Monday, April 30, 2007

राह तुम्हारी तकती हूँ

प्रिय तुम जब भी जाते हो
पल भर भी ना सो पाती हूँ
जानती हूँ तुम ना आओगे
क्यों राह तुम्हारी तकती हूँ ?

तुम आओगे तो मैं ये बोलूँगी
तुम न आते, आती केवल याद
तुम आते तो मैं यूँ तकती जाती
ज्यूँ मैं चकोर हूँ और तुम चाँद ।

लगता है यूँ ही युग बीते हैं
देख देख तुम्हारी ही ये राह
अब तो प्रियतम तू आ जा
मिट न जाये कहीं ये चाह ।

देखो यूँ नहीं अब रूठा करते
मिलने की ऋतु न बीती जाए
जब जाता इक बार वसन्त ये
फिर ना कोई इसे लौटा पाए ।

समय पंख लगा कर उड़ता जाता
ये न कभी किसी की बाट जोहता
मिलना हो जो तो आ जा अब तो
बिन तुम कुछ मुझे नहीं सुहाता ।

कितनी सूनी सी शामें मेरी
कितने खाली से हैं ये दिन
बिरहा की इस ज्वाला में
जलता मन और काया मेरी ।

सोच न तू ये दिन फिर आएँगे
कल फिर तेरे और मेरे जीवन में
सूख जाएगा जब जल सरिता का
कैसे उसे लौटा कर ले आएँगे ?

चल बहुत ही बाट जोह ली
अब तो विदा की बेला आई
तेरे कुछ सपनों को साथ लिए
जाती हूँ घर अपने, ओ हरजाई ।

घुघूती बासूती

10 comments:

  1. गहरा दर्शन है आपकी रचना में..वाह!!! बधाई. आपकी लेखनी मुझे पसंद आती है.

    ReplyDelete
  2. आप की सुन्दर रचना पढ कर एक सुन्दर गाना याद आ गया........
    "मैं तो तुम संग नैन मिला कर हार गयी सजना.....हार गयी सजना"

    ReplyDelete
  3. क्या बात है ।

    ReplyDelete
  4. पता नहीं आप किन परिस्थितियों में कविता लिखती होंगी. मैं यदा कदा जब भग्वद्गीता का अध्ययन करता हूं और जीवन साधना में विशेष उपलब्धि कै बगैर बीतता नजर आता है तो आपकी कविता जैसे भाव मन में आते हैं.
    शायद भाव महत्वपूर्ण है, सिचयुयेशन सब की अलग-अलग होती हैं.

    ReplyDelete
  5. समय पंख लगा कर उड़ता जाता
    ये न कभी किसी की बाट जोहता
    मिलना हो जो तो आ जा अब तो
    बिन तुम कुछ मुझे नहीं सुहाता ।

    कितनी सूनी सी शामें मेरी
    कितने खाली से हैं ये दिन
    बिरहा की इस ज्वाला में
    जलता मन और काया मेरी ।


    bahut sunder rachna hai aapki ...

    ReplyDelete
  6. सुन्दर पंक्तियाँ.

    ReplyDelete
  7. I was just searching somethng in google in hindi and then found this GHUGHUTI BASUTI BLOG....
    and specially your last entry was so nostalgic ...
    jab meri bua mujhe bachpan me waise hi Ghughuti basuti karke khilati thi...
    Kudos for this amazing bolg....

    ReplyDelete
  8. राह तुम्हारी तकती हूँ
    पर मिल जाओ तो डरती हूँ

    ReplyDelete
  9. लगता है यूँ ही युग बीते हैं
    देख देख तुम्हारी ही ये राह
    अब तो प्रियतम तू आ जा
    मिट न जाये कहीं ये चाह ।

    सुन्दर पंक्तियां.

    ReplyDelete