Tuesday, December 22, 2009

काश, बिना दुर्घटना के सीट बेल्ट पहनना सीख लिया होता !

कार में आगे बैठने पर सीट बेल्ट पहनना आवश्यक होता है। कितना अच्छा होता कि पीछे की सीट पर भी यह आवश्यक होता।

मैं लगभग सदा पीछे की सीट पर बैठती हूँ और इसी कारण पेटी नहीं बाँधती थी। सच तो यह है कि पेटी बाँधने का खयाल भी नहीं आता था। शनिवार को मैं पुणे जा रही थी। रास्ते में कार की दुर्घटना हो गई। ड्राइवर ने पेटी बाँधी थी, उसे खंरोच तक नहीं आई। मेरी बाँई बाँह में दो जगह हड्डी टूटी। यदि मैंने भी पेटी बाँधी होती तो शायद मुझे भी चोट नहीं लगती।

यह पोस्ट अपने उन्हीं मित्रों के लिए लिख रही हूँ जो मेरी तरह पीछे बैठने पर पेटी नहीं बाँधते। आगे बैठें या पीछे, पेटी अवश्य बाँधें। अन्यथा बिना बात के हाथ पाँव तुड़वाकर मेरी तरह सीखना पड़ सकता है।

घुघूती बासूती

31 comments:

  1. मानव दूसरों की गल्तियों से सीखे तो बेहतर है क्योंकि इतनी गल्तियाँ खुद करके सीखने का समय कहाँ है?

    बाँएँ बाँह की हड्डी दो जगह से टूटी? फिर यह ब्लॉग पोस्ट!?

    ये हुई ना ब्लॉगिंग :-)

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  2. Rajesh Srivastava12:09 am

    aap jaldi theek ho jaayen. Seat belt jaruri hai.

    ReplyDelete
  3. पीछे बैठ कर पेटी बाँधने की तो सच में इच्छा नहीं करती, मगर ज़रूरी है. आशा है आप जल्दी अच्छी हो जाएँ.

    ReplyDelete
  4. अरे हमारे यहां तो अगर पीछे किसी ने बेलट ना बांधी हो तो चालक को डबल जुर्माना होता है, पिछे क्या अगर किसी दुसरे ने बेलट ना बांधी हो तो उस के साथ साथ चालक को भी डबल, यानि यह जिम्मेदारी चालक की है, बहुत जरुरी है.. चलिये अब जल्दी से ठीक हो जाये

    ReplyDelete
  5. ईश्वर की बड़ी कृपा..रक्षा की.


    आइंदा हम तो ध्यान रखेंगे ही, आप भी रखें.


    शीघ्र स्वास्थय लाभ की कामना!!

    ReplyDelete
  6. वाकई अब हम भी ध्यान रखेंगे वैसे तो हमें आगे की सीट पर भी सीट बेल्ट बाँधना अच्छा नहीं लगता है पर कानून की मजबूरी है :)

    जल्दी से स्वस्थ्य हों शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  7. ओह ! जल्दी से स्वस्थ हों ! जीवन दाई सीख !

    ReplyDelete
  8. ईश्वर जल्दी ही आपको स्वास्थ्यलाभ प्रदान करे!

    यह सही है कि पीछे बैठने वाले को सीट बेल्ट बाँधने का खयाल ही नहीं आ पाता।

    ReplyDelete
  9. बला टली...और अच्छी सीख भी मिली ....
    शीघ्र स्वस्थ हो ...!!

    ReplyDelete
  10. ओह्!! अपनी तबियत का खयाल रखें और जल्दी से ठीक हो जाये..

    ReplyDelete
  11. ओह ....शुभकामनायें आप जल्दी स्वस्थ हों क्योंकि ....!

    हुआ ये की दो तीन दिन पहले हमारा कंप्यूटर भी नेट की पिछली सीट पर सवार होकर , ब्लोगिंग को जा रहा था की दुर्घटना हुई और बेचारा आह़त हो गया उसने सुरक्षा बेल्ट तो बांधी हुई थी पर शायद उसे आह़त होना ही था ,फिलहाल उसकी हालत में थोडा सुधार है सो आपको दुआएं दे रहा है !

    ReplyDelete
  12. अति शीघ्र स्वास्थ्य-लाभ करें ।

    ReplyDelete
  13. शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूँ.

    ReplyDelete
  14. पिछली सीट पर बैठ कर बैल्ट बांधने की बात हमारे भी दिमाग में भी नही आती है जी। अब से ध्यान रखेंगें।
    आप शीघ्र स्वस्थ हों जायें, प्रार्थना करता हूं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  15. हम तो कम स्पीड में गाडी चलाना पसंद करते है.. हालाँकि पीछे कम ही बैठना होता है.. पर फिर भी गाडी की गति कम ही रखी जाती है.. ये आदत बहुत पहले से है.. यहाँ तक कि जब हम ड्राइवर के बगल वाली सीट पर होते है तो ड्राइवर साहब भी धीरे ही चलाते है..

    ReplyDelete
  16. मैं तो इसलिये जरूर ही बांधता हूं क्योंकि इसके भी पैसे चुकाये हैं. और हेलमेट भी इसीलिये पहन लेता हूं क्योंकि आठ सौ रुपये का खरीदा था.):-

    ReplyDelete
  17. आपकी इस घटना ने मुझे मेरे चाचा की बात याद दिला दी। वो हद से ज़्यादा गुटखा खाते थे उसका अंत हुआ मुंह के कैंसर से। वो आज इस बात पर अफसोस जताते है। ये बात मैं अपने आसपास मौजूद कई गुटखा गटकनेवालों को सुना चुकी हूँ लेकिन, किसी ने आज तक खाना नहीं छोड़ा। जब तक ख़ुद पर नहीं बीतती कोई नहीं जागता हैं।
    आपका स्वास्थ जल्द दुरुस्त हो।

    ReplyDelete
  18. अरमान तो वैसे खुली कार के छत पर बैठने के भी हैं, लेकिन वास्‍तविक बैठना जो है वह बाइक पर ही हो पाता है. और उसमें आगे, पीछे दोनों एंड पर बैठकर देख चुका हूं, दिक्‍कत है पेटी बांधने की सहूलियत कहीं नहीं है..
    हम से बाइक-बेबंधों की सलाह में कुछ सोचकर जवाब दीजिए. बाई हाथ की तकलीफ़ कम हो जाए, तभी दीजिएगा, लेकिन सोचना तो अभी से शुरु कर दीजिए.

    ReplyDelete
  19. ईश्वर जल्दी ही आपको स्वास्थ्यलाभ प्रदान करे!
    चारपहिया वाहन मालिक हिन्‍दी ब्‍लागरों को हमारी बधाई.

    ReplyDelete
  20. ओह ! जल्दी स्वस्थ होने की शुभकामना. क्या आप अभी पुणे में ही हैं?

    ReplyDelete
  21. अरे.. शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की शुभकामनायें

    आपकी नसीहत याद रखेंगे..

    ReplyDelete
  22. आप के जल्द स्वस्थ लाभ की कामना है !
    ऐसे ही कुछ दिन पहले भाई सलीम खान हेलमेट का महत्वा भी समझ कर समझा चुके है ,गनीमत है की उन्होंने हेलमेट पहन रक्खा था पर अफ़सोस ! काश आप ने सीटबेल्ट लगाया होता !!!

    ReplyDelete
  23. ओह!!..ये तो बहुत बुरा हुआ...प्लीज़ अपने हाथ का ख़याल रखें और जल्द से जल्द स्वस्थ हो जाएँ..
    इतने दर्द में भी आपने दूसरों का सोचा...और ये सलाह देने चली आयीं...सलाम इस जज्बे को...

    ReplyDelete
  24. शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिये शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  25. ठोकर खा खा कर ही सीखा जाता है .
    स्वास्थ्य क ध्यान रखे वैसे मै भी सीट बेल्ट वही बान्धता हू जहां जुर्माने का भय हो

    ReplyDelete
  26. अरे... आप ठीक तो हैं न.. खुदा का बड़ा करम हो गया.. अपना ख्याल रखिए.. और बाकी लोग भी इस बात का ख्याल ज़रूर रखें... जो लोग हेल्मेट नहीं पहनते हैं.. उनको भी सलाह है.. प्लीज़ ऐसा न करें...

    ReplyDelete
  27. आप शीघ्र स्वस्थ हों , यही कामना है !

    ReplyDelete
  28. aapne achhi seekh di hai agli bar se dhyan rakhege .aap sheeghr svsth ho inhi shubhkamnao ke sath.

    ReplyDelete
  29. आप जल्दी ठीक हों, यही शुभकामना करते हैं।
    सीट बेल्ट और हेलमेट , वास्तव में जीवन रक्षक होते है, विशेषकर हाइवे या फास्ट ट्रैफिक में।

    ReplyDelete