Wednesday, August 06, 2008

ज्वलनशील नारियाँ


नारियों के,
भारतीय नारियों के जलने पर
क्यों अफसोस है
वे तो सदा से ज्वलनशील रही हैं
उसमें न हमारा कोई दोष है,
नहीं तो कोई
उसके जीवित जलने की कल्पना
भी कैसे करता?
तब, जब हम चला रहे थे
अग्नि बाण
जब उत्कर्ष के चरम पर था
हमारा इतिहास
तब भी माद्री बन रही थी
जीवित मशाल।
तब जब हम थे भाग रहे
मुगलों से मुँह छिपा
जब पतन की गर्त में था
हमारा इतिहास
तब भी हम गौरान्वित थे,
क्या हुआ जो हम
न बचा सके अपनी
बेटियों की लाज,
ब्याह रहे थे उन्हें मुगलों से
पाने को कुछ स्वर्ण ग्रास
तब भी पत्नियाँ तो थीं हमारी
सीता, सती व सावित्री
कूद रहीं थीं पद्मिनियाँ
जलने को जौहर की आग में।
फिर जब बन रहे थे
पढ़ अंग्रेजी
जैन्टलमैन बाबू हम
तब भी इन ज्वलनशील नारियों
ने डुबाया था नाम देश का
आना पड़ा था इक
राजा राममोहन रॉय को,
जब भी कोई भद्र
मरणासन्न बूढ़ा खोलता था
करवा कन्यादान
किन्हीं नन्हीं बालाओं के
माता पिता के स्वर्गद्वार
तब उसके मरने पर
बैठ जातीं थीं चिता पर
ये नन्हीं बालाएँ
प्यार में उस वृद्ध के।
आज जब हम
दौड़ में बहुत आगे हैं
हमने आइ टी में रचा है
इक नया इतिहास
तब भी क्या करें
ये ज्वलनशील नारियाँ हमारी
कभी भी
इक माचिस की तीली की
छुअन से जल जाती हैं,
हम नहीं चाहते परन्तु ये
न जाने क्यों भस्म हो
जल मर जाती हैं?
हम भी तो हैं फूँकते
न जाने कितने अरब
सिगरेट और बीड़ियाँ
क्या जली है मूँछ भी
कभी गलती से हमारी आज तक?
फिर न जाने क्या गलत है
डी एन ए में
भारतीय ही नारी के
क्यों ज्वलनशील है वह
हम नहीं हैं जानते।
घुघूती बासूती

यह कविता बालकिशन जी की कविता 'मुझे मत जलाओ' को पढ़कर लिखी गई है।

37 comments:

  1. पढ़कर मजा आया।

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत अच्छी कविता .कई बार पढ़ी ..

    फिर न जाने क्या गलत है
    डी एन ए में
    भारतीय ही नारी के

    ज्वलनशील है वह
    हम नहीं हैं जानते।

    लाजवाब कर दिया आपकी इस कविता ने मुझे ...

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी कविता है. निरुत्तर है. वैसे भी मूंछ को बचाने के लिए सारी उर्जा खर्च करनेवाला हमेशा निरुत्तर ही रहेगा.

    ReplyDelete
  4. सिगरेट और बीड़ियाँ
    क्या जली है मूँछ भी

    अब इस पर क्या जवाब दें?

    ReplyDelete
  5. bhaav ki ushmaa yahan tak pahunch rahi hai....jilaye rakhiye ..

    ReplyDelete
  6. बहुत गहरी बात पर इसमें बेचारे पुरूष का भी क्या दोष.. शायद नारी को जलाने का जीन भी उसके डी एन ए में मौजूद हो.. सदियों से।

    ReplyDelete
  7. मर्मस्पर्शी .. हमेशा की तरह इस रचना ने भी दिल को गहरे तक छू लिया और सोचने पर विवश कर दिया कि क्यों ज्वलनशील है नारी...!

    ReplyDelete
  8. मैम बहुत ही तगड़ा कटाक्ष किया है वाह!

    ReplyDelete
  9. घुघूती जी, इस बेहद सम्वेदनशील कविता पर टिप्पणी बाद में करूंगा लेकिन अभी तो प्रथम टिप्पणीकार अनुजा जी से यह जानने की इच्छा है कि इस कविता में भी ‘मजा’ कैसे आया।

    ReplyDelete
  10. इशारो इशारों में सब कह गयी आप.....

    ReplyDelete
  11. marm ko chhone waali par sawaal jas ka tas hain, kyon aaj bhi jal rahi hain ladkiyan.
    फिर न जाने क्या गलत है
    डी एन ए में
    भारतीय ही नारी के
    क्यों ज्वलनशील है वह
    हम नहीं हैं जानते।
    Bahritay naari ke nahi purushon ke DNA/gene me gadbadi hain???

    ReplyDelete
  12. पता नही लोग ऐसी बातो मे भी कैसे मजा ले लेते है शायद यही सोच लोग बहू को दहेज के लिये जलाते समय भी रखते होगे . मजा आया, पता नही काहे मे आया क्यो आया. आपका आज का लेखन गंभीर सोच का विषय है मजे का नही

    ReplyDelete
  13. घुघूती जी बहुत मार्मिक कविता है ! खासकर कविता का आखिरी अंश समाज पर अघरा व्यंग्य करता है साथ ही कई सवाल मन में पैदा करता है!

    ReplyDelete
  14. सिद्धार्ध जी, जो हमें दिखता है वह सदा सच नहीं होता। मैंने जब यह कविता पोस्ट करनी चाही तब मेरे नेटवर्क में कुछ समस्या थी। एक मित्र से कविता पोस्ट करवाई और पाया कि कविता का केवल आखिरी पहरा पोस्ट हुआ था। सौभाग्य से दो तीन कोशिश के बाद में पूरी कविता पोस्ट कर पाई। अनुजा जी व पहले तीन चार टिप्पणीकारों को मेरी कविता का केवल आखिरी पहरा दिखा। सो हो सकता है उन्हें यह मज़ेदार लगा हो। कृपया, बिना जाने निष्कर्ष पर न पहुँचिए।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  15. GB Mam
    kavita ki tareef karuy aur aap ki kavita ki , itnii yogytaa nahin par phir bhi aanch haen aur vishvaas rakhey jo aanch aap jalaa rahee haen usko ham sab hawaa daetey rahegae jab tak ज्वलनशील नारियों
    ko jawaala naa bannaa aajaye

    ReplyDelete
  16. बहुत ही मर्मस्पर्शी कविता..

    ReplyDelete
  17. विचारोत्तेजक कविता!

    ReplyDelete
  18. bahut khoob kaha aapne..teekha par sateek kataksh

    ReplyDelete
  19. अब ये आग
    सिर्फ हौसलोँ मेँ रहे ..
    हमेशा के लिये,
    सती प्रथा बँद हो
    यही आह्वान है -
    -लावण्या

    ReplyDelete
  20. @“कृपया, बिना जाने निष्कर्ष पर न पहुँचिए।”
    मेरी पिछली टिप्पणी को दुबारा देखकर बताइये कि मैने क्या निष्कर्ष निकाला है। मुझे ‘पंगेबाज’ अरुण जी की तरह ‘मजा’ का तत्व थोड़ा अटपटा लगा जरूर था लेकिन मैने विनम्रता से पूछा भर था-“कैसे?” निष्कर्ष पर तो आप पहुँच गयीं।
    आपको ‘प्रणाम’ करके खिसकता हूँ। बाप रे!

    ReplyDelete
  21. बहुत उम्दा...विचारोत्तेजक कविता!

    ReplyDelete
  22. नि:संदेह विचारोत्तेजक।

    अक्सर जब आप इस तरह की खबरें अखबारों में पढ़ती होंगी तबकी आपकी स्थिति का चित्रण शायद मैं कर सकता हूं।
    " आक्रोशित मन पर कुछ न कर सक पाने की हताशा भी"

    ReplyDelete
  23. इस आक्रोश की अभिव्यक्ति मार्मिक बन पड़ी है । सही कटाक्ष किया आपने -
    मूछ बचाने के प्रयास और उसमें सफलता के पीछे खोखली पुरुष मानसिकता और अहम उजागर हो रहा है ।

    ReplyDelete
  24. विचारोत्तेजक.
    झकझोर देनेवाली कविता.
    आभार.

    ReplyDelete
  25. निःसंदेह ही एक तल्ख़ सच्चाई और झकझोर देने वाली कविता ,
    माहौल बड़ा सेन्टी सेन्टी हो रहा है, इस मर्ज़ की दवा फिलहाल
    कोई निकाल न सका है, सो दर्द को कम करने की जिम्मेदारी यह
    नाचीज़ अपने ऊपर लेता है..

    घुघूती जी, मैंने तो अपनी मूँछ भी साफ़ करा दी है,
    या करवा दी गयी है, बीड़ी सिगरेट का तो सवाल ही नहीं अपुन के
    पास..फिर भी मेरी पंडिताइन क्यों जलती कुढ़ती रहती हैं ?
    मेरा मज़ाक काल्पनिक सही, किंतु कई मित्रों को बिसूरते देखा है,
    सो रस्मी टिप्पणियों से हट कर यह प्रेषित कर ही लेने दीजिये..
    किंतु यह कविता झकझोर देने वाली एक तल्ख़ सच्चाई, दो राय नहीं !

    ReplyDelete
  26. कविता सचमुच विचारणीय है, किसी को दोष नही दे सकते हैं,नारी खुद नारी की दुश्मन बनी बैठी है सदियों से,पिता का हमेशा बेटी के प्रति प्यार दिखाया जाता है,और दिखाया क्या हम महसूस नही करते कि हमारे पिता हमे कितना प्यार करते है, मगर माँ हमेशा पुत्र को अधिक प्यार करती आई है,यह सच है, नारी हमेशा से ज्वलनशील रही है,इर्ष्या भी तो नारी में कम नही होती एक दूसरे के प्रति,वो अन्दर से भी जलती है और बाहर से भी जलती है...खुद अपने अहम की वजह से अपनी बेफ़कूफ़ियों की वजह से जलती है,पुरूष क्यों नही सती होते उसे ही क्या जरूरत है,पुरूष क्यों नही विधवा भेष धारण कर बैठते,मगर यह सब नारी खुद करती है,आज भी तो जाग गई है अपने अधिकारों के लिये,मगर आज भी क्या कर रही है,चोरी छिपे ही सही जल तो आज भी रही है....जिस दिन सचमुच नारी अपना अस्तित्व अपनी मान-मर्यादा समझ जायेगी,अपने अन्दर से इर्ष्या-द्वेष की भावना को खत्म कर देगी,और नारी नारी की रक्षक बन जायेगी,मै समझती हूँ उसे कोई जला नही पायेगा...

    ReplyDelete
  27. भारत में कुछ ज्यादा लेकिन इस कविता का मूल पूरे विश्व भर के महिलाओ और मूंछ वालो के लिए है

    ReplyDelete
  28. यह कविता नहीं, सचाई से सामना है । बिजली के करण्‍टदार तार हाथों में थमा दिए । इन सवालों के जवाब बातों से नहीं, आचरण से ही दिए जा सकते हैं जिसकी तैयारी कहीं नजर नहीं आती । जो कुछ कहना चाहता हूं वह अनुभूति के मुकाबले बहुत कम लगता है । अत्‍यन्‍त विचारोत्‍तेजक और नि:शब्‍द कर देने वाली प्रस्‍तुति ।
    उधार की दो पंक्तियां याद आ रही हैं -

    पीडाओं के सौ-सौ सागर मैं ने हंस-हंस पी डाले
    लेकिन तेरे पनघट पर तो मेरा कवि भी हार गया है

    ReplyDelete
  29. अब भी हर रोज ऐसी कितनी ख़बरों से सामना होता है,कभी देह जलती है,कभी रूह।

    ReplyDelete
  30. घुघूती जी
    मेरी पोस्ट के लिए दिया लिंक सही काम नहीं कर रहा है.
    हो सके तो कृपया ठीक करदें.

    ReplyDelete
  31. एक और बेहतरीन, मर्मस्पर्शी कविता....

    शायद ऐसे ही शब्दों के बारंबार आघात से कुंद पड़ चुकी संवेदनशीलता फिर से जग सकेगी।

    ReplyDelete
  32. बालकिशन जी, लिंक ठीक कर दी है। असुविधा के लिए खेद है।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  33. आपकी ये रचना कल 6 - 3 - 2012 नई-पुरानी हलचल पर पोस्ट की जा रही है .... ! आपके सुझाव का इन्तजार रहेगा .... !!

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन...सार्थक रचना...

    आपकी होली शुभ हो...

    ReplyDelete