Tuesday, April 29, 2008

बिटिया के कैमरे से







आजकल घर पर मेरी बड़ी बिटिया आई हुई है । बहुत वर्षों बाद वह दो या चार दिन के लिए नहीं बल्कि कुछ समय के लिए रहने आई है। माँ बेटी की बातचीत है कि खत्म होने का नाम ही नहीं लेती। घर की ढेरों चीजें ऐसीं हैं जो उसने कभी नहीं देखीं थी। सो सारा दिन बतियाते व यह देख, वह दिखा, बीतता है। सारे घर की काया पलट हो रही है । मेरी भी ! मैं हूँ निशाचर और वह दिनचर । सो रात को मेरे कारण वह जागती है और सुबह सवेरे वह मुझे उठा देती है । सुबह सुबह बगीचे के चक्कर , सैर, फूलदान सजाना आदि होता है ।
इसबार वह अपना लैपटॉप भी साथ लाई है तो पिछले कई सारे वर्षों की फोटो देखते रहते हैं । कभी दिल्ली कीं तो कभी उसकी मॉरिशस, लन्दन यात्रा की तो कभी उसके अमेरिका के आवास की ।
मुझे लेखन के लिए बिल्कुल समय नहीं मिलता, ना ही मैं ऐस॓ समय की चाहना कर रही हूँ । समय न मिलना भी तो एक बहुत बड़ा सौभाग्य है । तो ऐसे समय में मैं आपके साथ अपनी बिटिया के कैमरे से हमारे बगीचे, आसपास व उसकी यात्राओं की कुछ फोटो साँझा करना चाहती हूँ ।
इसबार कुछ फोटो मेरे बगीचे के फूलों कीं ......
ये हैं एडेनियम, गुलाब, गोल्डन रॉड व रजनी गंधा ।

20 comments:

  1. इसी तरह व्यस्त रहीये आप बिटीया के साथ आनण्द उठायेँ और फिर जब भी दिल करे फिर लिखिये
    फूलोँ की तस्वीरेँ सुँदर हैँ :)

    स्नेह्,
    - लावण्या

    ReplyDelete
  2. आप के यहाँ तो बहार आई हुई है। जागरण भी चलेगा।

    ReplyDelete
  3. वाह!! तब तो खूब रौनक लगी होगी. तस्वीरें बढ़िया हैं. आप भी अमेरीका घूम जाइये जल्दी ही बिटिया के पास. इसी बहाने यहाँ भी हो लिजियेगा. :)

    ReplyDelete
  4. तस्वीरें देख कर मज़ा तो आ ही गया....साथ ही साथ, एक बेहद पापुलर गीत भी याद आ गया....जीवन की बगिया महकेगी ...!!

    ReplyDelete
  5. बढिया तस्वीरें!

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत फुलवारी है।

    ReplyDelete
  7. ओह, हमारी भी बिटिया आई हुई है। सप्ताह भर रहेगी। पूरा घर उजास हो गया है।

    ReplyDelete
  8. बहुत ही खूबसूरत चित्र हैं फ़ूलों के.
    जब घर के लोग कई दिनों बाद मिलते हैं तो समय तो यूं बतियाने में ही कट जाता है. मैं भी अभी कल ही अपने गाँव से होकर आया हूँ और साथ में नयी ऊर्ज़ा भी.

    ReplyDelete
  9. आप के आस-पास बड़ा सौन्दर्य है..

    ReplyDelete
  10. खूबसूरत!खूबसूरत!बहुत खूबसूरत

    ReplyDelete
  11. रबर-प्लान्ट(नया हेडर) भी आपके बगीचे का है ?
    डॉ . परवीन की तरह हमे एक अन्य गीत याद आया - 'रजनीगन्धा ,फूल तुम्हारे महके यूँही जीवन में'

    ReplyDelete
  12. बहुत ही खूबसूरत !

    ReplyDelete
  13. वाह, क्या फूल हैं, ... खूबसूरत !

    ReplyDelete
  14. क्या आपकी बिटिया को फोटोग्राफी का शौक है? ऐसा इसलिये पूछ रहा हूं क्योंकि मुझे भी इसका शौक है.. नहीं तो सामान्यतः कोई भी फूलों की तस्वीरें नहीं लेता..

    तस्वीरें बहुत ही अच्छी आयी हैं.. काश आपको सच में समय नहीं मिलें ब्लौग लिखने के लिये और आपका घर यूं ही महकता रहे..

    ReplyDelete
  15. बेहद सुंदर तस्वीरें .

    ReplyDelete
  16. बहुत सुंदर तस्वीरे है.. वाक़ई

    ReplyDelete
  17. एक से बढ़ कर एक फोटो... बहुत सुंदर मनोभावन...बिटिया की तरह.
    नीरज

    ReplyDelete
  18. यूं ही खिली रहे फुलवारी

    ReplyDelete
  19. अच्छी तस्वीरे

    ReplyDelete
  20. बेटियों से ही घर महक जाता है,उस पर फूलों की महक.बहुत मुबारक हो आप को बिटिया का साथ.आपका घर और तन -मन महका रहे,यही ऊपरवाले से गुज़ारिश है.

    ReplyDelete