Wednesday, March 28, 2007

ये दर्द

ये दर्द ही मेरा मित्र और मेरा साथी है,
सबने छोड़ा मझधार बस दर्द ही मेरा साथी है।

छूटे वे सब लोग जो कितने प्यारे थे,
संगी साथी,माँ,बहन और भाई जो हमारे थे
वो लोग,वो रिश्ते,वो नाते जो सब सहारे थे,
वो प्यार जिसके लिये हम सबकुछ हारे थे,
वो बचपन के खेल जो कितने न्यारे थे,
वो जवानी का खुमार जिसपर हम सबकुछ वारे थे।

गुजरे वो सब दिन जब सोने सा रंग हमारा था,
हिरणी सी थी चाल,मृगनयनी नाम हमारा था,
बादल से थे बाल,चन्द्रकिरण सा रूप हमारा था,
मुट्ठी में थी किस्मत,सारा संसार हमारा था,
नन्हें पैरों की आहट,बच्चों की किलकारी से गूँजता घर हमारा था,
पीपल के खनकते पत्तों, घण्टियों की गूँज सा हास्य हमारा था।

कितने सपने आँखों ने देखे,कितने अरमान हमारे थे,
तब भी होती थी रात पर आसमान में कितने तारे थे,
मीठे थे तब आँसू, न आज से तब वे खारे थे,
होते थे तब भी झगड़े, पर वे पल कितने प्यारे थे,
बिखरे थे तब भी सपने पर मिलकर ही वे संवारे थे,
न होती थी जीत, पर ना वह, ना हम हारे थे।

ना होता था दर्द, ना दर्द से हमारा नाता था,
खुशहाली थी सब ओर और दिल कैसे गीत गाता था,
प्रेम रस से भरा था मन, प्रेम गीत मन गुनगुनाता था,
कब होती थी रात, कब नया दिन आता था,
हर दिन, हर पल एक नयी खुशी लाता था,
यही तो था वो प्यार जो मन में कमल खिलाता था।

और आज,
ये दर्द ही मेरा मित्र और मेरा साथी है,
सबने छोड़ा मझधार, बस दर्द ही मेरा साथी है।
दर्द ही है नाव, दर्द ही हमारा माझी है,
सबने छोड़ा मझधार, ये दर्द ही साथ हमारे बाकी है।

घुघूती बासूती

21 comments:

  1. सुन्दर और ईमानदार..!!

    ReplyDelete
  2. ये क्या हुआ? आप तो ऐसी न थीं...वैसे, भाव की गहराई बहुत है..एक अद्वितीय रचना. बधाई.

    ReplyDelete
  3. बहुत ही अच्छे तरीके से दर्द का मर्म बताया है आपने, मुझे ये लाइनें बहुत अच्छी लगी:
    ये दर्द ही मेरा मित्र और मेरा साथी है,
    सबने छोड़ा मझधार, बस दर्द ही मेरा साथी है।
    दर्द ही है नाव, दर्द ही हमारा माझी है,


    मुझे एक कविता भी याद आयी है, अपनी साथी चिट्ठाकार, रमा जी की लिखी हुई :

    कौन किसके दर्द में कोई रोता है?
    आदमी अपना दर्द खुद ही ढ़ोता है॥
    वे आए हाल पूछने औपचारिकता वश।
    बस इसके बाद उनका अता-पता न होता है॥

    हंसने वाले के साथ सभी हंसते हैं ।
    रोने के लिए किसका जिगर बड़ा होता है?
    न रखो जमाने से हमदर्दी की उम्मीद कोई।
    क्योंकि जमाना सदा ही बेदर्द होता है ॥

    अगर मिटाना हो दर्द तो एक दर्द और ले लो।
    हर दर्द का इलाज बस यही होता है ॥
    -रमा द्विवेदी जी

    ReplyDelete
  4. बहुत बढिया रचना....
    किसी ने ये भी कहा है
    कुछ गीत तो दुनिया की खातिर सुर ताल में गाये जाते हैं
    कछ गीत (दर्द) मगर तन्हाई में, खुद को भी सुनाये जाते हैं

    ReplyDelete
  5. ये दर्द ही मेरा मित्र और मेरा साथी है,
    सबने छोड़ा मझधार, बस दर्द ही मेरा साथी है।

    yah dard hi toh hai jo dil mein kuch tadap kuch aag si jaga jaata hai ....bahut sundar rachna ,,

    ReplyDelete
  6. आह, ये दर्द!

    इस आह को क्यों चाहिए एक उम्र असर होने तक?
    इस आह को नहीं चाहिए कोई उम्र असर होने तक।

    ReplyDelete
  7. दर्द नशा है इस मदिरा का
    विगत स्मृतियाँ साक़ी हैं
    पीड़ा में आनंद जिसे हो
    आए मेरी मधुशाला.
    बच्चन जी की पंक्तियाँ याद आ गईं. बहुत सुंदर.
    अनामदास

    ReplyDelete
  8. ashish3:23 pm

    Sir Bahut khoobsurat pryas hain..

    ashish

    ashishjaipuri.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. इतनी सारी चीजों को खोने के बाद मिला हुआ दर्द तो कितना बेशकीमती होगा , कवि को उस दर्द में जो आनन्द निहित आनन्द की तलाश करनी चाहिये।

    ReplyDelete
  10. Anonymous8:03 pm

    बेहद खूबसूरत रचना।

    -पीयूष

    ReplyDelete
  11. दर्द ! तुम्हारा आभारी हूँ
    तुम न होते तो जीवन में
    है उल्लास कौन कह पाता
    एक पपीहा पीहू पीहू कहता
    फिर थक कर सो जाता
    लेकिन मेरे अतिथि, तुम्हारे
    कदमों का चुम्बन पाते ही
    मेरे मन की अँगनाई इक
    निर्धन की जागीर बन गई

    ReplyDelete
  12. दर्द ठसक से हममें रहता है.
    हमें ही खाता है, हमें ही रुलाता हैं.
    हमसे गीत गवाता है.
    नचाता है.
    इसके फन्दे से जितना जल्दी हो, निकलिये.
    यह साथी है - यह गफ़लत मत पालिये.
    इस असुर के संग की आदत मत डालिये.

    ReplyDelete
  13. दर्द हमें ही खाता है
    हमें ही रुलाता है
    हममें ठसक से रहता है
    बेगारी कराता है
    गीत गवाता है
    जाने क्या रिश्ता-नाता है
    खुशी चाहे जरा सी हो - पकड़ लीजिये
    न हो तो ईजाद कर लीजिये
    इस गम का साथ न कीजिये.

    ReplyDelete
  14. आपकी ये कविता पढ़ कर मुझे अपनी पसंदीदा कविता की ये पंक्तियाँ याद आ गईं ।
    ओ उदासी की किरण भटकी हुई क्या कह रही तू
    धुँधलके के पार निस्सार सी क्यूँ बह रही तू

    प्रीत का कोई वचन है
    नित निभाना प्रणय प्रण है
    नयन में सपना जगा है
    दर्द भी लगता सगा है

    ReplyDelete
  15. Get disentangled from sorrow as early as possible. Take it from me, Dard is the asur (demon) which lives in you, eats you and makes you invent fine poetry in its praise.
    Invent happiness if it is not there. Cling to whatever little quantity it is in. Sing in the praise of happiness - a flower, a child, anything. Keep distance from Dard!

    ReplyDelete
  16. rachana11:33 pm

    'दर्द' को परिभाषित करती एक बहुत ही उम्दा कविता, और सब लोगों की टिप्पणी देखकर मुझे भी ये कहना है--
    दर्द होता है, फिर भी नही कराहते हो!
    आदमी हो, क्यूँ हैवान होना चाह्ते हो?

    कहते हो कि कुछ भी नही चाहिये तुम्हे!
    आदमी हो, क्यूँ भगवान होना चाह्ते हो?

    ReplyDelete
  17. The tears that never were cried,
    Can heal our lives if we pause.
    But if we recover our stride,
    In sadness we'll live with our flaws.

    Abhi

    ReplyDelete
  18. कविता में पीड़ा है।

    ReplyDelete
  19. sunder aur bhavpurn kavita ke liye badhai.

    ReplyDelete
  20. बेहतरीन कविता, ye दर्द ही है जो अंत तक यारी निभाता है..

    ReplyDelete