Monday, November 10, 2008

स्पर्श

ऐसा क्या होता है
त्वचा के स्पर्श में
जो न करके भी
मन को छू जाता है
जिसकी कर कल्पना
रोमांच हो जाता है ?

स्पर्श, त्वचा का
या मन का
सहला जाता है
कैसा भी हो विपरीत समय
मन के कोमल कोनों को
बहला जाता है ।

कभी निःशब्द रात में
व्याकुल साये सी
गहराती, स्याह आत्मा को
बन उषा किरण
एक आत्मिक स्पर्श
जगमगा जाता है ।

कभी आत्म मंथन के
आत्मघाती कमजोर क्षणों में
बन ओस के कण
झुलसी आत्मा को
जीवन अमृत से
नहला जाता है ।

घुघूती बासूती

29 comments:

  1. कभी आत्म मंथन के
    आत्मघाती कमजोर क्षणों में
    बन ओस के कण
    झुलसी आत्मा को
    जीवन अमृत से
    नहला जाता है ।
    sunder abhivyakti haen mam aap ko meet mae is kiya .

    ReplyDelete
  2. ghughuti jee,
    bada hee maarmik sparsh tha ye, yaad rahegaa smritiyon mein. dhanyavaad.

    ReplyDelete
  3. कभी आत्म मंथन के
    आत्मघाती कमजोर क्षणों में
    बन ओस के कण
    झुलसी आत्मा को
    जीवन अमृत से
    नहला जाता है ।
    बहुत सुंदर और सशक्त अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  4. कभी निःशब्द रात में
    व्याकुल साये सी
    गहराती, स्याह आत्मा को
    बन उषा किरण
    एक आत्मिक स्पर्श
    जगमगा जाता है ।


    बहुत सुंदर लगा यह ....

    ReplyDelete
  5. एक कोमल एहसास का सुंदर चित्रण !

    ReplyDelete
  6. स्पर्श,
    एक माँ के वात्सल्य का,
    एक पिता के स्नेह का,
    एक भाई के सम्बल का,
    एक बहन की आत्मीयता का,
    एक मित्र के सौहार्द का,
    कितना अलग सा होता है।

    या, वह विलक्षण स्पर्श
    प्रियतम के प्रेम का
    जिसमें सब कुछ समाया है
    सारी दुनिया
    सिमटती सी लगती है जहाँ...

    आदरणीया घुघूती जी,
    आप से मुझे बहुत प्रेरणा मिलती है।
    प्रणाम्‌...।

    ReplyDelete
  7. बहुत अच्‍छा ,स्‍पर्श का सही चित्रण।

    ReplyDelete
  8. नन्हा बच्चा बिन बोले तभी तो जान लेता है माँ का स्पर्श....

    ReplyDelete
  9. ह्रदय स्पर्शी !

    ReplyDelete
  10. कभी निःशब्द रात में
    व्याकुल साये सी
    गहराती, स्याह आत्मा को
    बन उषा किरण
    एक आत्मिक स्पर्श
    जगमगा जाता है ।
    बहुत अच्‍छा स्‍पर्श

    ReplyDelete
  11. भौति‍क स्‍पर्श को आत्‍मि‍क स्‍पर्श का सुंदर टच दिया गया है और ये पंक्‍ति‍यॉं तो लाजवाब हैं-
    कभी आत्म मंथन के
    आत्मघाती कमजोर क्षणों में
    बन ओस के कण
    झुलसी आत्मा को
    जीवन अमृत से
    नहला जाता है ।

    ReplyDelete
  12. bahut sunder rachana

    ReplyDelete
  13. शायद इसलिए क्योंकि हम सभी इस दुनिया का पहला अनुभव मां के स्पर्श से ही करते हैं. स्पर्श ही बताता है अपने और परायों की परिभाषा.

    ReplyDelete
  14. बेहद भावपूर्ण और आत्म मँथन से उपजी कविता पसँद आई
    स स्नेह,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  15. sparsh ka sundar ehsaas bahut khubsurat

    ReplyDelete
  16. शुक्रिया1 बढ़िया कविता के लिए बधाई1 कृपया घुघूती बासूती का अर्थ बताये?

    ReplyDelete
  17. ऐसा क्या होता है
    त्वचा के स्पर्श में
    जो न करके भी
    मन को छू जाता है
    जिसकी कर कल्पना
    रोमांच हो जाता है ?

    स्पर्श, त्वचा का
    या मन का
    सहला जाता है
    कैसा भी हो विपरीत समय
    मन के कोमल कोनों को
    बहला जाता है ।
    जीवन के अभूतपूर्व यथार्थ से परिचित कराती कविता

    ReplyDelete
  18. ऐसा क्या होता है
    त्वचा के स्पर्श में
    जो न करके भी
    मन को छू जाता है
    जिसकी कर कल्पना
    रोमांच हो जाता है ?

    स्पर्श, त्वचा का
    या मन का
    सहला जाता है
    कैसा भी हो विपरीत समय
    मन के कोमल कोनों को
    बहला जाता है ।
    जीवन के अभूतपूर्व यथार्थ से परिचित कराती कविता

    ReplyDelete
  19. आत्मिक स्पर्श!बहुत खूब!

    ReplyDelete
  20. बहुत सुंदर.... अच्छी रचना.

    ReplyDelete
  21. bhavana mann ko sparsh kargai...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुंदर....! हृदय तल को छूने वाले भाव...!
    सिद्धार्थ जी ने कविता पर जैसे एक बिंदी और लगा कर मान १० गुना कर दिया हो....!

    ReplyDelete
  23. बहुत ही सुंदर कविता ,

    ReplyDelete
  24. कभी आत्म मंथन के
    आत्मघाती कमजोर क्षणों में
    बन ओस के कण
    झुलसी आत्मा को
    जीवन अमृत से
    नहला जाता है ।

    अद्भुत! शब्द नही हैं कुछ भी कहने को,आपके शब्दों का स्पर्श भी आत्मिक सुख प्रदान करता है, सचमुच बेमिसाल है...

    ReplyDelete
  25. बहुत सुंदर....

    ReplyDelete
  26. main fir fir se pahunchi unhi sparsh me chhano me jahan pratyaksh aur sniriti dono ke sparsh se main hi khil rahi thi...
    atyant sparshik....

    ReplyDelete
  27. हाँ सच तो है....ही वरना कौन है जो आपके मुंह से इतनी प्यारी-प्यारी बातें कहला जाता है...और हमें भी इन उदगारों की रिमझिम फुहारों से नहला जाता है....

    ReplyDelete