Wednesday, June 10, 2009

यह तीर

यह तीर
तुम्हीं कहो तुमसे क्या कहूँ ओ दोस्त
मेरे पास कहने को शब्द चूक गए हैं,
तुम्हारे पास हों तो उधार दे दो दोस्त
मेरा तो सारा ही खजाना चूक गया है।


तुझसे नाराज हो मैं ही रीत जाती हूँ
कैसे होऊँ तुझसे नाराज ए दोस्त मेरे,
फिर से भरना है संवेदनाओं का घड़ा
तो कैसे रूठूँ तुझसे बता ओ मीत मेरे।


तेरे तरकश में तो भरे हैं कितने ही तीर
मेरे तरकश का तो तू था आखिरी तीर,
अब चलाऊँ या रखूँ सम्भाल कर इसे
न तू बताए, न बता सकता यह तीर।


निशाना कोई भी लगाऊँ या न लगाऊँ
चलाऊँ या हृदय लगाऊँ मीत यह तीर,
कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!


घुघूती बासूती

26 comments:

  1. कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!
    कितनी बेबस अनुभूति ।

    ReplyDelete
  2. निशाना कोई भी लगाऊँ या न लगाऊँ
    चलाऊँ या हृदय लगाऊँ मीत यह तीर,
    कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    -bahut gahari abhivyakti.

    ReplyDelete
  3. वाकई कुछ तीर ना ही चलायें जाएँ तो बेहतर है.........सुंदर रचना.....गहरी अभिव्यक्ति लिए हुए.......

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति!
    लेकिन संवेदनाएँ मरती नहीं हैं। वे कही गहराई में ऊब-डूब हो रही होती हैं। बस उन्हें निकाल बाहर लाना है। पर उस के लिए साथी चाहिए।

    ReplyDelete
  6. मेरे तरकश का तो तू था आखिरी तीर,
    अब चलाऊँ या रखूँ सम्भाल कर इसे

    यही दुविधा अंतिम तीर के लिए कर्ण की भी थी।

    निशाना कोई भी लगाऊँ या न लगाऊँ
    चलाऊँ या हृदय लगाऊँ मीत यह तीर,
    कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    वाह। किसी की पंक्तियाँ हैं-

    जो अच्छे हैं उनकी कहानी भी अच्छी।
    लड़कपन भी अच्छा जवानी भी अच्छी।
    तेरे तीर को क्यों न दिल में जगह दूँ,
    निशाना भी अच्छा निशानी भी अच्छी।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    ReplyDelete
  7. कई बार कोशिश की, कि शब्दशः पढूं लेकिन हर बार 'दोस्त' से 'ईश्वर' प्रकटता रहा !... दूर कहीं घंटियां गूंज रही थी !... लगा , जैसे घुघूती 'ईश्वर' को समर्पित हो गई हों !

    ReplyDelete
  8. कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    सुंदर अभिव्यक्ति और बहुत ही सटीक भाव.

    रामराम.

    ReplyDelete
  9. निशाना कोई भी लगाऊँ या न लगाऊँ
    चलाऊँ या हृदय लगाऊँ मीत यह तीर,
    कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    बहुत सुन्दर लिखा।एक टीस का एहसास -सा होता है।बढिया रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  10. आपके सभी तीरों से घायल हैं।
    हमेशा की तरह बेहतरीन।

    ReplyDelete
  11. sara dard undel diya hai aapne in shbdo me .jhkjhor kar rakh diya hai is na chlne vale teer ne .
    abhar

    ReplyDelete
  12. कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    अच्छे भावः, सुन्दर अभिव्यक्ति है ............

    ReplyDelete
  13. तेरे तरकश में तो भरे हैं कितने ही तीर
    मेरे तरकश का तो तू था आखिरी तीर,
    अब चलाऊँ या रखूँ सम्भाल कर इसे
    न तू बताए, न बता सकता यह तीर।

    बहुत सुंदर भाव...!

    ReplyDelete
  14. waah kya teer hai.......bahut badhiya

    ReplyDelete
  15. ना अली, ईश्वर नामक वस्तु/विचार/परिकल्पना पर कोई विश्वास नहीं। उसका ध्यान कम ही आता है, जब आता है तो उसके अस्तित्व पर प्रश्नचिन्ह लगाने के लिए ही, जैसे आज मेरे स्वास्थ्य को लेकर माँ बोलीं कि मैं तो केवल भगवान से प्रार्थना ही कर सकती हूँ तो मेरा उत्तर था, 'ना बिल्कुल नहीं करना।'
    दोस्त से तात्पर्य मित्र से ही था, वह मित्र कोई भी हो सकता है, कोई मित्र ही, पति,संतान या स्वयं दर्द।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  16. ओह, बहुत बार सुना है कि चाकू खरबूजे पर गिरे या खरबूजा चाकू पर, कटना खरबूजे को ही होता है।

    पर याद हमेशा खरबूजे की मिठास और सुगन्ध ही रहती है।

    ReplyDelete
  17. स्वस्थ हो जाइये ! मैं अपनी बात आगे चल कर कह लूंगा ! यकीन जानिये कहूंगा ज़रूर !

    ReplyDelete
  18. "वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर"
    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति." अली ने आपकी अस्वस्थता की बात कही. क्या तबीयत ख़राब है. आप जल्द ही ठीक हो जाएँ यहीं कामना है.

    ReplyDelete
  19. ghughti ji , aapki is rachna ne bahut hi gahre bhaav pradarshit kiya hai .... man me jaise uthal puthal muchi hui hai ....

    meri badhai sweekar kare..

    kya aapki health acchi nahi hai , meri praarthana hai eeshwar se ki ,wo aapko jaldi hi swasth banaye..

    haan.. meri nayi kavita ko aapka aashirwad mil jaaye to khushi hongi...

    ReplyDelete
  20. घुघूती बासूतीजी, सेना की कुर्बानियों को मेरा भी सलाम, लेकिन किसी भी चीज के एक पक्ष की तर
    फ से बिल्‍कुल आंखें मूंद लेना मेरे हिसाब से समझदारी नहीं हैं। क्‍या सेना की ज्‍यादतियों को गिनाने की जरूरत है? पूर्वोत्तर से लेकर कश्‍मीर तक लंबी फेरहिस्‍त है। मणिपुर की शर्मिला इरोम पिछले आठ सालों से बिना कुछ खायेपिये सेना हटाने की मांग के लिए भूखहड़ताल पर बैठी है। पहली बात तो यही है कि हमने जिन संस्‍थाओं, व्‍यक्तियों, पदों को देवतुल्‍य और अनक्‍वेश्‍चनेवल बना दिया है उनके हर पक्ष को सच्‍चाई की कसौटी पर कसना शुरू करें। आप जानती ही होंगी कि यह भक्तिभाव यूरोप के पुनर्जागरण और हमारे देश के नवजागरण काल में सबसे ज्‍यादा निशाने पर था। यह भक्तिभाव तर्क का दुश्‍मन है। या तो भक्तिभाव रहता है या तर्क। दूसरे आपकी कश्‍मीर समस्‍या को गंभीरता से समझने के नजरिए के लिए आभार। कश्‍मीर समस्‍या वाकई जटिल है। इसके इतिहास को जाने बिना हम इसपर सिर्फ सरकार द्वारा प्रचारित नजरिए को ही ढोते रहेंगे। एक लिंक दे रहा हूं। उम्‍मीद है इससे आपको मदद मिलेगी। जहां तक बात कश्‍मीरी हिन्‍दुओं की है मैं उनके विस्‍थापन और उनपर हुए जुल्‍म के खिलाफ हूं। वे कश्‍मीर के कट्टरपंथी निहित स्‍र्वा‍थों की बलि चढ़े हैं। मैं आपकी बात से सहमत हूं कि कश्‍मीर समस्‍या पर लिखते समय कश्‍मीर पंडितों का पक्ष भी रखना चाहिए लेकिन इस मसले को इस देश में हिन्‍दुओं के ''तथाकथित अन्‍याय'' से जोड़कर राजनीति करने वालों के नजरिए से नहीं बल्कि कश्‍मीर के सारे लोगों की समस्‍या को समावेशी नजरिए से देखने के लिए। आशा करता हूं कि आपकी राय और संवाद कायम रहेगा।
    http://www.scribd.com/doc/6497348/Understanding-KashmirA-Chronology-of-the-Conflict

    ReplyDelete
  21. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  22. तुम्हीं कहो तुमसे क्या कहूँ ओ दोस्त
    कैसे होऊँ तुझसे नाराज ए दोस्त मेरे,
    मेरे तरकश का तो तू था आखिरी तीर,
    कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!

    ReplyDelete
  23. "निशाना कोई भी लगाऊँ या न लगाऊँ
    चलाऊँ या हृदय लगाऊँ मीत यह तीर,
    कुछ भी कर लूँ चाहे, वक्ष पर मेरे ही
    चलना तो हर हाल में ही है यह तीर!"
    रचना बहुत अच्छी लगी....
    बहुत बहुत बधाई....

    ReplyDelete
  24. तेरे तरकश में तो भरे हैं कितने ही तीर
    मेरे तरकश का तो तू था आखिरी तीर,
    अब चलाऊँ या रखूँ सम्भाल कर इसे
    न तू बताए, न बता सकता यह तीर।
    ....बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ! बधाई !!
    ________________________________

    अपने प्रिय "समोसा" के 1000 साल पूरे होने पर मेरी पोस्ट का भी आनंद "शब्द सृजन की ओर " पर उठायें.

    ReplyDelete
  25. भावनाओं को शब्दजाल में अच्छा बाँधा।

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर लिखा।एक टीस का एहसास -सा होता है।बढिया रचना है।बधाई।

    ReplyDelete