Monday, January 26, 2009

कट्टरपंथ यूँ ही अचानक नहीं आता होगा , वह दबे कदम आता होगा और आपको टखने दिखाने को मजबूर करता होगा।

कट्टरपंथ यूँ ही अचानक नहीं आता होगा, वह दबे कदम आता होगा। ऐसा नहीं होता होगा कि एक सुबह आप जागें और पाएँ कि आपके यहाँ कट्टरपंथी शासन है। कट्टरता बस दबे पाँव आती होगी और जब कोई रोक टोक नहीं होती होगी तो धीरे धीरे अपने पैर पसारती होगी। जब तक आप जागें या सम्भले आप पाते होंगे कि अब आप घिर चुके हैं, अब विरोध का अर्थ है मृत्यु दंड, खंबे पर आपका शव लटका दिया जाएगा ताकि अन्य भी भयभीत रहें।

जब इसकी शुरुआत होती होगी तब बहुत से लोगों को लगता होगा कि गलत नहीं हो रहा। क्या गलत है यदि नग्न चित्रों को फाड़ दिया जाए, जला दिया जाए, हमारे लोकनायकों या भगवान की बुराई वाली पुस्तकें जला दी जाएँ, या फिर टी वी पर घटिया सीरियल देखने को मना किया जाए, या फिर स्त्रियों से विशेष परिधान पहनने को कहा जाए या कोई परिधान पहनने को मना किया जाए ? अच्छा ही तो है, हमारी तो सुनती नहीं, अब पाबंदी लगेगी, चाहे किसी स्वनिर्मित दल द्वारा या विद्धालय द्वारा, तो हमारा काम तो सरल हो जाएगा। क्या बुराई है यदि युवाओं, विशेषकर युवतियों को शराब पीने से रोका जाए ? युवतियों को तो सिगरेट से भी, लड़कों के साथ घूमने से भी, अपने मन के विवाह से भी, अन्य जाति धर्म में विवाह से भी रोकने से परिवार का काम सरल हो जाएगा। कुछ तो अंकुश लगेगा इन निरंकुश होती स्त्रियों पर ! लड़के कहाँ माता पिता की बात सुनते हैं ? अब जब आवारागर्दी पर रोक लगेगी तो माता पिता को कितना आराम मिलेगा ! यदि उन्हें नेट पर कुछ विशेष चीजें देखने से रोका जाए तो नेट का बिल भी कम होगा और वे अपनी पढ़ाई, काम धाम में भी ध्यान देंगे। कुछ विशेष सिनेमा बन्द कराए जाएँ तो भी क्या बुरा होगा ? क्यों हम कानून का सहारा कुछ रोकने में लें जब यह रोकथाम का सरल, सस्ता व टिकाऊ रास्ता उपलब्ढ़ है यही तो लोग सोचते होंगे। ये भी सोचते होंगे कि क्यों अंधे कानून का सहारा लें जो लड़के लड़कियों, स्त्री परुष युवा व वृद्ध में कोई अन्तर ही नहीं करता ?

शायद शुरुआत यूँ ही होती होगी। बहुत से उन आचरणों पर रोक लगाकर जिसे समाज का एक काफी बड़ा वर्ग गलत मानता हो। सब चुप रहते होंगे। बहुत कम लोग विरोध करते होंगे। फिर कट्टर विचारधारा वाले शक्तिशाली होते जाते होंगे। उनकी संख्या बढ़ती जाती होगी। उनमें ऐसे लोग भी सम्मिलित होते जाते होंगे जिनकी कोई विशेष विचारधारा नहीं होती होगी। उन्हें बस लोगों पर पाबंदियाँ लगाने में अपनी शक्ति परिक्षण व प्रयोग का आनन्द मिलता होगा। तोड़ फोड़ मारपीट का आनन्द मिलता होगा। लोगों में व्याप्त होते भय से स्वयं की शक्ति पर अभिमान होता होगा। वे देखते होंगे कि सरकार, लोकतन्त्र , कानून कोई भी उन्हें रोक नहीं सकता। जितनी उनकी शक्ति बढ़ती होगी, जितना अधिक वे समाज पर अपना नियन्त्रण करते जाते होंगे उतना ही उन्हें रोकना कठिन होता जाता होगा। हमारा संविधान भी हमें हमारे अधिकार वापिस नहीं दिला पाता होगा। अधिकार कागजों में लिखे रह जाते होंगे। अलिखित कानून असली कानून बन जाता होगा।

एक दिन पुरुषों से भी कहा जाता होगा कि पैंट नहीं सलवार पहनो या पाजामा या धोती या ऐसा ही कुछ। तब पुरुष वर्ग हड़बड़ाता होगा कि स्त्रियों पर पाबंदी तो ठीक थी, उन पर ही तो हमारी संस्कृति, हमारे सांस्कृतिक पारम्परिक परिधानों को सुरक्षित रखने का उत्तरदायित्व था। यह क्या हो गया ? लड़कियों से स्त्रियों, स्त्रियों से लड़कों, लड़कों से पुरुषों तक पाबन्दियाँ कब और कैसे आ गईं। परन्तु अब तक वे असहाय हो चुके होते होंगे। अब उनके टखने न दिखने पर उन्हें भी गोली मार दी जाती होगी। उनका शव भी उनके विद्धालय के प्रागंण की शोभा बढ़ा रहा होता होगा। अब जब वे सोचते होंगे तो आश्चर्य करते होंगे कि टखने न दिखना भी अपराध हो गया ! क्यों, कैसे,कब से ! हम तो सोते रह गए !

तब शायद कोई साहसी लड़की कहती होगी कि यह सिलसिला तब से शुरू हुआ जबसे मुझपर पाबंदियाँ लगीं। तब तो आपको कोई विशेष कष्ट नहीं हुआ था। या फिर नहीं भी कहती होगी क्योंकि अब उसे सोचना नहीं आता होगा, अपनी बात कही भी जा सकती है, यह आभास ही नहीं बचा होगा। तब बुजुर्ग पुरुष भी पाबंदियों को जीते होंगे और एक नए कट्टरपंथी समाज के नागरिक बन अपने अपने टखने दिखाने में लग जाते होंगे।

एक सामान्य सहज काफी स्वतन्त्र समाज अब एक शिकंजे में जकड़ा कट्टर समाज बन जाता होगा। जहाँ पुत्रियाँ अनपढ़ होती होंगी, जहाँ जिस किसी से भी उनका जबर्दस्ती विवाह करा दिया जाता होगा। जहाँ अब पुनः स्वतन्त्रता लाने को विदेशी बुलाने पड़ते होंगे परन्तु इतना अधिक अंधकार छा चुका होता होगा, अंधकार इतना ठोस हो चुका होता होगा कि अब रोशनी की कोई भी किरण उसे सरलता से बींध नहीं सकती होगी। एक समाज जिसने अपने बच्चों को उचित मूल्य सिखाने के अपने कर्त्तव्य से बचने को मूल्य सिखाने का ठेका अन्य लोगों को देकर आराम से जीना चाहा होगा, वह तब शायद उस ऊँट की कहानी याद करता होगा जिसे जरा सा तंबू के अन्दर आने की अनुमति मिलने पर ऊँट ने पूरा तंबू घेर लिया था और मनुष्य को बाहर खदेड़ दिया था। तब शायद किसी को इसमें एक irony,एक paradox,एक विडंबना नजर आती होगी कि कल तक जो स्त्रियों के टखने ढकने में लगे थे वे आज पुरुषों के टखने खोलने में लगे हैं। और तब, तब बुजुर्ग पुरुष भी अपनी सलवार, पाजामा, धोती या जो कुछ भी ऊपर खोंसकर या कटवाकर अपने टखने दिखाने लगते होंगे। शायद कोई अति सावधान अपने टखनों पर बड़े बड़े अक्षरों से लिख भी देता होगा 'टखने'!

घुघूती बासूती

39 comments:

  1. बहुत सही शब्दों में बात कही है ...अच्छा लेख

    अनिल कान्त
    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  2. वर्तनी कि भूल सुधारः
    कोई विशेष* परिधान, विद्यालय*, उपलब्ध*,
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  3. सचमुच विचारणीय !

    ReplyDelete
  4. ऐसा ही होता है, मगर एक सजग समाज अपने आप को इससे बचा लेता है. मुझे लगता है हिन्दू भी सजग है. यहाँ महिलाओं पर क्या पहने, क्या खाए, कहाँ जाए का निर्णय कोई बाहरी व्यक्ति ले यह सहन नहीं किया जाएगा. हम एक स्वर में विरोध करेंगे.

    ReplyDelete
  5. hindu dharm kae so called rakshak kabhie hi shyaad apne ladko ko hindu dharm kaa paath padhaatey ho bas kewal yahi batatey haen "aurto par fabtiyaan kaso , unko maaro , unka balaatkaar karo " kyuki tum hindu purush ho dharm kae thaekaedaar ho .

    hindu dharm sanchita kahii likhee haen kyaa ??? kaun saa granth haen yae aur kehaa milaega . kisne isko likha aur kisne isko chapaaya . puraney naye sanskarano mae koi badlaav haen kyaa ???

    as usual a very good piece of post by you

    ReplyDelete
  6. बहुत सही बात, इस बात में मैं साथ हूँ।

    ReplyDelete
  7. हम तो समर्थन करेंगे. आभार.

    ReplyDelete
  8. बेहद सधी हुई, ईमानदार और खरी-खरी बात. अब इधर दावा कर जा रहा है कि हिन्दू जागृत है और हमारा सजग समाज है. मंगलौर में किसी श्रीराम सेना के कथित कार्यकर्ताओं ने महिलाओं को किसी पब में ज़मीन पर लुटा-लुटा कर पीटा और कर्नाटक सरकार खाना-पूरी भी नहीं कर रही है. इन कार्यकर्ताओं में से कई तो हिस्ट्रीशीटर अपराधी थे. यह है हमारा सजग और जागृत हिन्दू समाज! हिन्दुओं को निकृष्ट तालिबान में बदल देने की प्रक्रिया का परत दर परत खुलासा करती आपकी यह इतनी स्पष्ट पोस्ट पढ़कर भी इनकी आँख नहीं खुलती. हाँ, इतना अवश्य स्पष्ट होता है कि इनकी सीधी स्पर्द्धा तालिबान से है. समझ लीजिए कि ये यह समझ पाने की मनःस्थिति में भी नहीं रह गए हैं कि उंगली किस तरफ़ इशारा कर रही है.
    इससे पहले भी हिन्दू समाज के स्वयम्भू ठेकेदार प्रेमी युगलों की सरेआम ठुकाई करते देखे गए हैं लेकिन उन पर कोई कार्रवाई नहीं होती! ये लोग भारत के तालिबान नहीं तो और क्या हैं? हर स्तर पर इनका विरोध और हर हाल में इनकी घोर निंदा की जानी चाहिए.

    ReplyDelete
  9. हमारे यहां तो कट्टरपन्थ को माइनारिटी तुष्टीकरण की हवा मिलती है!

    ReplyDelete
  10. आपसे पूरी तरह सहमत.

    रामराम.

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब लिखा है आपने.. १०० % समर्थन है आपका

    ReplyDelete
  12. सटीक लेखन। भयावह तस्‍वीर का सजीव चित्रण। कल नहीं सोचा लेकिन आज भी थोड़ी ही देर हुई है वरना कल की तस्‍वीर कैसी होगी-कहना और सोचना रूह कंपा देता है। सार्थक लेखन के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  13. मुझको आपकी बात बिल्कुल सही लगी http://babloobachpan.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. सारे लोग ऐसे कट्टरपन का विरोध करें। जात और मज़हब की सीमा से ऊपर उठकर। तभी हालात बदलेंगे। वरना, तालिबान से लेकर श्रीराम सेना तक... कहीं भी, कभी भी, किसी भी नाम से हमारे हक कुचलते रहेंगे।

    ReplyDelete
  15. बहुत सही कहा..

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
  16. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

    ---आपका हार्दिक स्वागत है
    गुलाबी कोंपलें

    ReplyDelete
  17. व्यक्ति स्वातँत्र्य समाज का महत्त्वपूर्ण अँग है इसे कदापि खोने ना देँ
    बजरँग दल हो या तालीबानी या हीटलर या माओवादी, सबसे उपर
    है व्यक्ति की स्वतँत्र सोच और उसके हक्क की लडाई - ये याद रहे -
    अच्छा लिखा आपने ..
    - लावण्या

    ReplyDelete
  18. बेहद खरी खरी बातें की हैं आपने...साधुवाद....
    नीरज

    ReplyDelete
  19. सधी हुई बात सधी हुई शैली में कह दीं आपने।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  20. बहुत सही.....गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  21. जो समाज सजग और सतर्क नहीं होता, उसका पतन निश्चित है। कुछ भी अचानक नहीं होता। पहली ही बार में प्रतिवाद और प्रतिरोध आवश्‍यक है। पहली फिसलन को 'ऐसा तो चलता है' कह कर जब अनदेखा किया जाता है तो फिर स्‍खलन का रुकना असम्‍भव ही होता है।
    आपसे असहमत होने के लिए कोई बिन्‍दु नहीं।

    ReplyDelete
  22. बिलकुल सही लिखा आप ने,
    आप को गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  23. Thanks for such a wonderful article and pinning the problems down so boldly.

    I am surprised that still there are people who can claim that bhagwaa brigade is not following Taliban model. And people cant see that the politics of India is totally hijacked by religion, cast and regionalism. and a vast section of the society has been "communalized with proud".

    ReplyDelete
  24. सधी हुई सच्ची संयमित बात. बहुत बढ़िया.

    आपको एवं आपके परिवार को गणतंत्र दिवस पर हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  25. बहुत ही सामयिक 'whistle blower'आलेख के लिये हार्दिक आभार।

    ReplyDelete
  26. आपके आलेख से अक्षरशः सहमत हूँ!

    ReplyDelete
  27. सटीक,सच्ची,साहसिक और ईमानदारी से रखी गई बात्।सहमत हूं आपसे,पू्री तरह्।

    ReplyDelete
  28. Apne simit shabdo mai bahut sahi baat kahi hai.

    mai apki baat se sahmat hu...

    ReplyDelete
  29. kabhi "aurat" sheershak dekar kuch likha tha ....

    पल्टो रवायतो के कुछ ओर सफ्हे
    गिरायो इक ओर रूह
    दफ़न कर दो एक ओर लाश
    तहजीब के लबादे मे.........
    ख़ामोश रहकर भी
    किस कदर डराती है...

    ReplyDelete
  30. sahi tarah se aapne apni baat kahi hai is post me
    happy republic day

    ReplyDelete
  31. सही सच सोच के साथ लिखा है आपने ..

    ReplyDelete
  32. बेहद खरी खरी बातें की हैं आपने...साधुवाद....

    ReplyDelete
  33. बहुत सार्थक लेख ..........बहुत से ज्वलंत प्रश्न खड़ा करता हुवा. धीरे धरे दबे पाव आता हुवा कट्टरवाद सब को एक दिन लील लेगा. आपने इमानदार, सधे शब्दों में सही वक़्त पर सही तरीके से इस विषय को उठाया है

    ReplyDelete
  34. किसी भी ग़लत का घुन ऐसे ही अन्दर अन्दर आहिस्ते आहिस्ते लगता और फैलता है.समय रहते उसे न रोका हटाया गया तो अन्दर ही अन्दर सब खोखला हो जाता है,चाहे वह इश्लाम्वाद की जाहिलता हो या स्त्री पुरूष द्वारा अपनाए गए कुसंस्कार.एक मानवता को खोखला करती है तो दूसरी संस्कार और संस्कृति को.

    ReplyDelete
  35. जहा कट्टरता मानवीय अभिव्यक्ति ,का इच्छाओ का गला घोटता है वही अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का भी कोई दायरा तय होना चाहिए !अति दोनों ही स्तिथियों मै अस्विकरीय है ! श्री राम सेना के कृत्य का मै समर्थन नहीं कर रहा ,परन्तु उसका विरोध करने वाले या तो उस नग्नता को स्वीकार करते है या पूर्वाग्रह से ग्रसित है !

    ReplyDelete
  36. आप के गद्य की धार का जवाब नहीं.. मैं आप का फ़ैन हूँ!

    ReplyDelete
  37. बगैर विचारधारा वाले लोगों को ऐसे काम के लिए जुटा लेना बड़ा आसान होता है और बहुत हद तक इसके पीछे वही तर्क काम करते हैं जिनकी और आपने इशारा किया है. ध्यान से इन लोगों को देखें तो पता चलता है कि ये वे कुंठित युवा हैं जो भीतर ही भीतर महिलाओं के साथ के लिए तरसते हैं और जब इसमे सफल नहीं हो पाते तो उन्हें लगता है कि किसी और को भी महिलाओं के साथ का हक नहीं है.

    ReplyDelete
  38. संचेतना जागृत करते आलेख के लिये साधुवाद....

    ReplyDelete
  39. कट्टरपंथ क्या है............दरअसल हमारे भीतर छिपा हुआ दानव.......राक्षस.......जो सदा किसी ना किसी बहाने हमारे बाहर आकर मानवता का खून पीने को व्याकुल रहता है.......इसके ख़िलाफ़ हम कहते तो बहुत कुछ हैं.....मगर शायद कुछ कर नहीं पाते....कब हम कुछ कर पाने के काबिल हो पायेंगे......??

    ReplyDelete