मेरे और मेरे जैसे बहुत से लोगों के लिए ब्लॉगजगत की खिड़की बन गई थी। इस खिड़की से सबके ब्लॉग्स में झाँककर कहाँ क्या हो रहा है देखा जा सकता था। किसी भी औजार की सफलता उसके उपयोग की सुगमता पर निर्भर करती है। औजार तो बहुत लोग बना लेते हैं और बाजार में उनकी भरमार भी होती है किन्तु कुछ औजार ऐसे लगते हैं कि जैसे आपकी सुविधा को ही देखकर बनाए गए हों। लगता है जैसे यदि आप स्वयं औजार बनाने की योग्यता रखते और अपने उपयोग के लिए बनाते तो ठीक ऐसा ही औजार बनाते। बस यही बात ब्लॉगवाणी के साथ भी है। मैं 'थी' नहीं कहूँगी क्योंकि मैं यही मानना चाहूँगी कि सिरिल समय मिलने पर हमारे लिए और भी बेहतर ब्लॉगवाणी लेकर आएँगे।

तबतक जो बहुत से नए एग्रीगेटर्स आ रहे हैं उन्हें भी फलने फूलने, पल्लवित होने का अवसर मिलेगा। कभी ब्लॉगवाणी भी यूँ ही नई नई हमारे बीच आई थी और हमने उसका दिल खोलकर स्वागत किया और उसे अपने नेट जीवन का एक अभिन्न अंग बना लिया था। हिन्दी ब्लॉगिंग से जितने लोग जुड़ेंगे उतना ही बेहतर होगा। सो नए एग्रीगेटर्स व नए ब्लॉगर्स का सदा स्वागत ही होगा। (बस ढेर सारे नए पाठक भी आ जाएँ तो बात बन जाएगी।)

हमने ब्लॉगवाणी से कभी शिकायतें कीं तो कभी उसे सराहा,कभी मनुहार की तो कभी कुछ नया जोड़ने का अनुरोध किया। सिरिल व ब्लॉगवाणी ने हमें कभी निराश नहीं किया। इसलिए इस बार भी आशा है कि वे दोनों हमें निराश नहीं करेंगे और कुछ दिन का आराम कर लौटकर आएँगे पहले से भी स्वस्थ व तरोताजा!

सो आशा ही नहीं, विश्वास है कि शीघ्र ही फिर मिलते हैं, तब तक के लिए आभार मैथिली जी, सिरिल और ब्लॉगवाणी!
घुघूती बासूती

35 comments:

  1. हमें इस प्रवासी के बारे में ज्यादा कुछ पता नहीं बस दुआ कर सकते है क्योंकि वो आपको प्रिय है !

    ReplyDelete
  2. मन उन्मन है गीत चुप है और गजल है उदास
    ऐसे मौके पर ब्लॉग वाणी को फिर बुलाया जाए ..
    मगर किसकी बात मानेगी वो ....

    ReplyDelete
  3. उम्मीद है सब जल्द ठीक होगा !

    ReplyDelete
  4. लगता है ब्लॉगवाणी वाले मेरी ही तरह अपना घर बदलने में व्यस्त हैं। वर्धा में जबतक मेरी गृहस्थी पूरी तरह नहीं जमेगी तबतक यह ब्लॉगवाणी भी मौन रहेगी। :)

    मुझे तो विचित्र सुखानुभूति हो रही है। यह ठीक रहती तो भी मैं नहीं देख पाता। अब सभी वंचित हैं। :)

    ReplyDelete
  5. एक एग्रीगेटर जो निस्वार्थ ..फ्री सेवाए देता है ....वो भी लोगो में परेशानी का सबब कैसे बन सकता है .? उम्मीद करता हूँ के वे वापस लौटेगे ....

    ReplyDelete
  6. pahad ke lokgeeton me hee nanhi balki jan- jan ke man me ghar banaye baithi hai ghughuti. jab tak ghughuti ki ghur-ghur hai tab tak pahad me jeevan bhi hai aur ghughuti kamosh ho gai to........?

    ReplyDelete
  7. Ham sab kee dua qubool ho!

    ReplyDelete
  8. उन्हें भी कहाँ चैन मिलेगा हमारे बिना ? जल्दी ही लौट कर आएगी ब्लोगवाणी , ऐसा विश्वास है ।

    ReplyDelete
  9. इसी विश्वास को सीने से लगाये बैठे हैं..राह तक रहे हैं.

    ReplyDelete
  10. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  11. उन्होने वास्तव में बहुत अच्छा कार्य किया , मेरी शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  12. आपकी चिन्‍ता जायज है।

    ReplyDelete
  13. उम्मीद करता हूँ कि ब्लॉगवाणी फिर से जल्द शुरू होगी।

    ReplyDelete
  14. पूरा भरोसा है कि सिरिल चिट्ठेकारों के प्रेम को अनदेखा नहीं करेंगे । आदरणीय मैथिलीजी को प्रणाम।

    ReplyDelete
  15. ब्‍लॉगवाणी से ही सभी हिंदी ब्‍लोगरों को पहचान मिली है .. हमारे लिए ब्‍लॉगवाणी को आना ही पडेगा !!

    ReplyDelete
  16. उम्मीद है सब जल्द ठीक होगा !

    ReplyDelete
  17. ब्लॉगवाणी के इतने प्रेमी...!

    ReplyDelete
  18. उम्मीद करता हूँ कि ब्लॉगवाणी फिर से जल्द शुरू होगी।

    ReplyDelete
  19. aapse shabdshah, sehmat hu...

    ReplyDelete
  20. मुफ्त सेवाएँ व्यक्तिगत हों तो लम्बे समय तक नहीं चल सकती हैं। सदैव तो कोई भी जीवित नहीं रहता।
    ब्लागवाणी को सामूहिक या व्यवसायिक स्वरूप प्राप्त होगा तो वह पुनः लौट आएगी, अन्यथा पुनः लौट कर भी अधिक नहीं चल सकेगी।

    ReplyDelete
  21. जल्दी लौटने की दुआ ही की जा सकती है !

    ReplyDelete
  22. उम्‍मीद पे दुनिया कायम है ......

    ReplyDelete
  23. बहुत दिन बाद ब्लाग पर आ पाई क्षमा चाहती हूँ हमे तो अब भी विश्वास है कि मैथिली जी और सिरिल जी जरूर वापिस लायेंगे ब्लागवाणी वो इतने कठोर नही हो सकते कि कुछ लोगों की गलती की सजा हम सब को दें। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. ब्लोग्वानी ने ब्लॉग जगत के लिए बहुत काम किया है. आशा है यह जल्द ही वापसी करेगी, दोगुने जोश के साथ.

    ब्लोग्वानी और चिटठा जगत जैसे संकलकों ने हमें ब्लॉग जगत की आदत डाली है. जबसे ब्लोग्वानी बंद है, तभी से कुछ भी लिखने में मज़ा ही नहीं आ रहा है.

    "सच बात तो यह है की ब्लोग्वानी की आदत है हमें."



    ब्लोग्वानी पर मेरी हास्य कविता:
    चर्चा-ए-ब्लॉगवाणी

    ReplyDelete
  25. ब्लॉगवाणी ने जो लोकप्रियता और मुकाम हासिल किया उतना पहले किसी भी एग्रीगेटर ने नहीं किया। अब नये आने वाले इंडली, हमारीवाणी आदि में भी कई लोचे हैं, मेरे मत में किसी भी एग्रीगेटर को सफ़ल होने के लिये कुछ बातें जरूरी हैं -

    1) सर्वर की स्पीड अच्छी होना चाहिये, अभी चिठ्ठाजगत भी काफ़ी स्लो चलता है, जबकि ब्लागवाणी के साथ यह समस्या नहीं थी…

    2) एग्रीगेटर पर पोस्ट अपने-आप आ जाना चाहिये, या एक क्लिक करने से आ जायें, ऐसा नहीं कि इंडली की तरह लिंक भेजना पड़े…

    3) रजिस्ट्रेशन और ब्लॉग का पंजीकरण एकदम आसान होना चाहिये।

    4) पसन्द-नापसन्द अथवा ऊपर-नीचे वाला फ़ण्डा पूरी तरह खत्म करके, सिर्फ़ "अधिक पढ़े गये" या "इतनी बार पढ़े गये" का एक ही कालम होना चाहिये। इसमें भी यदि कोई एक ही कम्प्यूटर और आईपी से अपनी ही पोस्ट खोले-बन्द करे तो उसे "पढ़े गये" की गिनती में शामिल नहीं किया जाये। "टिप्पणी संख्या" वाली सुविधा भी बेकार सिद्ध हुई है, क्योंकि कुछ "मूर्ख" तो अपने ही ब्लॉग पर खामखा ही या तो बेनामी टिप्पणियाँ करते रहते हैं या उनके चमचे उसी लेख में से एक-दो लाइन उठाकर टिप्पणी के रुप में चेंप देते हैं।

    5) आखिरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि "यह मेरा एग्रीगेटर है, मैं जिसे चाहूंगा रखूंगा, जिसे चाहूंगा निकाल दूंगा, जिसे मेरी नीतियाँ पसन्द ना हो वह भाड़ में जाये…" वाला Attitude रखना पड़ेगा, पड़ने वाली गालियाँ ignore करने की क्षमता भी विकसित करनी होंगी, क्योंकि भारत के लोग "इतने हरामखोर" हैं कि मुफ़्त में मिलने वाली चीज़ में भी खोट निकालने से बाज नहीं आते।

    जो भी एग्रीगेटर इन बिन्दुओं का ख्याल रख लेगा, वह निश्चित ही सफ़ल होगा…

    ReplyDelete
  26. लाख एग्रीगेटर आते जाते रहें मगर ब्लोगवाणी का जो स्थान था , है , वो अन्य किसी का भी नहीं हो सकता । ये निर्विवाद सत्य है

    ReplyDelete
  27. जब हम ही बार बार उस मै गलतिया ढुढेगे, उसे बुरा कहेगे, कभी भी हम ने इन्हे धन्यवाद नही कहा, बल्कि हर बार जुत्म बेर ही निकाला तो कोई कब तक सहे..... ओर मुझे लगता है ब्लांग बाणी भी रुठ गई है

    ReplyDelete
  28. blogvani ka to sabhii ko intzar hai.

    ReplyDelete
  29. महज चन्द नासमझों की करनी का फल सबको भुगतना पड रहा है.....ब्लागवाणी के बिना तो मानों ब्लागिंग का रस ही जाता रहा.
    खैर अभी भी उम्मीद कायम है.....

    ReplyDelete
  30. चिट्ठा जगत के रहते ब्लोगवाणी की कमी महसूस नहीं होनी चाहिए.

    ReplyDelete
  31. mujhe to blogvani par post dalna aaya hi nahi kitu mai blogvani se hi sari post padhti thi ab kuchh kho gya lgta hai ,aur khoi cheej mil jati hai to khushi duguni ho jati hai .visvas hai blgvani ham sabki khushi par dhyandege .

    ReplyDelete
  32. हम भी प्रतीक्षारत हैं....

    ReplyDelete
  33. mujhe blogvani par kya chal raha hai, kyon nahi dhikh raha hai iski puri jankari to nahi hai. kuch gdbad hai ye aapke blog se pata chala. khair jo bhi hoga achcha hoga.
    aapne billi( cat) jote wali ko hata diya achcha kiya aur ab nai setting bhi pasand ayi

    ReplyDelete