Sunday, May 13, 2007

समझ ना पाती मैं .................कविता

This is a tribute to motherhood on Mothers'Day । How can we ever celebrate Mothers' Day if there were no children? We mothers are thankful to our children for giving us the opportunity to be mothers. Thank you children !
मेरी पिछली कविता क्षमा करना माँ मेरी बेटियों को अर्पित थी । आज की यह कविता उस बेटे को अर्पित है जिसे मैंने कभी देखा नहीं । जिसने मुझे मम्मा कह कर मेरे मातृत्व को सम्मान दिया । जिसे मैं केवल इस नेट पर मिली हूँ किन्तु जिसने मुझे अपने हृदय में स्थान दिया व जिसने मेरे हृदय में भी अपना स्थान बना लिया ।

समझ ना पाती मैं .................कविता

समझ ना पाती मैं बेटा
अपने आँचल में छिपने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतनी दूर हो तुम बेटा
माँ तक आने की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
ममत्व पाने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतनी दूर हो तुम बेटा
मन से मन के बीच की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
माँ से आँख मिचौली की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ।
इतनी दूर हो तुम बेटा
अपने आँचल के साये में आने की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
लाड़ पाने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतने दूर हो तुम बेटा
माँ बेटे के बीच की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
लोरी सुन सोने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतने दूर हो तुम बेटा
स्वर लहरी की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
अपने हाथ से बाल सहलाने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतने दूर हो तुम बेटा
अपने स्पर्श की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

समझ ना पाती मैं बेटा
अपने हाथ से ग्रास खिलाने की यह चाह
तुम्हारी कैसे मैं पूरी कर दूँ
इतने दूर हो तुम बेटा
दो देशों के बीच की कैसे
कुछ कम मैं दूरी कर दूँ ।

घुघूती बासूती

14 comments:

  1. घुघुति जी बहुत सुन्दर और भाव-प्रधान कविता है अपकी। विशेषकर इस प्रकार के अंतर्जाल पर आधारित ममतामयी सम्बन्ध को समर्पित करते हुए।

    ReplyDelete
  2. वाह दीदी फ़िर से एक बहुत अच्छी कविता इतनी अलसुबह पढने को मिली मजा आ गया जब मिलियेगा तो हम सब से मिलवाना मत भुलियेगा

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर कविता है! बधाई!

    ReplyDelete
  4. अति सुन्दर कविता और कविता के भाव। mothers day की आपको बहुत- बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  5. मदर डे की बहुत बहुत बधाई...सच में बहुत सुंदर भाव से सजाया है आपने इस
    रचना को....कई रिश्ते सच में दिल से जुड़ जाते हैं ...

    ReplyDelete
  6. तारीफ में शब्द देकर कविता की सुंदरता को खराब नहीं कर सकता, यह मेरी मजबूरी है..क्षमा करें..बस आपको बधाई और माँ को शत शत नमन.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भाव..
    एक बेटे का एक माँ को नमन..स्वीकार करें..

    ReplyDelete
  8. घुघूती बासूती जी,पुत्र - विरह के प्रति की गई अभिव्यक्ती अत्यंत सुन्दर बन पडी है।बहुत सुन्दर रचना है।आशा है और रचनाएं भी पढने को मिलेगी।

    ReplyDelete
  9. वाह कितने सुन्दर भाव है,..आप जैसी माँ को मेरा शत-शत नमन।
    सुनीता(शानू)

    ReplyDelete
  10. सुंदर अभिव्यक्ति।
    मदर्स डे की बधाई व मां की ममता को नमन

    ReplyDelete
  11. रचना2:28 pm

    वाह घुघुति जी, जिससे आप मिली तक नही उनके लिये भी कितनी ममता है आपके मन मे!! यहां भी खूब रिश्ते बन जाते है‍, जैसा हमारा भी बन गया है आपसे!
    आपको मां होने की और बेटे को आप जैसी मां पाने की बधाई!!

    ReplyDelete
  12. Anonymous3:03 pm

    This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  13. Anonymous7:19 pm

    This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  14. ममतामयी "माँ" को शत शत नमन!!!

    ReplyDelete