Friday, January 08, 2010

सेल फोन कान से चिपकाने के कितने लाभ! आम के आम गुठलियों के दाम!.........घुघूती बासूती

हममें से बहुत से लोग सेल फोन कान से चिपकाए पति, पत्नी, बच्चों, मित्रों से प्रायः परेशान हो जाते हैं। सेल फोन कान पर लगाकर वे जैसे समाधिस्थ हो जाते हैं। फिर आप कुछ बोलने के लिए इर्द गिर्द मंडराते रहिए। बच्चे को स्कूल की फीस माँगनी होती है, बस चाहे छूट जाए, मोबाइल का छूटना कठिन है। स्त्रियाँ तो घर के काम एक हाथ से या मोबाइल को कंधे व कान के बीच संतुलित कर करने में माहिर हो गईं हैं। (जब से मेरी एक बाँह टूटी है मैं मोबाइल का उपयोग न करने की अपनी आदत पर बहुत पछताती हूँ। अन्यथा मैं भी एक हाथ से जीने की कला में पारंगत होती!) दफ्तरों में लोग मोबाइल टंगाए जैसे 'विघ्न मत डालो' की तख्ती लगाए बैठते हैं। उनसे जिनका काम हो उनकी पंक्ति चाहे जितनी भी लम्बी हो जाए।

किन्तु इन मोबाइलधारकों के लिए एक खुशखबरी है। नया शोध कहता है कि मोबाइलधारकों को एलज़ाइमर्स होने की सम्भावना बहुत कम है। यही नहीं यदि पहले से है तो मोबाइल का अधिक उपयोग करने से रोग में लाभ भी होगा। अब यह बात और है कि इस रोग के रोगी को मोबाइल क्या है याद रहेगा? यदि याद भी रहा तो वह कहाँ रखा है याद रहेगा? यदि वह भी मिल गया तो किसको फोन करना है यह क्या याद रहेगा? एलज़ाइमर्स वृद्धावस्था का रोग है और इसमें स्मृति कम होती जाती है।

यह शोध अभी तो चूहों पर ही हुआ है किन्तु आशा है मनुष्य पर प्रयोग भी इस बात की पुष्टि करेंगे। यदि यह सच निकला तो हम सब अपने अपने नानी नाना, दादी दादा को मोबाइल ही उपहार देना चाहेंगे। यदि सारा दिन मोबाइल चिपकाए रहने पर कोई टोकेगा तो कह देंगे कि हमें अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखने दो।

वैसे भी भारतीय निश्चिन्त रहें, उन्हें और चाहे जितने रोग हों एलज़ाइमर्स होने की सम्भावना बहुत कम है। कारण एक तो हमारा मोबाइल प्रेम दूसरा हमारा हल्दी प्रेम! हम अपने भोजन में हल्दी का बहुत प्रयोग करते हैं, चोट लगने, जुकाम खाँसी होने या ठंड में हल्दी डालकर दूध पीते हैं। हल्दी भी एलज़ाइमर्स होने की संभावना को कम करती है।

तो देखिए हम भारतीयों के पास एक रोग से बचने की दो युक्तियाँ हैं।

घुघूती बासूती

19 comments:

  1. ये जो बिना हाथों के मोबाइल उपयोग करते हैं उन्हे एक दिन cervical का प्रकोप पकड़ेगा तब पता चलेगा .

    ReplyDelete
  2. नया शोध कहता है कि मोबाइलधारकों को एलज़ाइमर्स होने की सम्भावना बहुत कम है।

    -कल रात ही यह समाचार सुन प्रसन्न हुआ था और अब फिर से. :)

    ReplyDelete
  3. सब से लेटेस्ट मार्केटिंग तकनीक यही है कि जरूरत न हो तो प्रोडक्ट के लिए जरूरत पैदा करो।

    ReplyDelete
  4. इन शोधों पर जल्‍दी भरोसा करना ठीक नहीं कभी आता है कि मोबाइल से ब्रेन ट्यूमर हो सकता है कभी एल्‍जाइमर्स दूर हो सकता है ....
    हाँ हल्‍दी जरूर फायदेमंद है , खासकर सर्दी में

    ReplyDelete
  5. हल्दी वाला फंडा वाकई उपयोगी है

    ReplyDelete
  6. हमारी वर्षों की जीवन पद्धति में सिर्फ नुकसान ही नुकसान दिखाई देते हैं .. पर पश्चिम का कोई भी शोध तुरंत विश्‍वास करने योग्‍य बन जाता है!!

    ReplyDelete
  7. मोबाइल फोन से उपयोगी कोई मसाला अभी तक नहीं खोजा जा सकता है। इसके मुकाबले की कोई औषधि नहीं है। चूहों की तो छोडि़ये इंसानों द्वारा किये जा रहे इनके प्रयोग हैरतअंग्रेज हैं, ध्‍यान से पढि़एगा हैरतअंगेज नहीं। मोटरसाईकिल और टू व्‍हीलरों पर दौड़ते हुए सिर को एक कंधे की तरफ झुकाते हुये, बातें बनाते हुये संतुलन साधते मोबाइल वीर चहुं ओर मंडराते मिलते हैं।

    ReplyDelete
  8. इस रचना ने मन मोह लिया।

    ReplyDelete
  9. वाह घुघूती जी मोबाइल का एक फायदा तो पता चला.. वरना ये तो हर लिहाज़ से नुकसानदेह है. चाहें बीमारी की बात करें, या पैसे की... लेकिन इसके बिना जीना भी मुश्किल है... कम से कम हम पत्रकारों के लिए तो ऐसा ही है...

    ReplyDelete
  10. लो.. आप ने एक रो्ग का समाधान बताया डा0 साहब ने एक दूसरी समस्‍या बता दी।

    ReplyDelete
  11. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  12. अच्छा व्यंग !

    ReplyDelete
  13. एक महानुभाव से जरूरी काम था तो फोन न कर रूबरू मिलने पहुँच गया. मगर बात ही नहीं हो पा रही थी, मोबाइल पर लगातार हैल्लो हैलो....सोचा अच्छा होता फोन ही कर लेता. तो यह हाल है हमारा...

    ReplyDelete
  14. एक अल्जाइमर नहीं होगा..पर पता नहीं और कितने सारे रोग घर कर लेंगे
    'अल्जाइमर' से वैसे भी 'भारत' में लोग कम ही ग्रसित होते हैं है..क्यूंकि हम लोग खाने में हल्दी का प्रयोग करते हैं....अमेरिका के राष्ट्रपति 'रोनाल्ड रीगन' को बहुत बार सलाह दी गयी थी भोजन में हल्दी के प्रयोग की..पर वे इस स्वाद को नहीं अपना सके..५ साल तक वे इस रोग से ग्रस्त थे और किसी को नहीं पहचानते थे.

    ReplyDelete
  15. अगर कोई फायदा वास्तव में है तो ठीक है, अच्छी बात है.

    ReplyDelete
  16. हल्दी तो वाकई फायदेमंद होती है ...पर यह मोबाइल ..तोबा है इस से ..

    ReplyDelete
  17. ab inconvinienti9:35 pm

    सीनियर सिटिज़न बनते ही सभी को मुफ्त मोबाईल कनेक्शन दे दिए जाने चाहिए. समय भी कटेगा, अल्झाइमर से बचाव भी होगा और माइक्रोवेव रेडियेशन जल्दी इहलोक यात्रा पूरी करने में मदद भी करेगा :-) यानि आम के आम गुठलियों के दाम.

    ReplyDelete
  18. वाह यह तो बहुत ही उपयोगी जानकारी दी आपने..
    अच्छा पोस्ट..

    आभार
    प्रतीक

    ReplyDelete