Monday, February 25, 2008

काल

मैं प्रतिदिन थोड़ा और मर रही हूँ
किसी दिन कुछ अधिक
तो किसी दिन थोड़ा कम
इस नित दिन मरने से
क्या एक बार ही
पूरा का पूरा मरना
कुछ बेहतर ना होगा?
क्या एक बार में ही
काल, तुम मुझे नहीं मार सकते?

मैं थक गई हूँ
बेहद थक गई हूँ
या तो मुझे मार लो
या मुझे कुछ थमकर साँस लेने दो
ताकि फिर से मैं
इस असमान युद्ध में कूद सकूँ
और काल, बन सकूँ मैं
तुम्हारे मनोरंजन का साधन !

परन्तु क्या तुम्हें पता है
कि तुम भी हो मेरे
मनोरंजन का ही एक साधन
क्योंकि मैं थक चाहे जाऊँ
ऊब भले ही जाऊँ
तुमसे लड़ते लड़ते
परन्तु हारती मैं
कभी नहीं हूँ ।

मरने पर भी नहीं हारूँगी
नहीं होगी एक बेबसी मुझमें
तुम सोचोगे कि यह विजय है तुम्हारी
परन्तु देखोगे तो मेरे अधरों पर
एक मुस्कुराहट
कुछ ऐसी जैसे
तुम भी रहे हो
सदा से मेरे मन बहलाव
के ही एक साधन !

घुघूती बासूती

22 comments:

  1. निराशा से आरम्भ ....धीरे...धीरे..आशा की ओर... पढ़ते पढ़ते उदास होते चेहरे पर मुस्कान ला दी.. अंतिम पंक्तियों में जीवन दान देने का भाव अति सुन्दर !

    ReplyDelete
  2. निराशा से आशा की बजाय आशा से और आशा वाली अभिव्यक्ति की प्रतीक्षा है।

    ReplyDelete
  3. शुरू मे पढ़कर तो हमे लगा की आप फ़िर से ऐसी कवितायें क्यों लिखने लगी पर अंत पढ़कर अच्छा लगा।

    ReplyDelete
  4. आज ही तो आपसे कहा कि आपको पढ़कर हिम्मत मिलती है…

    ReplyDelete
  5. अच्छी और सुंदर कविता.
    मौत से जंग बहुत अच्छी लगी.
    और अंत मे मौत सचमुच हार गई.
    वाह!

    ReplyDelete
  6. परन्तु हारती मैं
    कभी नहीं हूँ ।
    jis shakhs ki yeh spirit ho, use aisi baat nahi sochani chahiye. meri samajh me yeh negative hai. aap to positive attitude waali hain. ladne ka hausala, badi cheez hai... jo aap me hain.

    ReplyDelete
  7. bahut sundar,aakhari panktiyan bahut aashavadi hai.

    ReplyDelete
  8. मरना भी सीखा जाये। बिना मरे जीना भी नहीं सीखा जाता। रोज मरें रोज जीने को!

    ReplyDelete
  9. आप की इस जिजिविषा को प्रणाम। मृत्यु पर विजय ही तो मनुष्य का अंतिम स्वप्न है। आप ने उसे पूरा कर लिया।

    ReplyDelete
  10. काश आप जैसी हिम्मत सब को मिले। ऐसी स्कारातमक सोच के होते तो काल आने के साथ ही हार गया था…जितना जिएं जिन्दादिली से जिएं जीना इसी का नाम है और आप ये कर रही हैं ,

    ReplyDelete
  11. बहुत हृदयस्पर्शी

    दीपक भारतदीप

    ReplyDelete
  12. ऐसा न हो तो जीवन निरस न हो जाए

    ReplyDelete
  13. वैचारिक द्वन्द्व को प्रदर्शित करती एक बढ़िया रचना॰॰
    कृपया यह न भूले कि हम आप से बहुत कुछ सीख रहें हैं

    ReplyDelete
  14. सोचने को मजबूर करती है आपकी कविता...
    मन में उमड़ती निर्मल भावनायें काव्य में प्रस्फ़ुटित हो रहीं हैं ....अच्छा लगा

    ReplyDelete
  15. bahut sahi u-turn le liya ant me, varna hum kehne wale thai ki ye nirasha ke geet kyon. aati sundar.

    kaal yaani yamraaj na

    ReplyDelete
  16. ghughuti jee,
    saadar abhivaadan. bahut samay se apke blog par tippnni nahin kar paar rahaa tha magar aaj safal ho hee gaya. niraasha bharee panktiyaan kyon? magar shukra hai ki ant achha hai .

    ReplyDelete
  17. Waah,bahut badhiya.Aisi hi likhti rahen.Aapme bahut kuch sundar rachne ki pratibha hai,uska sahi upyog hi aapko kaljayi banayega.Meri shubhkamnayen aapke saath hain.
    Aapki bahan.
    Ranjana

    ReplyDelete
  18. सब कुछ ....
    फिर भी हार नहीं मानूगी, इसी बात मे दम है ।
    भावुक कविता

    ReplyDelete
  19. मैं केवल एक ही शब्द कह सकता हूं और वह शब्द है ----- उम्दा

    ReplyDelete
  20. बहुत बेहतरीन...आनन्द आ गया..वाह!!!

    ReplyDelete