Tuesday, March 25, 2008

क्यों तुम डरते हो

क्यों मुक्त हो जाने से तुम डरते हो
पर बन्धन के नाम से बिदकते हो,
बान्धूँ या छोड़ूँ तुम्हें, ओ मीत मेरे
क्यों इस निर्णय से सिहरते हो ?

तुमने रच डाला है शब्दों का जाल
अब उसमें ही तुम आ फंसते हो,
जब फंस जाते हो तो तड़पते हो
कसूँ या छोड़ूँ तुम्हें तुम्हारे ही हाल ?

चाहत मेरी कोई ऐसी तो न थी कि
करना पड़ता तुम्हें सबकुछ ही वार,
कुछ शब्दों को ही था माँगा मैंने
फिर चलती क्यों यूँ दिल पर धार ?

ना चाहा था कुछ लेना देना
तेरे जग में ना माँगा मैंने स्थान,
फिर क्यों लगता कि चोर हूँ मैं
ले भागी तेरे हृदय को अपना मान ?


घुघूती बासूती

12 comments:

  1. Anonymous2:53 pm

    इसलिये लगता है की चोर हो तुम
    भागी हो लेकर हृदय का दान
    क्योकि बन्धन की चाह सिर्फ़ तुमको थी
    चाहें बंधी हो तुम या बंधा हो तुमने
    इसमे क्या है फरक
    कहा तों तुमने ही था
    चलो प्रीत करे सामजिक व्यवस्था के सुपुर्द
    कुछ शब्दों को मांगो तुम या माँगा जीवन भर का साथ
    माँगा तुमने दिया मेने फिर क्यों आज
    गलानी हैं तुमको
    सच कहो क्यों बन्धन रहित
    नहीं एक हो सकते थे हम
    पुरूष को बाँध कर पुरूष से बाँध कर
    ही क्यों होती हैं नारी पूर्ण
    बताओ प्रिये प्रश्न
    तुम्हारा हमेशा क्यों
    रहता हैं अधूरा

    ReplyDelete
  2. Anonymous3:27 pm

    mehek ने कहा…
    shayad ek nari ka pyar bhara bandhan koi purush nahi samajh sakta,wo koi sankhal nahi hotajis mein nari usse bandhana chahti hai,wo ek khula aakash hota hai jis mein wo apna aashiyan sajati hai,ghughuti ji bahut bhav sampurna,bahut khubsurat kavita hai,aur prashna ka teer sidha kisi ko chubh gaya lagta hai uparwali tippani padhkar.

    ReplyDelete
  3. ना चाहा था कुछ लेना देना
    तेरे जग में ना माँगा मैंने स्थान,
    फिर क्यों लगता कि चोर हूँ मैं
    ले भागी तेरे हृदय को अपना मान ?


    --अरे, कुछ पुराने अनुभाव ऐसे रहे कि आदतन डरने लगे.

    ReplyDelete
  4. मुझे तो लगता है दोनो ही एक दूसरे के हृदय को चुराये बैठे होते है...यह सब गलत बात है नारी कुछ नही चाहती है आज तो जमाना बिलकुल बदल गया है...दोनो ही बराबर है और दोनो की चाहत दोनो की जरूरत भी बराबर हैं...त्याग भी दोनो ही करते हैं दर्द भी दोनो को ही होता है एक दूसरे बिछड़ने का बस फ़र्क इतना है नारी मन कोमल होता है आँखो में गंगा-यमुना बहती रहती है और पुरूष चाह कर भी रो नही पातें...:)

    ReplyDelete
  5. प्रेम में बन्धने का अपना एक नशा होता है.वो मीठा दर्द, प्रेम करने वाली नारी ज़िन्दगी भर अपने दिल में संजो कर रखती है.हां कभी कभी किस्मत से पुरुष भी स्वत: ही प्रेम बन्धन में बंधने को उद्दत हो उठता है.

    ReplyDelete
  6. achchi rachna ke liye badhayi....hindi men nahin chap pa raha hun....

    ReplyDelete
  7. achchi rachna ke liye badhayi....hindi men nahin chap pa raha hun....

    ReplyDelete
  8. निश्चित रूप से डर मनुष्य का विवेक और साहस दोनों को नष्ट कर देता है , अच्छी रचना , बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  9. neeraj tripathi8:22 pm

    बढ़िया रचना है

    ReplyDelete
  10. Hello I just entered before I have to leave to the airport, it's been very nice to meet you, if you want here is the site I told you about where I type some stuff and make good money (I work from home): here it is

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब

    ReplyDelete