Sunday, January 04, 2009

कहते तो हो 'बहुत बढ़िया' तो फिर पसन्द पर क्लिक क्यों नहीं करते ?

मुझे चिट्ठों पर दी गई पाठकों की टिप्पणियाँ पढ़ना भी बहुत अच्छा व मनोरंजक लगता है। बहुत से मित्र बहुत अच्छे से विश्लेषण कर टिप्पणी देते हैं। कोई कोई कभी कभार कटु टिप्पणी भी दे जाता है। परन्तु टिप्पणी के मामले में तो मुझे लगता है, यही सोचना चाहिए कि जो दे उसका भी भला जो न दे उसका भी भला।


बस एक बात जो मुझे समझ नहीं आती वह यह है कि बहुत से पाठक बहुत से चिट्ठों पर टिप्पणी में कहते हैं बहुत बढ़िया। परन्तु उसी चिट्ठे पर पसन्द में एक भी चटका ( या चटखा ? )नहीं लगा होता। इसका एक कारण तो यह हो सकता है कि वे ये चिट्ठे ब्लॉगवाणी पर न पढ़कर किसी अन्य स्थान पर पढ़ते हैं। फिर भी मैं तो यदि किसी चिट्ठे पर लिखी रचना को पसन्द करूँ तो कोशिश यही रहती है कि याद से पसन्द भी दर्शा दूँ। इस काम को करने के लिए मुझे भले ही वापिस ब्लॉगवाणी पर चिट्ठा सूची पर ही क्यों न जाना पड़े। जिस चिट्ठे पर एक भी पसन्द दर्ज न हो, जहाँ तक हो सके, मैं उसे पढ़कर यदि पसन्द आए तो पसन्द करने का पुनीत काम अवश्य कर आती हूँ। यह बात बहुत से मित्रों को बचकानी चाहे लगे परन्तु हम इतने बड़े (या छोटे से ही) साहित्यकार तो नहीं बने कि पाठकों की पसन्द नापसन्द या टिप्पणियों का हम पर कोई प्रभाव ही न पड़े। मुझ पर तो पड़ता है। टिप्पणी के साथ साथ पसन्द का भी अपना ही महत्व है।


बोलिए पसन्द ? नापसन्द ? कोई टिप्पणी ?


घुघूती बासूती

42 comments:

  1. मैं भी अधिकतर यही करता हूं.. जब कुछ अच्छा लगता है तो जरूर पसंद पर चटखा दबाता हूं.. और क्या कहूं, अपनी पोस्ट तो हर बार ही पसंद आ जाती है.. :D

    वैसे सच कहूं, आपकी आज कि पोस्ट ठीक-ठाक लगी.. फिर भी पसंद में आने वाला तो है ही.. एक पसंद मेरी ओर से.. :)

    ReplyDelete
  2. आपने सही कहा. पसन्द क्लिक करने का पुनीत काम अवश्य करना चाहिए. आगे से मैं इस का ध्यान रखूंगा. शुरुआत आप के इस लेख से कर रहा हूँ.

    ReplyDelete
  3. PD ji ki baat se sahmat hun. mai bhi..

    ReplyDelete
  4. मुझे लगता है कि पसंद व पाठ अलग अलग जगह होना इसकी वजह है। मतलब सिरिल को अब ऐसा औजार बनाना चाहिए के पोस्‍ट को चिट्ठे पर ही ब्‍लॉगवाणी के लिए पसंद किया जा सके।

    ReplyDelete
  5. प्रशान्त जी, आपकी बात से सहमत हूँ। यह कोई यादगार सा लेख नहीं होगा बस केवल मन में उठी एक बात की मित्रों से हुई चर्चा भर ही रहेगा। चटखा न भी दबाते तो भी ठीक रहता । :D
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  6. Mai yadi koi post blogwani mai padhati hu aur achhi lagti hai to chatkha bhi laga deti hu....

    per yadi blog mai hi padhti hu to yah kaam nahi karti per ab yah baat humesha yaad rakhungi...

    apki is post mai ek chatkha meri taraf se bhi hoga.

    ReplyDelete
  7. सबके मन की बात कह दी आपने...लेकिन 'पसंद' करने में एक दिक्कत है। आप देख ही नहीं सकते कि किसे आप पसंद आए हैं। कुछ ऐसा हो जाए कि जिस-जिस ने आपकी पोस्ट को पसंद किया, उससे भी मुलाकात हो जाए, तो मजा आ जाए...

    ReplyDelete
  8. बढ़ियाबात कही जी आपने ...मेरी भी कोशिश रहती है यह

    ReplyDelete
  9. आपकी बात पसंद आयी। अब इस आशय का चटखा लगाने का पुनीत कार्य भी जाकर कर दे रहा हूं :)
    वैसे जब भी मैं एग्रीगेटर के जरिए किसी पोस्‍ट पर जाता हूं और समायाभाव या तकनीकी परेशानी की वजह से टिप्‍पणी नहीं छोड़ पाता हूं, तब भी रचना पसंद आने पर चटखा लगाना नहीं भूलता।

    ReplyDelete
  10. बात तो आपकी सही है पर चटका कहां लगाना है? इतनी देर से ढूंढ रहा हूं, कुछ दिखाई नही दे रहा है. शायद मेरे जैसे अनाडियों के लिये तो ये भी नई मुश्किल है कि चटका कहां लगाना है ? कोई समझाये हम तो दिन मे दस बार चटका लगादे.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. आपने सही कहा. पसन्द क्लिक करने का पुनीत काम अवश्य करना चाहिए. आगे से मैं इस का ध्यान रखूंगा. शुरुआत आप के इस लेख से कर रहा हूँ.

    प्राइमरी का मास्टर का पीछा करें

    ReplyDelete
  12. ताऊ(जी ?) नमस्कार। यह सुविधा www.blogvani.com पर दी गई है। हममें से बहुत अधिक लोग यहाँ पर ब्लॉग पढ़ते हैं। मुझे अनुमान नहीं था कि आपको इसके बारे में पता नहीं है। ब्लॉगवाणी खोलने पर आपको सभी ब्लॉग की सूची दिखाई देगी। यहीं पर हर ब्लॉग के नाम से पहले पसन्द करने की सुविधा दी गई है। ब्लॉगवाणी पर दाँए हाथ पर यह भी दिखाया जाता है कि किस ब्लॉग को कितने लोगों ने पसन्द किया, कितनी टिप्पणी मिली व कितने लोगों ने पढ़ा। यदि अभी तक आप यहाँ नहीं आए हैं तो एक बार आकर देख लीजिए।
    टिप्पणी व पसन्द करने की इतनी कोशिश करने के लिए धन्यवाद।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  13. मैं इस मामले में थोड़ा आलसी रहा हूँ। अपने ब्लॉग के साइड कालम में पसन्दीदा ब्लॉग्स की ताजा प्रविष्टियाँ सीधे मिल जाती हैं इसलिए ब्लॉगवाणी पर जाने की जहमत नहीं उठानी पड़ती। नये ब्लॉग्स की सूचना चिठ्ठाजगत की मेल से मिल जाती है।

    आजतक अपनी पोस्ट को भी पसन्द करने के लिए चटका नहीं लगा पाया था। हाल ही में कविता जी ने इसके महत्व को बताया था, लेकिन आलस्य नहीं टूट रहा था। अब यहाँ पंचों की राय देखते हुए यह पुनीत कार्य आज से ही शुरू करता हूँ।

    वैसे यह सुविधा ब्लॉगर वालों को पोस्ट के साथ ही देनी चाहिए।

    ReplyDelete
  14. सही कहा आपने, लेख यदि पसंद है तो पसंद पर भी चटका लगना चाहिए ! भाई हम तो ऐसा अक्सर करतें है !
    [img]http://img.photobucket.com/albums/v411/hells/more/23_28_101.gif[/img]

    ReplyDelete
  15. अब मैं भी किया करूंगा ऐसा ही. धन्यवाद.

    ReplyDelete
  16. ये लो! हमें तो पता ही नहीं था की ऐसा भी कुछ करना पड़ता है. निश्चित रूप से बहुतों को पता नहीं होगा. समस्या यह है कि हर कोई ब्लॉगवानी से नहीं पहुँचता. हमने पहले ही चटका लगानी की कोशिश की तो एक दूसरा पन्ना ब्लॉगवानी का खुला जिसमें आपकी सभी प्रविष्टियाँ थी. फिर उसमे से इस वाले पर चटका लगाया तब कहीं आपका ब्लॉग खुला. मदाम काम बढ़ जाता है फिर आजकल नेट का कोई भरोसा भी नहीं है. कब अगला पन्ना खुले या ना खुले. हमारी सोच तो यह है कि यह पसंद/नापसंद वाला ब्लॉगवानी का अपना सिस्टम "सूपरफ्ल्वस" है.

    ReplyDelete
  17. विवेक जी का कहना सही है कि पसंद के साथ यदि यह पता चल सकता कि इसे किन किन लोगों ने पसन्द किया, तो इस पसन्द करने की प्रक्रिया का आनन्द बढ़ जाता.
    वैसे मैं इस काम को किया करूंगा, क्योंकि वस्तुतः इससे चिट्ठाकार का मनोबल तो बढे़गा.

    प्रविष्टि के लिये धन्यवाद.

    ReplyDelete
  18. गाहे बगाहे मैं यह पुनीत कार्य करता रहता हूँ . आज से नियमित करूँगा जो पसंद आएगा चटकाया जाएगा . सादर

    ReplyDelete
  19. बात पर सभी जन गौर फर्मायें। यह सर्वजन हिताय है। पर फिर इसका हाल भी टके सेर ना हो जाये।

    ReplyDelete
  20. वादा तो सभी ने किया है ,ओर दावा भी की आज से ओर अभी से आप के बांल्ग से शुरुआत करते है.... जा कर देखिये भी कोई चटका लगा कर भी गया है या बस नेताओ की तरह से वादे ही किये है, हम भी आप की बात से सहमत है, आज से सब के चिठ्ठो पर चटका शुरु.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  21. प्रौढ़ शिक्षा की क्लास हो गयी ।

    ReplyDelete
  22. अरे मैं तो बिल्कुल पसंद बनाता हूँ, और आग्रह करता हूँ और लोग भी ऐसा करें

    ---
    चाँद, बादल और शाम
    http://prajapativinay.blogspot.com/

    ReplyDelete
  23. हम तो एडवांस मे पसंद किये है . टिपियायेगे कल [पढकर :)

    ReplyDelete
  24. bahut achha point yaad karaya aapne,agli baar se yaad se pasand par clickkarne ki koshish karenge.

    ReplyDelete
  25. देखिए जी बात ऐसी है कि जो टिप्पणी की जाती है वह पब्लिक देखती है . इसलिए उसमें सब लोग अच्छा अच्छा लिख देते हैं . किंतु आप यह न मान लें कि जिन कविताओं पर ढेरों लोगों ने वाह वाह बहुत खूब लिखा होता है वे वास्तव में लोगों द्वारा पसन्द की गई हैं . दर असल हमारे ब्लॉग जगत में टिप्पणी सर्किल्स बने हुए हैं . और अक्सर टिप्पणी अपने जानने वाले लोगों की ही आती हैं तो वे बुरा तो लिख नहीं सकते क्योंकि उन्हें वापस टिप्पणी चाहिए . क्यों नाराजगी मोल लें . अभी हमारे यहाँ लोग इतने उदार तो हुए नहीं कि अपनी आलोचना सह सकें . हाँ तारीफ चाहे झूठी भी कर दो उसे पचा जाएंगे . जबकि पसंद वाला विकल्प दिल की आवाज पर क्लिक किया जाता है और हमने महसूस भी किया है कि जो चीज वास्तव में लोगों को पसन्द आती है वह क्लिक भी की जाती है . वही उसकी असली वैल्यू है . मेरे विचार से टिप्पणी और पसंद को एक ही डण्डे से हाँकना सही नहीं होगा . हाँ जिन लोगों को इस विकल्प के बारे में जानकारी नहीं है उन्हें जानकारी देने तक तो ठीक है जैसे हमारे ताऊ , पर उन्हें बाध्य करना ठीक नहीं . वैसे मुझे विश्वास नहीं है कि ताऊ जी यहाँ मजाक नहीं किए . क्योंकि मेरा मानना है कि जो जानकारी ताऊ जी को नहीं वह मुझे कैसे हो सकती है आखिर मैं ही तो ..
    चलिए छोडिए मैं तो मजाक कर रहा था :)

    ReplyDelete
  26. एकदम सही बात है,अब यहां भी छायावादी किसिम का प्यार जताएंगे तो कैसे चलेगा, प्रेम औऱ पसंद का फिजिकल फार्म तो होना ही चाहिए.

    ReplyDelete
  27. अरे भाई अब से पहले तो मुझे यह पता तक नहीं था...आज के बाद देखूंगा कि ये कैसे होता है....??और दूसरी बात यह कि....रात गए जब कंप्यूटर पे (नेट पे)आता हूँ....तो दो ही बातें हो पाती हैं......कुछ ब्लॉग देखना....अपना कुछ रचना....और यदि समय और नींद साथ दे तो टिप्पणियाँ देना....असल में हर व्यक्ति के काम की प्रकृति कैसी है....और उसके पास कुल वक्त कितना है...ये भी तो "सोचनीय"है.....!!

    ReplyDelete
  28. Ji shukriya aapke comments ka|

    ReplyDelete
  29. जानकारी के लिये
    आपका बहुत आभार घुघूती जी
    ब्लोगवाणी पर आप की यह पोस्ट सबसे Top पर है आज :)
    बधाई हो जी ~~
    -लावण्या

    ReplyDelete
  30. पसन्द - आप का कहना उचित है, वाजिब है, जायज है

    ReplyDelete
  31. शायद अभी तक हम यही समझते हैं कि सिर्फ टिप्पणी करने का ही महत्व है और पसंद (digg) करने के महत्व से अनजान हैं। आपके इस पोस्ट से अब लोगों को पसंद करने का महत्व भी समझ में आ जायेगा। बहुत अच्छा पोस्ट है!

    ReplyDelete
  32. "तुम एक पैसा दोगे, वो दस लाख देगा", मैंने कई बार आपके ब्लॉग को पसन्द किया है, अब "दस लाख" बार आप करेंगी ही… :) :) :) बेहतरीन लिखती हैं आप, हमेशा कुछ नया "हट के" :)

    ReplyDelete
  33. कोशिश तो यही रहती है आगे से और ख्याल रखेंगे.

    ReplyDelete
  34. आज तो खुब चटखे लगे है, आपकी पोस्ट पर :) बेचारी को दर्द हो रहा होगा.... :)

    ReplyDelete
  35. हमारे मित्र की एक कम्पनी है... (एक वेबसाइट बेस्ड) उसपर कई यूजर हैं जो मेंबर तो हैं पर कुछ कंट्रीब्यूट कम करते थे. हमने सलाह दी की एक लिस्ट बना दो featured members की. उसके बाद अचानक ही लोग खूब कंट्रीब्यूट करने लगे. वही बात है टिपण्णी दिखाती है, उसके साथ नाम भी दीखता है :-)

    ReplyDelete
  36. आपने जो कहा सच कहा।

    ReplyDelete
  37. बात तो आपने सही उठायी है और विवेक जी ने पूरी विवेचना भी कर दी है...मगर कई बार ऐसा होता है या यूं कहूं कि अक्सर होता है कि वो पसंद नापसंद वाला चट्खा बटन कई बार दिखता भी नहीं

    वैसे आगे से मैं भी ध्यान रखता हूं

    ReplyDelete
  38. बात बिल्कुल दुरुस्त लगी.
    मेरे साथ अक्सर होता यूं आया है कि कम से कम समय में ज्यादा से ज्यादा पढने के चक्कर में टिप्पणी छूट जाती है.

    सीख सही है. खयाल रखूंगा.

    ReplyDelete