Tuesday, June 12, 2007

वर्षा तुम जल्दी आना

फिर से काले बादल छाए हैं
जल गगरी भर भर लाए हैं,
बादल गरजे,बिजली चमके
अम्बर दमके,धरती महके ।

प्यासी धरती, प्यासी नदिया
सूखे तरू, सूखी बगिया,
सब तेरी राह ही तकते हैं
सब जल बिन आज सिसकते हैं ।

आओ वर्षा अब तुम आओ
इस सृष्टि को तुम नहलाओ,
रंग भरो तुम फिर से जग में
उमंग जगाओ रग रग में ।

आओ जब तुम तो मैं नाचूँगी
तेरे जल में बच्ची बन मैं खेलूँगी,
छत पर इक ऐसा कोना है
वहीं पर तूने मुझे भिगोना है ।

देख नहीं कोई पाएगा
जान कोई नहीं पाएगा,
तुम और मैं फिर से खेलेंगे
तेरे संगीत पर पैर फिर थिरकेंगे ।

अबकी बार ना मैं रोऊँगी
बच्चों की याद में ना खोऊँगी,
पकड़ूँगी मैं तेरे जल के चमचम मोती
ना बोलूँगी काश जो साथ में बेटी होती ।

अकेले रास रचाऊँगी मैं
तेरे जल में खो जाऊँगी मैं,
देख तेरी और मेरी क्रीड़ा
भाग जाएगी मन की हर पीड़ा ।

अबकी ना नयनों नीर बहाऊँगी मैं
बस तेरे स्वागत में लग जाऊँगी मैं,
ना जाऊँगी यादों के गलियारों में
ना भटकूँगी फिर उन राहों में ।

बच्चों को इक पाती लिख दूँगी
तुम भी नाचो वर्षा में ये कह दूँगी,
वर्षा तुम जल्दी से आ जाना
मेरे तन मन को भिगा जाना ।

घुघूती बासूती

15 comments:

  1. लगता है अब आपकी पुकार सुनकर जल्दी से वर्षा रानी आ ही जायेंगी...हम भी इंतजार में हैं...

    ReplyDelete
  2. ऐसी माताएँ चाहिए । जो "बच्चों को इक पाती लिख दूँगी
    तुम भी नाचो वर्षा में ये कह दूँगी,"
    और साथ साथ - "अकेले रास रचाऊँगी मैं
    तेरे जल में खो जाऊँगी मैं," - यह मिजाज रखें । साधुवाद ।

    ReplyDelete
  3. वर्षा............... अपने आप मे एक सम्पूर्ण महकाव्य है. इस महकाव्य के लिये काव्य रचना पर साधुवाद.

    ReplyDelete
  4. जी पिछ्ले सप्ताह की गर्मी से जूझते जूझते न जाने कितनी बार बारिश का चर्चा हुआ... काश बादल और इन्द्रदेव आप की पुकार सुन लें और रिमझिम...नही नही... धडाके से बरसें.

    ReplyDelete
  5. खाली नीड़ में हर खुशी भी दुखभरी यादें जगा देती है. आप की कविता में तो सारा उपन्यास छुपा बैठा है.

    ReplyDelete
  6. शिल्पित हो कल्पना आपकी
    आशा बरखा बन कर बरसे
    जो भी हो प्यासा- मन, धरती
    हर कोई अब हरषे, सरसे

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया!

    बारिश………………………
    आपकी पुकार के बाद आ ही जाना चाहिये अब तो बरखा रानी को।
    बढ़िया , भावपूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  8. पुनः एक बेहतरीन रचना. पुकार अवश्य सुनी जायेगी, शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  9. व्यापक विषय को बड़े ही संजीदा ढंग से पेश किया है और यह उम्मीद आपसे ही होती है हमेशा…।
    बहुत अच्छी रचना!!!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर रचना जिसका प्रवाह प्रभावित करता है।

    बच्चों को इक पाती लिख दूँगी
    तुम भी नाचो वर्षा में ये कह दूँगी,
    वर्षा तुम जल्दी से आ जाना
    मेरे तन मन को भिगा जाना

    संवेदित भी किया है आपने अंतिम पंक्तियों में। लगता है इस बार मानसून जल्दी आयेगा।

    *** राजीव रंजन प्रसाद

    ReplyDelete
  11. Anonymous2:50 pm

    achchee bhawna. magar ek sath kai tarah ke vibhram bhee. aisa kyon? mornee kee tarah, jo varsha ke aagman par khushi se naachtee bhee hai to kabhee rone lagtee hai?

    :)

    ReplyDelete
  12. काश मेघ राज आपकी पुकार सुन कर जल्दी आ जायें..हम दिल्ली वासी बहुत आहत हो चुके है..बिन बारिश के सभी का बुरा हाल है...एसे में आपकी कविता ने मौसम सुहाना बना दिया...:)

    सुनीता(शानू)

    ReplyDelete
  13. please please O'thy god of rain .. shower the grace and take all the heat away..so we tunes as sur and taal ...and I'm always dancing with you in the summer rain.

    Abhi

    ReplyDelete
  14. प्रकृति का एक ऐसा संश्लिष्ट चित्र प्रस्तुत किया है जिसमें अपनी अनुभूति की व्यापकता के कारण प्रकृति के रम्य (वर्षा) एवं भयानक रूप (प्यासी धरती, प्यासी नदिया आदि)की बड़े सुंदर ढंग से झांकी दिखाई है।
    "अबकी ना नयनों नीर बहाऊँगी मैं
    बस तेरे स्वागत में लग जाऊँगी मैं,
    ना जाऊँगी यादों के गलियारों में
    ना भटकूँगी फिर उन राहों में ।"
    उक्त पंक्तियां बहुत अच्छी लगी।

    ReplyDelete
  15. हमें भी वर्षा का इंतजार है , मेरा भी पसंदीदा मौसम है। अति सुंदर कविता

    ReplyDelete