Tuesday, April 27, 2010

टिमटिम तारा का जाना, अवकाश, शोक और बच्चों को लगा शौक

अभी अभी 'अनवरत' पर दिनेशराय द्विवेदी जी का राजकीय शोक पर लिखा लेख पढ़कर आ रही हूँ। इससे पहले 'मुसाफिर हूँ यारों' में नीरज जाट के चन्डीगढ़ पर तीन लेख पढ़े थे। मन यूँ ही चन्डीगढ़मय हो रहा था। सो मुझे अपने स्कूली दिनों के एक उस दिन की याद आ गई जब शोक मनाने के लिए स्कूल में छुट्टी हो गई थी।

मैं स्कूल में नई नई गई थी। इससे पहले बस्ती के स्कूलों में ही पढ़ी थी। ये स्कूल आठवीं तक ही होते थे और उसके बाद निकट के शहर में जाकर पढ़ना होता था। अंग्रेजी स्कूल में भी पढ़ना था और मिशनरी में भी नहीं पढ़ना था। बस्ती के शेष सारे बच्चे या तो हिन्दी स्कूल में पढ़ने जाते थे या फिर कॉन्वेन्ट में। मुझमें तब भी यह स्वतन्त्र रहने का रोग था बल्कि अब से और भी अधिक था। किसी भी धर्म, विशेषकर अन्य के धर्म के गीत गाना व कॉन्वेन्ट स्कूल का लगभग तानाशाही शासन मुझे रास नहीं आने वाला था, यह जानती थी। सो एक ऐसे स्कूल में गई जो बहुत अधिक लोकतान्त्रिक था, अधार्मिक था या कहिए जहाँ धर्म नहीं था। किन्तु यहाँ केवल दो समस्या थीं, एक तो यह कि अपनी बस में आने वाली मैं इकलौती छात्रा थी, दूसरी यह कि मुझे सुबह सुबह सवा या डेढ़ घंटे पहले स्कूल पहुँचना पड़ता था।

स्कूल गर्मियों में सुबह साढ़े सात बजे लगता था। हमारी बस के दो चक्कर लगते थे पहला सुबह साढ़े पाँच बजे जाता था और सवा छह बजे तक स्कूल पहुँचा देता था। दूसरा पौने सात बजे का होता और स्कूल साढ़े सात या सात पैंतीस पर पहुँचा देता था। ठीक साढ़े सात पर स्कूल का गेट बन्द हो जाता था। उसके बाद आने वाले पूरी असेम्बली भर सजा पाते और उनका नाम लेट लतीफों के रजिस्टर में चढ़ जाता, हर लेट आने वाले बच्चे के कारण उसके हाउस के अंक कम हो जाते आदि आदि। प्रिन्सिपल से अपनी समस्या बताने पर उन्होंने कहा कि देर से आने की वे अनुमति नहीं देंगी। कॉन्वेन्ट में पढ़ने की अनुमति मेरा मन नहीं देता था सो मैंने साढ़े पाँच की बस से जाना ही स्वीकार कर लिया।

वीरान स्कूल में इतनी सुबह जाकर अपनी कक्षा में बैठ जाना, कुछ पढ़ते रहना या बस यूँ ही स्कूल के विशाल मैदानों के चक्कर लगाना मेरे दिन का आरम्भ होता था। भय की बात कभी मन में नहीं आई। भय होता भी तो मनुष्य नाम के प्राणी से ही होता। खैर, कुछ ही दिनों में गर्मियों की छुट्टियाँ हो गईं।

गर्मियों के अवकाश के बाद का पहला दिन था। डेढ़ घंटे की प्रतीक्षा के बाद स्कूल शुरू हुआ। सभी बच्चों में इस दिन बहुत उत्साह रहता है। मैं तो अभी भी काफी नई थी सो मित्र भी नहीं ही थे। असेम्बली में केवल राष्ट्रीय भावना वाले गीत ही होते थे। प्रार्थना थी....
हम नौजवान देश के बढ़ते ही जाएँगे
हम हर कदम पर शान्ति का घर बसाएँगे।

उस दिन असेम्बली में घोषणा की गई कि एक अध्यापिका का निधन हो गया है सो मौन रखा जाएगा और उसके बाद स्कूल की छुट्टी हो जाएगी। अध्यापिका का नाम तो याद नहीं परन्तु जो नाम मेरे सहपाठियों ने उन्हें दिया था और जिसका उपयोग कर उन्होंने मुझे उनकी बातें बताईं थीं वह याद है। सब उन्हें टिम टिम तारा कहते थे। अभी छुट्टियों से कुछ दिन पहले ही उनका विवाह हुआ था। वे पिछली कक्षा में हिन्दी पढ़ाती थीं। एक कविता थी टिम टिम तारा वाली बस उसको पढ़ते समय ही बच्चों ने उनका नामकरण कर दिया था। सब बच्चे उदास थे। टन्नी तो बहुत ही अधिक उदास था। टन्नी का नामकरण टिम टिम तारा ने किया था। टन्नी नामक एक कठपुतली की कहानी पाठ्यपुस्तक में थी। हमारा टन्नी भी बहुत शैतान व अशान्त था। एक पल भी टिक कर नहीं बैठता था। सो टिम टिम तारा ने उसे कहा कि वह भी टन्नी ही है। उस दिन सब दुखी साथियों से मैंने टिम टिम तारा के बारे में विस्तार से जाना और इस बातचीत के द्वारा बहुत से छात्रों को भी जाना।

टिम टिम तारा का विवाह छुट्टियों से कुछ दिन पहले ही हुआ था। बच्चों ने 'मिस' को उपहार भी दिया था। और वे आशा कर रहे थे कि छुट्टियों के बाद देखेंगे कि मिस विवाह के बाद कैसी दिखती हैं। किन्तु छुट्टियों में ही मिस रसोई में जल गईं और मर गईं। कई जोड़ी आँखों में नमी थी। एक दो स्पष्ट रो रहे थे। यह शोक मनाने को मिली एक ऐसी छुट्टी थी जब कम ही विद्यार्थी सिनेमा का कार्यक्रम बनाते। शायद किसी ने भी नहीं बनाया। जब भी कभी शोक के लिए छुट्टी मिलती है तो मुझे वह अपनी अनदेखी मिस टिम टिम तारा याद आ जाती हैं। उस दिन दोपहर को डेढ़ बजे तक मुझे बैठकर स्कूल बस की प्रतीक्षा करनी थी। टिम टिम तारा बहुत देर तक मेरे साथ रहीं थीं।

घुघूती बासूती

30 comments:

  1. ऐसी घटनायें कम ही होती हैं, दुखद...

    ReplyDelete
  2. दुखद संस्मरण...प्रभावशाली लेखन..

    ReplyDelete
  3. दुखद स्मरण.....जीवन में कभी ऐसा भी घटता है।

    ReplyDelete
  4. कुछ अपनी यादें भी ताज़ा हो गयीं...दुःखद यादें...कभी-कभी किसी से न मिलकर भी उसके अस्तित्व का एहसास हो जाता है...अजीब होता है ये मन.

    ReplyDelete
  5. Aisa laga,mano aap saamne baithke qissa suna rahi hon..man ateet me kho gaya..

    ReplyDelete
  6. अपने प्रिय का बिछोह ...समझ सकता हूँ !

    ReplyDelete
  7. दुखद संस्मरण।

    ReplyDelete
  8. दुखद यादें
    लेकिन हो सकता है उस समय यह सब सुखद लगा हो, क्योंकि स्कूल की छुट्टी जो हो गई थी।
    क्या सचमुच टिम टिम तारा के साथ दुर्घटना हुई होगी या???

    प्रणाम

    ReplyDelete
  9. ak aur maout jalne se ,man dukhi ho gya .ham to sirf netao ki ?chuutti mnane me khush hote the kintu ab to bachho ko vo saoubhagy kahan ?

    ReplyDelete
  10. बहुत दुखद यादे बताई आप ने, हमे उस समय तो इतना नही पता था, लेकिन हम हमेशा जिस टीचर का होम वर्क कर के नही ले जाते, उस के बारे हमॆशा भगवान से प्राथना करते कि आज वो मर जाये नोर हम पीटाई से बच जाये, या स्कुल की छुट्टी करवाने के लिये किसी भी टीचर के लिये प्राथना करते, ओर आज सोच कर अपनी इन वेबकुफ़ियो पर हंसी आती है

    ReplyDelete
  11. ये सब दुखद घटनाएँ, जीवन का हिस्सा हैं। ये सब स्मृति में रह जाती हैं और जब तब याद आती रहती हैं। प्रिय के जाने से जो शोक होता है उस का निदान भी यही है कि खुद को काम में रमाया जाए। जनतंत्र में मिथ्या शान के लिए शोक मनाने हेतु छुट्टियाँ करना एक कलंक के सिवा कुछ नहीं।

    ReplyDelete
  12. आज के समय में ऐसी छुट्टी का मतलब सिर्फ़ कहीं आऊटिंग या मूवी है बस। इतनी ही संवेदनशीलता है हममें।

    @ भय होता भी तो मनुष्य नाम के प्राणी से ही होता।
    -----------------------------------
    एक बार हम दो परिवार पचमढ़ी भ्रमण पर गये थे। ऑफ़सीज़न के कारण पर्यटक काफ़ी कम थे। चौड़ागढ़ नामक शिखर पर चढ़ते समय वीराने में अकेली भील कन्यायें नींबू पानी बेचती दिखी। हमारे साथ की महिला साथी ने उससे पूछा कि अकेले में उसे डर नहीं लगता? उसका जवाब भी ऐसा ही था कि जानवर तो हमारे परिवार हैं, और आजकल बाहर के लोग हैं नहीं तो डर कैसा?
    सच में, मनुष्य ही भयभीत करने लायक है।

    आपका बहुत बहुत आभार।

    ReplyDelete
  13. भावुक करता लेखन...कई दुख जीवन के ऐसे ही छाप छोड़ जाते हैं.

    ReplyDelete
  14. मैं तो जी भाटिया जी से सहमत हूं।
    लेकिन उन दिनों जिन मास्टर जी को हम ‘मृत्युदण्ड’ देते थे, वे अब याद आते हैं। वे पीटते चाहे कितना हो, लेकिन उनमें कुछ प्यार भी तो था। अगर किसी को बाजार में मिल गये तो अगले दिन क्लास में कहते थे कि अरे फलाने (छात्र का नाम लेते थे) तू कल उस समय बाजार में घूम रहा था। सच्ची में बडी खुशी मिलती थी जब वे हमारा नाम लेते थे। नहीं तो सत्तर अस्सी बच्चों की क्लास में किस टीचर को हरेक छात्र का नाम याद रहता है।

    ReplyDelete
  15. ब्लौगर मित्र, आपको यह जानकार प्रसन्नता होगी कि आपके इस उत्तम ब्लौग को हिंदीब्लॉगजगत में स्थान दिया गया है. ब्लॉगजगत ऐसा उपयोगी मंच है जहाँ हिंदी के सबसे अच्छे ब्लौगों और ब्लौगरों को ही प्रवेश दिया गया है, यह आप स्वयं ही देखकर जान जायेंगे.
    आप इसी प्रकार रचनाधर्मिता को बनाये रखें. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  16. मार्मिक संस्मरण।

    ReplyDelete
  17. बहुत ही मार्मिक संस्मरण...उन टीचर से आप मिली नहीं थीं,पर उनके जाने का दर्द अपने दोस्तों की आँखों में पढ़ उनके दुख को इतनी गहराई से महसूस किया कि अब तक वह आपकी स्मृति में है...

    अब एक व्यावहारिक बात.स्कूल में आज भी शोक प्रदर्शन हेतु छुट्टियां दे देते हैं....पर यह कहाँ तक उचित है?...उस दिन आपको भी इतनी देर तक स्कूल में अकेले रुकना पड़ा. आज भी बच्चे वापस आ जाते हैं. माता-पिता ऑफिस गए होते हैं. क्रेश के संचालक एक नियत समय पर ही बच्चों को स्कूल बस से लेने आते हैं.कितनी बार बच्चों को यूँ ही सड़क के किनारे किसी रेलिंग पर बैठे इंतज़ार करते देखा है...यह प्रथा सही नहीं लगती खासकर छोटे बच्चों के स्कूलों में.

    ReplyDelete
  18. शायद एक तारा आज कहीं मुस्कराया हो, यह संस्मरण पढ़कर.

    ReplyDelete
  19. घुघुती जी, स्‍कूल चयन की जिद अपनी सी लगी। विवाह के बाद एक शिक्षिका का जलकर मरना भी समाज का दूसरा पहलू बता गया। शोक दिवस पर छुट्टी होना या नहीं यह भी एक बहस का मुद्दा हो सकता है।

    ReplyDelete
  20. संवेदना व्यक्त करने के और भी तरीके हैं छुट्टी के अतिरिक्त । छुट्टी देकर तो आप प्रसन्नता फैला रहे हैं । अब कोई कितना अपने मन के भाव छिपाये ।

    ReplyDelete
  21. एक मार्मिक संस्मरण। दिल को छू गया।

    ReplyDelete
  22. touchy.
    yadein hi to hain jo hamesha sath rahti hai, gahe-bagaahe man ke darwaje khol bahar chali aati hain....

    ReplyDelete
  23. कभी कभी कुछ पुरानी यादें हमेशा झाझ्कोड़ जाती हैं ।

    ReplyDelete
  24. दुखद प्रसंग, दिल को उदास कर जाती हैं ऐसी यादें।

    ReplyDelete
  25. may the departed soul rest in peace.

    ReplyDelete
  26. गनीमत है कि शिक्षाविभाग में इतने संवेदनशील लोग हैं । मैं बैंक मे काम करता था और जब भी मित्रों से पूछता था कि मान लो मैं नौकरी पर आते हुए मर जाऊँ तो उस दिन बैंक बन्द होगा क्या ? उत्तर मिलता था हर्गिज़ नहीं ।
    सो यही है ज़िन्दगी ।

    ReplyDelete
  27. :( काश यादे रेत होती,
    मुट्ठी से निकल जाती, मै पैरो से उडा देता..

    ReplyDelete
  28. ...
    Kisi apne-paraye ke chale jaane ke baad uski yaad kintna vyathit kar jaati hai iska maarmik chitran padhkar man gahri samvedana se bhar utha....

    ReplyDelete
  29. sach much dil ko chhoo lene wala

    ReplyDelete